गुरुवार, 7 दिसंबर 2017

bundeli laghukatha- rashi singh

बुंदेली लघुकथा के द्वार पर
राशि सिंह, मुरादाबाद
एम. ए. अंगरेजी साहित्य, बी.एड., एलएल. बी.
१. सूर्यास्त
*
''अब काहे बैठे हो जा तरे से मुँह लटकाये,जाओ! हाथ-पाँव धोय लेओ और गैयन के हरियायी मिलाय आओ।'' ताशला ने अपने पति चरन सिंह को समझाते हुए कहा ।
''अरे का करैं कछऊ समझ में नाय आ रई। एक तो जो अंबर पर बादर तनो पडो है और मेरे मन में बिजरी चमक रही है, राम जाने का हौयगो?''चरन सिंह ने बेचैनी से टूटी हुई खाट से उठते हुए कहा ।
''अरे तुम चिंता नाय करो -ऊपर बारो इतनो निर्दयी नाय जो हमारी फ़सल को नुकसान पहुँचायगो।''-ताशला ने भरोसे सें कहा ।
''देख ताशला! इते फ़सल को कोई भरौसो नाय है और उते सीमा पर हमारो लाल तैनात है गयो। मन भौत घबराय रहो है
मोय दोनों लाल मुश्किल में आंय ।''-चरनसिंह अपने कुर्ते की जेब को बेबजह टटोलते भए बोलो।
''दोनों लाल? हमाओ तो!''
''हओ, हमाओ एकई लाल आय पर मैं तो जा फ़सल को भी अपनो लाल मानत हौ। का करौं ?''चरन सिंह ने मेहरारू की बात काटत भए कहो।
'तबई आसमान में बिजुरी कौंधी और तेज बारिस के साथ ओले पड़ने लगे। ''ताऊ! प्रकाश की चिठिया डाकिया दे गओ है !'' कैत भए एक पडोसी बारिश में भीगत-भगत चरनसिंह की झुपड़िया में दाखिल भओ।
''पिता जी! दुश्मन ने हमारे कैम्प पे हमला कर दओ है। हम दो-दो हाथ कर रए मनो कछू अनहोनी होय तो अपनो और अम्मा को ध्यान रखिओ।'' पढ़तई चरनसिंह का सिर घूम गओ। ऐसो लगो मनो जिनगी को सूरज अस्त होबे बारो है।
तालशा ने देखतई चरण सिंह के हात सें गिरी चिठिया उठा खें बाँची और कई 'मन काए गिरात हो, बा देखो इतनी बारिस होय खें बाद भी बा चिरइया घोंसला नई छोर रई। जा लेओ सूरज देवता सोई बिदा माँगबे काजे झाँकन लगे मनो बे बे कल्ल सकारे फिर आजैहें। जॉन कहें बाद सूर्योदय नई हो, कबऊँ देखो आय ऐसो सूर्यास्त?' कैत भई त्रिशाला दिया-बत्ती करन लगी।
७-११-२०१७
***
२. गिरगिटान
*
''अब बात नें बनेगी जी!लल्ला को दूसरो ब्याओ करन पडैगो ।'' ठकुराइन ने ठाकुर साहब के हुक्के में तम्बाखू की पुडिया खोलत भए कहो ।
''पर भओ का है? कैसी बौरा रही है? काए अनाप-शनाप बक रही है?'' ठाकुर साहब ने गुर्राते भए टोंको।
''अब हमकौ दादी बननो है बस्स, हम कच्छू ने मानें।''ठकुराइन ने पल्ला संभालते भए तिरछी नज़ए सेन ठाकुर कौन देखत भए बात पूरी की।
''जा बहुरिया नें बन सकत माँ, जाय तो निकार देओ घर से ।''ठकुराईन ने ठाकुर साहब के नजीक आते भए मन की बात काई।
''अरे! काहे सिर पर चढ़ी आत हो?''ठाकुर साहब ने झल्लाते हुए कहा। ''आज लल्ला को भी भ्रम मिट जायगो। गओ है डाक्डरानी के धौरे बहुरिया को इलाज करबाबे।'' कहत भए दोनों जोर से हँस परे।
''अरे बहू! लल्ला को का है गयो? किते आय? संगै नई आओ?''ठकुराइन ने मुतके सवाल एकई सात पूछ लए।
''माँ जी! वो , वो !''
''अरे का बो-बो लगा रई है? जल्दी बता, का है गओ?'' ठकुराइन ने परेशान होत भए पूछी।
''बे दवाई लेबे गये हैं''
''अरे दवाई से कछू न होयगो, सब बेकार है, तेरे न होयगी औलाद।'ठकुराइन मूं बनात भी बड़बड़ाई।
''माँ जी! बे अपनी दवाई लेने गये हैं, हम.. हमें... तो बिल्कुल ठीक बताओ है डाक्टरनी बाई ने।''बहू ने सकपकाते हुए कहा और जान बचात भई अपने कमरा में घुस गई ।
''अब कौन खों ब्याओ करेगी?'' ठाकुर साहब ने व्यंग से कहा।
''अरे नाय! हम नांय मान सकत के हमाए लल्ला में कौनऊ कमी आय? मनो कछू होय भी तो मेहरारू को धरम है मरद को साथ निभाए।' रंग बदलने लगे थे दोनों और खिड़की सेन झाँक री हटी गिरगिटान।
६-११-२०१७
***
३. फ़ैसला
*
पंचायत जुटई हती के पुरानी फटी धोती में खुद को छिपाबे की कोसिस करती एक औरत डरते भए हाजर भई। ओई की आड़ में एक सोला-सत्रा साल की मोंड़ी पुरानी सी चुन्नी सेन सर ढँके हती। भीड़ ने दोऊ जनी को रास्ता दओ, फुसफुसाहट बड़ गयी ।
''सरपंच साब जा डायन आय। अपने खसम कहें खा गई। एई के मारेगाँव में बीमाबीमारी फ़ैल रई । जाए गाँव सें निकार देओ एक बोला। जाए जिन्दा जला दो ।' दूसरा चिल्लाया ।
''कलई मोर बच्चा मर गओ, जाई डायन खा गयी ओको।''इस बार एक महिला चिल्लाई।
''दोऊ माँ-बिटिया खें कुये में धक्का दओ जाए सरकार।''इस बार फिर भीड़ में से आवाज आई ।
दोई माँ-बेटी थर-थर काँप रईं हतीं। बे एक दूसरे सें लिपट के हिम्मत रखबे की कोसिस कर रई हतीं।
''जाई औरत डायन आय?'',सरपंच जी ने ओई औरत की तरफ उंगरिया उठा खें पूछो।
''हओ सरकार'' सबनें तुरतई कई।
''तुम ओरें कैत तो आज सेन से एक महीने काजे हम ईखों गाँव निकार दैहें मनो बाके बाद गाँव में कौनउ मौत भई तो ओई घर के लोग जिम्मेदार हुईहें और उनको सोई जाई सजा दई जईहे।''सरपंच जी ने फ़ैसला सुनाओ तो भीड़ को साँप सूँघ गओ ।
''काए, अब काए नई बोल रए कछू? जे माँ-बिटिया गरीब-बेसहारा आंय सो तुम औरन मदद करे की जगा डायन कै रए, गाँव सें निकार खें इनको खेत कब्जान चात हों।'' सरपंच जी लाल भभूका हते।
''जे बीमारी और मौतें गंदगी की बजह से हर साल होत आंय। मनो तुम औरें साफ़-सफाई नई रखत। काल्ह डाक्टरनी बाई और नर्स आहें। उन सें पूछ-गूछ खें बाल-बच्चन की साफ़-सफाई के बारे में औरतन खें सीख मिल जैहे तो जे मौतें कम हो जैहें।''
जा बात ध्यान सें सुन लेओ, जे महतारी-बिटिया कहूँ ने जैहें, इनें कौनऊ कास्ट नें होय। जे दुआ दैहें तो तुमाए बाल-बच्चा सलामत रैहें'',दूसरे पंच ने कहा। सबई गाँव वारे सिर झुकात भए अपनी गलती मान खें साफ़-सफ़ाई रखने को संकल्प करके चल दए। दोऊ माँ-बिटिया की जान में जान आई। सबने कई दूध का दूध पानी का पानी घाईं फैसला हो तो ऐसो।
५-१०-२०१७
***

४. बिखरे तिनके
*
'' भानू की माँ! आज कछू नाश्ता-वाश्ता मिलेहे की नई ?'' ओमवीर ने अपनी घरवाली शीला आवाज दई।
''अब्बई ला रई, हाला काय कर रए? तनक सबर करो'' शीला ने उत्तर दओ।
''लेओ, अपनी पसन्द के पराँठे आलू के!''
''तुम काए बना रईं नाश्ता? दोऊ बहुएं किते गईं?'' ओमवीर ने जाननो चाहो।
''काय मोरे हाथ के बनाए माँ कछू खराबी है का?'' शीला ने गुस्से सें पूछी।
''नई नई, बहोत दिना बाद बना रई हो ना ऐइसे !'' ओमवीर ने सकपकाते भए सफाई दई।
''दोऊ जनीन आज सें अलग-अलग रसोई बनान चात!'' शीला की आँखों में आँसू आ गए।
''काय, का भओ?''
''दोऊ भैयन में मुतके दिना सें बातचीत बंद हती। अब बहुएं सोई... मनो कौनौ फरक नईया, बच्चे खुस तो अपन सोई खुस'' शीला ठंडी सांस ले के बोलीं।
''ठीक कैत हो, लगत है घरौंदा बिखर रओ, जब छोटे हते तो दोऊ एक-दूसरे के साथ खाबे ,खेलबे, सोबे काजे लड़त हते। मजाल हती के कोई अलग कर दे और आज एक दूसरे से बात तो दूर, मूँ भी देखना भीगवारा नई!''
आलू का पराँठा प्लेट में धरो-धरो ठंडा राओ हतो, ओमवीर और शीला के अरमानों की तरह।
५-१२-२०१७
***
५. सौगात
*
''का बात है भौजी! आज तो मुखडे को नूर कुछ औरई कह रओ आय, बताओ नें --का भइया आ रए?''  घूँघट की ओट में लजाती-शरमाती बिजुरी खें ननदिया चंदा ने छेडते भए पूछी तो लजाई बिजुरी ''धत्त'' कहत भई कोठरी में घुस गई। उसका मर्द दूर सहर में टेक्सी चलात हतो। आज बिजुरी भौत कुस हती। खुश होबे का कारन भी हतो। ब्याहबे के तुरतई बाद मर्द नौकरी के काजे सहर चलो गओ हतो। हमेसा चुप्प रहबेबारी बिजुरी और उसकी पायल दोनों आज घर माँ मधुर संगीत उत्पन्न कर रई हतीं।
बिजुरी का पति आओ और दस दिना रहखें सहर वापस चलो गओ।  बिजुरी भौत रोई मनो पति के दिलासे से कि बो जल्दी फिर से आ जैहे खुस हो गई।
''का बात है बहुरिया! कमजोर होत जाय रही है , कौनउ बीमारी है का?''बिजुरी के ससुर ने एक दिन उसकी सास से पूँछा ।
''हाँ, इस दफ़ा तो लल्ला भी कमजोर लग रओ हतो,जाने का बात है?'' सास ने फिकर सें कहा। कछू दिना बाद  बिजुरी का पति फिर घर आओ। अबकी पिता ने कई ''चलो लल्ला! डाँकटर के धौरे चलो, सूख कै पिंजर हो रए और बहुरिया को सोई चली चले। थोड़ी नं-नुकुर केन बाद दोऊ जने सहर जाके इलाज काजे तैयार हो गए।
अस्पताल में जाँचें भईं और जब डाक्टर ने सच बताओ तो बिजुरी की तो मानो दुनिया उजड़ गई। दोनों एच.आई.बी. पोजिटिब हते।
अस्पताल के लोग हिकारत की नजर से देखत हते, मनो हालात से अन्जान बिजुरी घूँघट की ओट सें अपने मनबसिया को हेर खें खुस होत ती। उसे का मालूम मनबसिया कैसी सौगात दे गओ हतो। 
***
हिंदी लघु कथा
शीर्षक----'पेड़ से कटकर '
एक विशाल बरगद का पेड़ बडी शालीनता के साथ विशाल शाखाओं  का बोझ लादकर खडा था  । धूप ,,,बरसात और ठंड हर मुश्किल का सामना बडी समझदारी और सहनशीलता से करता था ।
एक दिन  डालियाँ हवा के झौंकों के साथ मस्ती में डूबकर लहरा रहीं थीं। तभी एक डाली को शरारत सूझी और उसने दूसरी डाली से कहा --
''देखो बहिन इस बरगद की शोभा हमसे है --लेकिन लोग गुणगान इसका करते हैं  एक दिन इससे अलग होकर दिखायंगे कि इसका महत्त्व ज्यादा है या हमारा हमसे ही तो है इसका असित्तव बना फिरता है हमारा परिवार -----मुझे तो बहुत ही क्रोध और अब तो ईर्ष्या भी होने लगी है इससे --हमारी सुंदरता को कोई नहीं बखानता ---!''
''हाँ --हमसे ही तो इसकी सुंदरता है ---!''दूसरी ने गर्व से मुँह बनाते हुए कहा ।
तभी एक लकड़हारा आया और पेड़ पर चढ गया लकडी काटने के लिये --और एक -एक कर कई डालियाँ काटकर उसने नीचे फेंक दीं ---।कटी हुई डालियाँ रूँदन करने लगी तो वे दोनों डालियाँ जो अभी तक परिवार रूपी पेड़ की बुराई कर रहीं थीं ,सिंहर उठी डालिओं की दुर्दशा पर ।
लकड़हारे ने सारी डालिओं को खींच कर एक स्थान पर एकत्रित किया और अपमी कुल्हाडी से उनको अनेक टुकडो मे विभाजित कर दिया --।तोड़ कर रख दिया ।
सभी टहनिया चीत्कार करती रहीं ,परंतु अब पेड़ से कटकर उनका कोई भी अस्तितव नहीं रह गया ।मात्र कूडे का ढेर बनकर रह गयीं जलने के लिये ।पेड अब भी खडा था इस विश्वास के साथ कि टहनियाँ फिर उगेन्गी और परिवार फिर हरा -भरा हो जायेगा परिवार से टूटकर --कटकर किसी कोई मोल नहीं --!
8/12/17
-------------

कोई टिप्पणी नहीं: