बुधवार, 20 दिसंबर 2017

द्विपदी

बड़े भैया !
विख्यात हिंदीविद, उपन्यासकार, नाटककार
डॉ. सुरेश वर्मा के जन्म दिवस पर
अनंत प्रणाम, शुभकामनाएँ 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, चश्मे

गहरी आँखें, गहरा चिन्तन,  सुमधुर मीठे बोल
कलम चले जब रख देती है सच अनजाना खोल
चिन्तन-मनन धर्म जीवन का, शब्दाराधन कर्म
शत वंदन कर सलिल धन्य है, फले पुण्य के कर्म
सादर प्रणाम
संजीव  

कोई टिप्पणी नहीं: