गुरुवार, 7 दिसंबर 2017

दोहा

शिव नरेश देवेश भी,
हैं उमेश दनुजेश.
सत-सुन्दर पर्याय हो,
घर-घर पुजे हमेश.

कोई टिप्पणी नहीं: