शनिवार, 23 दिसंबर 2017

haiku

हाइकु सलिला:
संजीव 

मन मोहतीं 
धूप-छाँव दोनों ही 
सच सोहतीं
.
गाँव न गोरी
अब है सियासत
धनी न धोरी
.
तितली उड़ी
पकड़ने की चाह
फुर्र हो गयी
.
ओस कणिका
मुदित मुकुलित
पुष्प कलिका
.
कुछ तो करें
महज आलोचना
पथ न वरें
*

कोई टिप्पणी नहीं: