गुरुवार, 31 मई 2018

shri shri chintan: doha gunjan

श्री-श्री चिंतन: दोहा गुंजन
*
प्लास्टिक का उपयोग तज, करें जूट-उपयोग।
दोना-पत्तल में लगे, अबसे प्रभु को भोग।।
*
रेशम-रखे बाँधकर, रखें प्लास्टिक दूर।
माला पहना सूत की, स्नेह लुटा भरपूर।।
*
हम प्रकृति को पूज लें जीव-जंतु-तरु मित्र।
इनके बिन हो भयावह, मित्र प्रकृति का चित्र।।
*
प्लास्टिक से मत जलाएँ पैरा, खरपतवार।
माटी-कीचड में मिला, कर भू का सिंगार।।
*
प्रकृति की पूजा करें, प्लास्टिक तजकर बंधु।
प्रकृति मित्र-सुत हों सभी, बनिए करुणासिंधु।।
*
अतिसक्रियता से मिले, मन को सिर्फ तनाव।
अनजाने गलती करे, मानव यही स्वाभाव।।
*
जीवन लीला मात्र है, ब्रम्हज्ञान कर प्राप्त।
खुद में सारे देवता, देख सको हो आप्त।।
*
 धारा अनगिन ज्ञान की, साक्षी भाव निदान।
निज आनंद स्वरुप का, तभे हो सके ज्ञान।।
*
कथा-कहानी बूझकर, ज्ञान लीजिए सत्य।
ज्यों का त्यों मत मानिए, भटका देगा कृत्य।।
*
मछली नैन न मूँदती, इंद्र नैन ही नैन।
गोबर क्या?, गोरक्ष क्या?, बूझो-पाओ चैन।।
*
जहाँ रुचे करिए वहीं, सता कीजिए ध्यान।
सम सुविधा ही उचित है, साथ न हो अभिमान
***
३१.५.२०१८, ७९९९५५९६१८  

दोहा कार्यशाला:

चरण पूर्ति:
मुझे नहीं स्वीकार -प्रथम चरण
*
मुझे नहीं स्वीकार है, मीत! प्रीत का मोल.
लाख अकिंचन तन मगर, मन मेरा अनमोल.
*
मुझे नहीं स्वीकार है, जुमलों का व्यापार.
अच्छे दिन आए नहीं, बुरे मिले सरकार.
*
मुझे नहीं स्वीकार -द्वितीय चरण
*
प्रीत पराई पालना, मुझे नहीं स्वीकार.
लगन लगे उस एक से, जो न दिखे साकार.
*
ध्यान गैर का क्यों करूँ?, मुझे नहीं स्वीकार.
अपने मन में डूब लूँ, हो तेरा दीदार.
*
मुझे नहीं स्वीकार -तृतीय चरण
*
माँ सी मौसी हो नहीं, रखिए इसका ध्यान.
मुझे नहीं स्वीकार है, हिंदी का अपमान.
*
बहू-सुता सी हो सदा, सुत सा कब दामाद?
मुझे नहीं स्वीकार पर, अंतर है आबाद.
*
मुझे नहीं स्वीकार -चतुर्थ चरण
*
अन्य करे तो सर झुका, मानूँ मैं आभार.
अपने मुँह निज प्रशंसा, मुझे नहीं स्वीकार.
*
नहीं सिया-सत सी रही, आज सियासत यार!.
स्वर्ण मृगों को पूजना, मुझे नहीं स्वीकार.
***
३१.५.२०१८, ७९९९५५९६१८

दोहा सलिला

दोहा सलिला:

करे पूँछ से साफ़ भू, तब ही बैठे श्वान।
करे गंदगी धरा पर, क्यों बोले इंसान।।
*
गौरव गरिमा सुशोभित, हो विद्या का गेह।
ज्ञान नर्मदा प्रवाहित, रहे लहर हो नेह।।
*
जो अपूर्व वह पूर्व से, उदित हो रहा नित्य।
पल-पल मिटाता जा रहा, फिर भी रहे अनित्य।।
*
प्राध्यापक से क्यों कहें, 'खोज लाइए छात्र'।
शिक्षास्तर तब उठे जब, कहें: 'पढ़ाओ मात्र।।
*
दुनिया में नित घूमिए, पाएँ-देकर मान।
घर में घर जैसे रहें, क्यों न आप श्रीमान।।
*


आमंत्रण भोपाल २-६-२०१८

Skills required to be a geotechnician

Skills required to Be a Geotechnician

* Geotechnology is the most exciting and potentially lucrative profession for persons of all age groups. A geotechnician is always in high demand in a developing society. Like other science-based careers, geotechnology is slightly more rigid in terms of entry path. It need potential applicants to not only possess relevant qualifications but also to display evidence that they possess other skills, which can be more difficult to quantify. A geotechnician needs-

1. Knowledge

The core foundation of any technical degree is a series of qualifications in STEM (science, technology, engineering, mathematics) subjects at graduation level. Every geotechnian has to face a series of logistical problems to be worked out and resolved to get proper findings.

2. Teamwork 

Nobody completes a technical project himself.  A team works on various parts of the project. It’s rare that any one geotechnician  will head up the whole project. Ability to lead as well as work as part of a team is essential.

3. Strong Analytical Mind

Geotechnology a field  full of problem solving needs strong analytical mind. The solution has to be developed so that it meets all the requirements of time. This might involve proper experimentation and testing before start of work.

4. Attention to Detail              

Geotechnical activities and projects are extremely complex. There are millions of details that have to be thought during the study and data collection. Geotechnician  need a high level of attention to ensure nothing important gets forgotten that could potentially derail the enterprise.

5. Excellent Communication Skills

Geotechnology is a field in which technical language is used at every step. When talking to clients and people that might not understand that sort of technical language, use plain English. Clear communication is necessary  when working with other teams and letting other people know what you expect of them. 

6. Desire to Learn

Geotechnologist is a diligent professional who is passionate about what he do, learn new techniques and new technologies to perform the job to the best of his abilities. 

7. Leadership and Management Skills 

As a geotechnologist progresses through his career, he will be given more responsibility, perhaps eventually leading to becoming the manager of a team or even the entire team. To be successful in this venture he need to possess leadership skills, knowledge about when to step in or back off; how to best utilize a team member’s strengths; how and when to discipline someone and so on. 

There’s a big focus on the skills that apply to individual project managers and contributors. But what about your project team as a whole? Your team needs to possess some essential skills in order to ensure their productivity, sanity, and the successful delivery of projects.

Project teams are generally comprised of a variety of specialists such as developers, programmers, engineers, analysts, QA specialists and technical writers—all of whom have different skills and strengths. At the same time, there are underlying team-wide skills that distinguish high-performingproject teams from all others.

Here are seven essential skills that your team needs to be a top-performer.

1. Basic project management

No longer can a successful project team have just a project management professional responsible for the welfare of a project. These days, every team member has to have a basic level of project management skills in order to help contribute to the overall direction of the project. With the days of Gantt charts behind us, and more companies using cloud-based project management software (such as LiquidPlanner), all team members have better access to all of the components of the project.

Distributing access to a cloud-based project management platform to team members requires participating team members to have some or all of the following skills:

SchedulingEstimationTask managementBasic analytics

Basic analytics is going to be an emerging skill for project teams, as more cloud-based project management software adds analytics tools that open up the wealth of project data they hold. All project team members need the skills to use this new class of project management feature set to better improve processes and their delivery cycle.

Along with basic project management skills, project teams standardized on a cloud-based project management platform need to have some level of collaboration skills.

I split collaboration skills into two categories:

Interpersonal. This includes team communications, document reviews, code reviews, and related interactions about project deliverables.Technology/online collaboration. This includes user skills with cloud-based and desktop collaboration, project management, and other standard productivity applications including document sharing.

2. Problem solving

You can tell a lot about a project team by how the team members solve the major and minor technology and business-related problems that occur—often on a daily basis.  You might expect that Agile development and DevOps teams have institutionalized troubleshooting in development and engineering; but teams still need to treat problem solving as a skill that needs to be continuously refined, especially as technologies evolve.

3. Conflict resolution

Some people lump conflict-resolution under collaboration; I see it as a skill unto itself. When you gather a large group of dedicated and intelligent people in a room with a whiteboard to discuss a business or technical issue that can potentially impact a launch of new service or product, you will invariably get some flurry of internal conflict. Effective conflict-resolution skills are at the heart of a truly collaborative team—especially when big egos are on the line.

4. Transformative conversation

I came across the term transformative conversation from a recent Michael Hyatt podcast.  Hyatt is a leadership expert and speaker and his concept of transformative conversation as a skill can help a project team be more creative and get buy-in from all team members.

While getting a bunch of smart people in a room with a whiteboard can lead to conflicting views, it’s also the proving ground for transformative conversations. All jokes aside about technical teams and social skills, conversations can be important to the progress of any project.

5. Technical documentation

Writing technical documentation can be a neglected task but a valuable skill for project teams. Too often documentation isn’t part of the team’s workflow—but it should be.  Whether or not a project team has a staff or contract technical writer assigned to its project, documentation is an important skill for a project team.  I define documentation skills to include:

Application Programming Interface (API) documentationUser Interface (UI) guidelinesProcess documentationOperations documentationTroubleshooting documentation.

It’s also important to note that documentation doesn’t necessarily need to take place in traditional-type documents. In fact, today’s project teams are often better served by wikis, enterprise social tools and online project management tools. What matters is that the documentation is centralized, online, secure and auditable, and searchable by the team and by management.

A new technical documentation methodology called DocOps might even transform documentation from an irksome task to a standard element of the process.

6. Risk management

Risk management isn’t just for project managers anymore. It’s actually a skill that needs to be distributed among the project’s team members. This is especially important with team members with cross-functional specialties where there’s no skilled oversight of the project tasks.

Cloud-based project management tools such as LiquidPlanner help you capture potential risks and their potential solutions by allocating work, estimating effort and then rolling every task up to the project plan at large. The key to distributing risk management across a project team is that the team members are accountable and can anticipate and then explain the potential risks in their project tasks for wider audiences.

7. Customer and client management

While there are less enlightened organizations that still believe the project manager should be the first and only contact with clients, too often your clients (internal or external) will do what they can to bypass project managers and speak to the team member who is doing the actual work. Each team member should have basic customer/client management skills to work directly with clients and answer any of their questions about their portion of the project.

Essential project management skills for project teams drive project and team success through acquiring a well-rounded set of proficiencies. No team can be a disparate group of individual specialists and reach its full potential. The good news here is that you’re offered a vast field of opportunity for learning and growing over the life of your career.

http://divyanarmada.blogspot.in/

बुधवार, 30 मई 2018

साक्षात्कार बाल साहित्य पर:

ला लौरा मौक़ा मारीशस में कार्यरत पत्रकार श्रीमती सविता तिवारी से एक दूर वार्ता 
- सर नमस्ते
नमस्ते
= नमस्कार.

- आप बाल कविताएं काफी लिखते हैं
बाल साहित्य और बाल मनोविज्ञान पर आपके क्या विचार हैं?

= जितने लम्बे बाल उतना बढ़िया बाल साहित्यकार 😄😄😄😄
- 😂😂😇
अच्छा, यह आज के परिदृष्य पर टिप्पणी है

= बाल साहित्य के दो प्रकार है. १. विविध आयु वर्ग के बाल पाठकों के लिए और उनके द्वारा लिखा जा रहा साहित्य २. बाल साहित्य पर हो रहे शोध कार्य.
- मुझे इस विषय पर एक रेडियो कार्यक्रम करना है सोचा आपका विचार जान लेती.
= बाल साहित्य के अंतर्गत शिशु साहित्य, बाल साहित्य तथा किशोर साहित्य का वर्गीकरण आयु के आधार पर और ग्रामीण तथा नगरीय बाल साहित्य का वर्गीकरण परिवेश के आधार पर किया जा सकता है.
आप प्रश्न करें तो मैं उत्तर दूँ या अपनी ओर से ही कहूँ?

- बाल मन को बास साहित्य के जरिए कैसे प्रभावित किया जा सकता है?
= बाल मन पर प्रभाव छोड़ने के लिए रचनाकार को स्वयं बच्चे के स्तर पर उतार कर सोचना और लिखना होगा. जब वह बच्चा थी तो क्या प्रश्न उठते थे उसके मन में? उसका शब्द भण्डार कितना था? तदनुसार शब्द चयन कर कठिन बात को सरल से सरल रूप में रोचक बनाकर प्रस्तुत करना होगा.
बच्चे पर उसके स्वजनों के बाद सर्वाधिक प्रभाव साहित्य का ही होता है. खेद है कि आजकल साहित्य का स्थान दूरदर्शन और चलभाषिक एप ले रहे हैं.

- मॉरिशस जैस छोटेे देश में जहां हिदी बोलने का ही संकट है वहां इसे बच्चों में बढ़ावा देने के क्या उपाय हैं?
= जो सबका हित कर सके, कहें उसे साहित्य 
तम पी जग उजियार दे, जो वह है आदित्य.
घर में नित्य बोली जा रही भाषा ही बच्चे की मातृभाषा होती है. माता, पिता, भाई, बहिनों, नौकरों तथा अतिथियों द्वारा बोले जाते शब्द और उनका प्रभाव बालम के मस्तिष्क पर अंकित होकर उसकी भाषा बनाते हैं. भारत जैस एदेश में जहाँ अंग्रेजी बोलना सामाजिक प्रतिष्ठा की पहचान है वहां बच्चे पर नर्सरी राइम के रूप में अपरिचित भाषा थोपा जाना उस पर मानसिक अत्याचार है.
मारीशस क्या भारत में भी यह संकट है. जैसे-जैसे अभिभावक मानसिक गुलामी और अंग्रेजों को श्रेष्ठ मानने की मानसिकता से मुक्त होंगे वैसे-वैसे बच्चे को उसकी वास्तविक मातृभाषा मिलती जाएगी.
इसके लिए एक जरूरत यह भी है कि मातृभाषा में रोजगार और व्यवसाय देने की सामर्थ्य हो. अभिभावक अंग्रेजी इसलिए सिखाता है कि उसके माध्यम से आजीविका के बेहतर अवसर मिल सकते हैं.

- सर! बहुत धन्यवाद आपके समय के लिए. आप सुनिएगा मेरा कार्यक्रम. मैं लिंक भेजुंगी आपको 3 june ko aayga.
अवश्य. शुभकामनाएँ. प्रणाम.

= सदा प्रसन्न रहें. भारत आयें तो मेरे पास जबलपुर भी पधारें.
वार्तालाप संवाद समाप्त |
__________________________

दोहा सलिला

दोहा सलिला
*
वसुंधरा से मिल गले, बारिश होती धन्य।
बहनापे का सुख 'सलिल', दुर्लभ दिव्य अनन्य।।
*
बारिश बिटिया मायके, आई रोई डूब।
ममता के सैलाब में, धरा जा रही डूब।।
*
बूँद पसीने की झरीं, या होती बरसात।
जहाँ गिरें जन्नत वहीं, करें रात को प्रात।।
*

बालगीत: बिटिया रानी

बालगीत:
बिटिया रानी
*
आँख में आँसू, नाक से पानी
क्यों रूठी है बिटिया रानी?
*
पल में खिलखिल कर हँस देगी
झटपट कह दो 'बहुत सयानी'।
*
ठेंगा दिखा रही भैया को
नटखट याद दिलाती नानी।
*
बारिश में जा छप-छप करती
झबला पहने हरियल-धानी।
*
टप-टप टपक रही हैं बूँदें
भीग गया है छप्पर-छानी।
*
पैर पटककर मचल न जाए
करने दो इसको मनमानी।
***
३०.५.२०१८, ७९९९५५९६१८
salil.sanjiv@gmail.com

muktika

मुक्तिका
विधान: उन्नीस मात्रिक, महापौराणिक जातीय दिंडी छंद 
*
साँस में आस; यारों अधमरी है।
अधर में चाह; बरबस ही धरी है।।

हवेली-गाँव को हम; छोड़ आए   
कुठरिया शहर में; उन्नति करी है।। 
*
हरी थी टौरिया, कर नष्ट दी अब
तपी धरती; हुई तबियत हरी है।।
*
चली खोटी; हुई बाज़ार बाहर
वही मुद्रा हमेशा; जो खरी है।।
*
मँगा लो सब्जियाँ जो चाहता दिल
न खोजो स्वाद; सबमें इक करी है।।
*
न बीबी अप्सरा से मन भरा है
पड़ोसन पूतना लगती परी है।।
*
३०.५.२०१८, ७९९९५५९६१८
salil.sanjiv@gmail.com


doha


दोहा सलिला
*
सुमन सु-मन ले गंध दे, महके सारा बाग़।
बारिश हो या गर्मियां, गंध न देता त्याग।।
*
अथक सफ़रकर थक गए, यदि न उठ रहे पैर।
तो समझो मंजिल निकट, माँगो सबकी खैर।।
*​
​​पीछे मुड़ क्या देखना?, देखें आगे राह।
क्या जाने हो किस घड़ी, पूरी मन की चाह ।।
*
समय गया कब?, क्या पता?, हाथ न आया वक्त ।
फिर मिल तो दूँगा सबक, तुझे सख्त कमबख्त। ।
*
कोरी जीवन स्लेट थी, अब न जगह है शेष।
पाठ सभी बाकी रहे, कैसे लिखूँ अशेष?
*
३०.५.२०१८, ०७९९९५५९६१८
​salil.sanjiv@gmail.com

साहित्य त्रिवेणी ६ आदर्शिनी श्रीवास्तव -पश्चिमी उत्तर प्रदेश में छंद-छटा



 ६. पश्चिमी उत्तर प्रदेश में छंद-छटा

आदर्शिनी श्रीवास्तव
जन्म: २६ जून १९६४,गोंडा उ.प्र.। आत्मजा: श्रीमती सिद्धेश्वरी-डॉ. के०पी० श्रीवास्तव।जीवन साथी: श्री अभयकुमार श्रीवास्तव। शिक्षा: स्नातकोत्तर हिंदी साहित्य। लेखन विधा: कविता, गीत, ग़ज़ल, कहानी, लेख, संस्मरण, समीक्षा।प्रकाशित: तपस्विनी (काव्य संग्रह), नाद और झंकार (गीत संग्रह)। संपर्क:  १/८१ फेज़-१, श्रद्धापुरी , कंकड़ खेड़ा, मेरठ २५०००१, चलभाष:  ० ९४१०८८७७९४ / ८७५५९६७५६७ ईमेल: srivastava.adarshini@gmail.com, ब्लॉग: http//adarshinisrivastava.blog spot.in   कलिकाएँ अधखिली रुकी हैं, तरुओं पर कलरव है ठहरा।
*
सामान्यत: छंदों के लिए कोई  देश-विदेश नहीं होता।  ध्वनि और साहित्य को किसी क्षेत्र की सीमा में नहीं बाँधा जा सकता।  किसी भी स्थान के लोग, किसी भी समय, किसी भी छंद में अपनी रचना सृजित कर सकते हैं। फिर भी अलग- अलग क्षेत्रों के काव्य-सृजन में वहाँ प्रचलित संगीत, मनोभाव, धुन, वातावरण, स्थिति और प्रकृति काव्य सृजन पर अपना प्रभाव डालते हैं। इस काल का कवि साहित्य सृजन के प्रति समर्पित, मौन साधक नहीं है। उसमे संयम नहीं, छटपटाहट है। वह शीघ्रादिशीघ्र उथली यश-प्राप्ति चाहता है। वह चार पंक्तियाँ पढ़कर उसमें से ही भाव या शब्द ग्रहणकर यत्किंचित हेर-फेर कर अपनी रचना सृजित कर देना चाहता है। कहा गया है कि एक पृष्ठ लिखने के लिए चार सौ पृष्ठ पढ़ने की आवश्यकता है। छंद ही नहीं किसी भी प्रकार के साहित्य सृजन का उद्देश्य लेखन मात्र नहीं, भावाभिव्यक्ति तथा ज्ञान-प्रसार हो तो उसका प्रभाव पाठक पर गहरा तथा स्थाई होता है। नवपीढ़ी में मंच, यश और धन-प्राप्ति की लालसा उसे साहित्य के प्रति गंभीर नहीं होने देती। नव पीढ़ी का सौभाग्य है कि कुछ समकालिक छंदाचार्य औ छंद प्रेमी प्रयासरत हैं कि नई पीढ़ी को छंदों का शुद्ध रूप को समझा सकें ताकि वह स्तरीय सत्साहित्य का सृजन कर; अपने पुरातन साहित्य की रक्षा कर सके और अगली पीढ़ी के लिए उनका सृजन उदाहरण हो। कुछ रचनाकार इस अवसर का लाभ तत्परता से छंद सीखकर उठा भी रहे हैं। सवैया, घनाक्षरी, कवित्त, दोहा जैसे लयात्मक छंदों के प्रति रचनाकारों का ही नहीं सामान्य पाठकों और श्रोताओं का भी आकर्षण बढ़ा है। दुख है कि इसके बाद भी कई युवा रचनाकार छंद रचना को दुष्कर या कालबाह्य मानकर छंदहीन कविता का अंधानुकरण कर रहे हैं।  
उत्तर प्रदेश का पश्चिमी अंचल आरंभ से ही खड़ी बोली (आधुनिक हिंदी) का केंद्र है। इन क्षेत्रों में खड़ी बोली में छंद सृजन की प्रधानता हैं। कोई छंद गायन में जितना मोहक, तरल, सुगम और श्रुतिप्रिय होगा वह छंद उतना ही अधिक काव्य-पाठ के लिए प्रचलित होगा। प्रेममय-रागमय वृत्तियों की कलात्मक वाचिक अभिव्यक्ति ही काव्य है जो पाठक को आनंद, आह्लाद, करुणा और आश्चर्य से भर देती है।  किसी भी काव्य रचना में दो तत्व मुख्य होते हैं।
१. अंतर्जगत की अनुभूति और
२. काव्य लेखन का शिल्प।
जब हमारा मन आनंद की स्थूल सीमा से परे, लौकिक जगत से हटकर, लोकोत्तर आनंद पाकर एक अलग ही दुनिया में  विचरण करता है तब जिस आनंद को प्राप्त करता है; वह अभिव्यक्ति से परे होता है। काव्य की रमणीयता का अपना अलग महत्त्व है। इसके अंतर्गत ही काव्य का कथ्य, छंद, भाव और रस होता है। छंद काव्य का शरीर है, जब शरीर ही नहीं होगा तो आत्मा (कथ्य), मन (भाव) और रुचि (रस) का निवास कहाँ होगा? जितना सुगठित, समानुपातिक, सुंदर, स्वस्थ, शरीर होगा उसमें उतने ही अधिक रम्य भावों का समावेश अनुभूत होगा। रुग्ण शरीर में न स्वस्थ मन होता है; न आकर्षण। इसी तरह त्रुटिपूर्ण काव्य भी अरुचिकर प्रतीत होता है। उसके भेद, छंद, रस,  भाव,  गुण, अलंकार, दोष आदि का विवेचन काव्य साहित्य के अंतर्गत आता है। छंदशास्त्र काव्य का बाह्य आवरण अथवा वसन है। दाग रहित, स्वच्छ, सलवटरहित, भली-भाँति काटा-सिला हुआ, वसन सहज ही सबका मन आकर्षित करता है। पद्य में मात्रा एवं वर्णों की संख्या, उनके क्रम, नियमित विराम, गति-यति, प्रवाह, आदि से व्यवस्थित शब्द योजना ही छंद है। यदि इसमें व्याकरण सम्मत विधि से शब्द क्रम में कोई फेर-बदल किया जाए तो इसे दोष नहीं माना जाता। वर्णों और मात्राओं की गेय व्यवस्था ही छंद है। भाषा में शब्द, वर्ण और स्वर को सुव्यवस्थित विधि-विधान से रखना ही छंद-सृजन है। छंद से काव्य में चारुत्व और लावण्य आता है, काव्य श्रुतिप्रिय और मनोरम हो जाता है। ऋषि-मुनियों ने छंद को वेद का अंग (पैर) माना है। (पैर मानने में हीनता का भाव नहीं है। जिस प्रकार बिना पैर किसी भवन में प्रवेश नहीं किया जा सकता उसी प्रकार वेद-के प्रासाद में प्रवेश छंद को जाने बिना नहीं किया जा सकता। अर्थात वेद को पढ़ने, समझने और उसके रसामृत का पान करने के लिए छंद का समुचित ज्ञान ही एकमात्र मार्ग है।-सं.) छंदबद्ध रचना स्मृति में अधिक देर ठहरती है, आसानी से याद होती है, मन पर सुखद प्रभाव डालती है। यही कारण है कि सभी पुरातन ग्रंथ स्मृति, पुराण, उपनिषद, पुराण, रामायण, महाभारत आदि छंदबद्ध हैं। 
छंद शास्त्र गणितीय और पूर्णत: विज्ञान सम्मत है। काव्य की अटारी छंद के गणों की नींव पर आधारित है l तीन-तीन वर्णों व भिन्न मात्रा भारों के हर गण का अपना रूप है, संकेत है, फल है और देवता है। वर्जित शब्द और दग्धाक्षरों का प्रयोग करना ही हो तो देववाची शब्द या मंगलात्मक शब्द/वर्ण से करने पर उस काव्य-दोष की निवृत्ति हो जाती है। काव्य शास्त्र में छंदों की संख्या कल्पनातीत (छंद प्रभाकरकार जगन्नाथ प्रसाद 'भानु' के अनुसार मात्रिक छंद ९२,२७,७६३ तथा वार्णिक छंद १३, ४२, १७, ६२६ हैं जिनमें से लगभग ६१२ छंदों के उदाहरण प्राप्त हैं। -सं.) है। नए आचार्यगण आज भी नए छंदों का सृजन कर शोधपरक कार्य कर रहे हैं। (समय-समय पर देशी/विदेशी भाषाओँ के छंदों का हिन्दीकरण भी किया गया है। जैसे पंजाबी का माहिया, बृज का रास, बुंदेली का फाग, अंग्रेजी का सोनेट, जापानी  के हाइकु, तांका, बांका, स्नैर्यु आदि। -सं.)   समकालिक और भावी रचनाकारों के समक्ष चुनौती नवाविष्कृत छंदों को पढ़-समझ-सीखकर उनमें रचना करने की है। छंद का प्रमुख तत्व 'लय' है।  उच्चारण में मात्रा/वर्ण क्रम अगर व्यवस्थित हो तो काव्य के सौंदर्य में गुणात्मक वृद्धि हो जाती है, अगर मात्रा/वर्ण-शुद्धता हो और गति पर ध्यान न दिया गया हो तो छंद त्रुटिपूर्ण हो जाता है:
अशुद्ध- मिले निश्छल नेह के समर्पित नैन थे जब से
शुद्ध-   नैन थे जब से मिले निश्छल समर्पित नेह के।   -आदर्शिनी  
yअशुद्धआ - बरु नरक कर भल वास ताता 
शुद्ध- बरु भल वास नरक कर ताता।     - गो. तुलसीदास 
स्पष्ट है कि छंद में गतिभंग दोष नहीं होना चाहिए। छंद में गति का महत्त्व इतना अधिक है कि गाँवों की अशिक्षित महिलाओं-पुरुषों द्वारा रचे-गाए लोकगीत भी गति व तुक से युक्त होते हैं। उनका रुदन तक एक लय और प्रवाह में होता है। सामान्यत: हर गीत, ग़ज़ल, मुक्तक आदि किसी न किसी छंद पर आधारित होते हैं।पश्चिमी उत्तर प्रदेश  में अधिक प्रचलित  कुछ मात्रिक, वार्णिक और मुक्तक छंदों की रस-धार में अवगाहन कर काव्यामृत का पान करें।  
दोहा- 
अर्द्धसम मात्रिक, द्विपदिक, चतुष्चरणिक छंद दोहा के विषम चरण १३-१३ और सम चरण ११-११ मात्राओं के होते हैं। चरणादि में एक शब्दीय जगण वर्जित तथा चरणान्त में गुरु-लघु आवश्यक होता है। उदाहरण:
नित्य नई ही वेदना, रही ह्रदय को चीर। 
तीन ताप से दग्ध है, जग का सकल शरीर।।    -आदर्शिनी
चौपाई-
सम मात्रिक, द्विपदिक, चतुष्चरणिक छंद चौपाई छंद के प्रत्येक चरण में १६-१६ मात्राएँ तथा दो-दो चरणों में सम तुकांतता आवश्यक है। उदाहरण:
१. रघुपति भरत दमन रिपु लछमन। सहित अवधपुर बसहिं मुदित मन।।   -गो. तुलसीदास 
२. जन्म दिवस का पर्व मनाना। मत मिष्ठान्न अकेले खाना।। 
    मात-पिता को शीश नवाना। शुभ आशीष सभी से पाना।।     - संजीव वर्मा 'सलिल'
गीतिका-
भानु कवि के अनुसार यह चार पदों का सममात्रिक छंद है। प्रत्येक पंक्ति में २६ मात्राएँ तथा १४-१२ अथवा १२-१४ मात्राओं पर यति और अंत में लघु गुरु होना अनिवार्य है।  हर पद में तीसरी, दसवीं, सत्रहवीं, और चौबीसवीं मात्राएँ लघु हों तो छंद की गेयता सुन्दर प्रवाहमयी  होती है। उदाहरण:
१. शारदे के पद-कमल पर, पुष्प अर्पित कर दिया। 
    गीत तुम पर रच दिया, निज भावना का जल दिया।।    - आदर्शिनी  
२. नर्मदा को नमन कर, शिव-शिवा का वंदन किया। 
    नर्मदा-जल अमिय सम, कर पान हुलसाया हिया।।       - संजीव वर्मा 'सलिल'      
हरिगीतिका:
यह भी गीतिका की तरह चार पदों का सममात्रिक छंद है।  प्रत्येक पंक्ति में २८ मात्राएँ तथा १६-१४ पर मात्राओं पर यति और अंत में लघु गुरु होना अनिवार्य है।  इसके हर पद में पाँचवी, बारहवीं, उन्नीसवीं और छब्बीसवीं  मात्राएँ लघु होना विशेषता है। हरिगीतिका शब्द की चार आवृत्तियों ४ x हरिगीतिका या ४ (११२१२) से यह छंद बनता है। उदाहरण:
१. 'हरिगीतिका' यदि चार बार मिला-सुना कर गाइए।
    यति सोलवीं फिर चौदवीं पर हो, सदा मुसकाइए।।      - आदर्शिनी   
२. बँधना सदा हँस प्रीत में, हँसना सदा तकलीफ में। 
    रखना सदा पग सीध में, चलना सदा पग लीक में।।     - संजीव वर्मा 'सलिल'
कुण्डलिया:
६ चरणों वाले इस छंद में पहला दो चरण दोहा और चार चरण रोला के होते हैं।  दोहा व रोला के प्रत्येक चरण में २४ मात्राएँ होती हैं। इस छंद का श्री गणेश जिस शब्द या शब्द समूह से होता है, छंद का अंत भी उसी शब्द या शब्द समूह से करना अनिवार्य है। रोला की ११वीं मात्रा लघु होती हैं। उदाहरण: 
आए मेरे गाँव में, ये कैसे भूचाल?                                                                                                                              खुरपीवाले हाथ ने, ली बंदूक सँभाल।। 
ली बंदूक सँभाल, अदावत हँसती-गाती। 
रोज सुहानी भोर, अदालत चलकर जाती।।
लड़े मेढ़ से खेत, लड़ रहे माँ के जाए।
कैसे-कैसे हाय!, नए परिवर्तन आए।।   डॉ. रामसनेही लाल शर्मा ‘ यायावर ‘
ताटंक (चौबोला):
इसके प्रत्येक पद में ३० मात्राएँ, १६-१४ पर यति  व पदांत में तीन गुरु अनिवार्य हैं।  उदाहरण:
१. सोलह-चौदह यतिमय दो पद, 'मगण' अंत में आया हो
    रचें छंद 'ताटंक' झूम ज्यों, 'चौबोला' मिल गाया हो।        - संजीव वर्मा 'सलिल'     
२. देख झाँककर भीतर अपने, उत्तर खुद मिल जाएगा। 
    बहुत जरूरी खुलनी तुझसे, भक्तिभाव की मधुशाला।।      - राजीव प्रखर
भुजंगप्रपात: 
'चतुर्भिमकारे भुजंगप्रयाति', भुजंगप्रयात  चार भगण ४ x (१२२) से बना छंद है l १, ६, ११ और १६ पर लघु मात्राएँ होती हैं l वार्णिक छंद: अथाष्टि जातीय, मात्रिक छंद: यौगिक जातीय विधाता छंद।  उदाहरण: 
१. सितमगर है मुझको रुलाता बहुत है / मगर जान से भी वो प्यारा बहुत है   -आदर्शिनी
२. कहो आज काहे पुकारा मुझे है​? / 
छिपी हो कहाँ, क्यों गुहारा मुझे है?​
    पड़ा था अकेला, सहारा दिया क्यों- / न बोला-बताया, निहारा मुझे है।      - संजीव वर्मा 'सलिल'
विधाता छंद – 
इसमें २८ मात्राएँ और १४-१४ पर यति हैl १, ८, १५ और २२वीं मात्राएँ लघु होतीं हैंl (अथाष्टि जातीय वार्णिक छंद, यौगिक जातीय मात्रिक विधाता छंद, मापनी १२२२ १२२२ १२२२ १२२२, बह्र  मुफ़ाईलुन,मुफ़ाईलुन,मुफ़ाईलुन,मुफ़ाईलुन।बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम।-सं.) उदाहरण:
    विधाता को / नमन कर ले, प्रयासों को / गगन कर ले 
    रंग नभ पर / सिंधु में जल , साज पर सुर / अचल कर ले - संजीव वर्मा 'सलिल'       
    संकेत: रंग =७, सिंधु = ७, सुर/स्वर = ७, अचल/पर्वत = ७, सिद्धि = ८, तिथि = १५ 
स्रग्विणि छंद:
चार रगण ४ x (२१२) से बना मूल स्रग्विणि वर्णिक होता है l गुरु के स्थान पर दो लघु लगने पर वाचिक स्राग्विणि होता है l उदाहरण: 
मूल: साधना वंदना प्रार्थना तो करो / कामना याचना वासना को तजो                     - संजीव वर्मा 'सलिल'  
वाचिक: कुछ ठहर कर चलीं कुछ झिझक कर चलीं / लो हवा की तरंगे भी दुल्हन हुईं  -आदर्शिनी
वाचिक राधा:
रगण, तगण, मगण, यगण+२ (२१२, २२१, २२२, १२२, २) २३ मात्राओं से बना वाचिक राधा अतिजगती जातीय आधार छंद हैl उदाहरण:
वारि की बूँदें हुईं हैं घुँघरुओं के स्वर / आज चंदा कैद में है चाँदनी के घर  -आदर्शिनी
समानिका:
रगण,जगण+२ (२१२,१२१,२) ११ मात्राओं, ७ वर्णों से बना समानिका छंद उष्णिक जातीय छंद पर आधारित बह्र बहर फ़ाइलुं मुफ़ाइलुं  है। उदाहरण: 
१. सत्य को न मारना  / झूठ से न हारना 
    गैर को न पूजना  / दीन से न भागना 
    बात आत्म की सुनें / सूर्य आप भी बनें  - संजीव वर्मा 'सलिल'
२. जाग जाग भोर है / पक्षियों का शोर है
    दंभ को मरोड़ दे / द्वंद आज छोड़ दे    -डॉ. वी. पी. भ्रमर
चामर:
रगण, जगण, रगण, जगण, रगण (२१२, १२१, २१२, १२१, २१२) उदाहरण:
वर्ष आज तो नया सभी प्रसन्न हो रहे / मातु सिंहवाहिनी स्वरूप पूज भी रहे  -कौशल कुमार आस
पंचचामर:
जगण, रगण, जगण, रगण, जगण + गुरु  (१२१, २१२, १२१, २१२ १२१ २) उदाहरण:
१. जवान या किसान ही महान है न भूलिए / उठाव या चढ़ाव ही न लक्ष्य मान झूलिए      - संजीव वर्मा 'सलिल'
२. किरण को ओढ़ दूर्वा हुई है और मखमली / गुलाल गाल हो गए सजा के ओस जब चली  -आदर्शिनी 
पश्चिमी उत्तर प्रदेश उपरोक्त कुछ छंदों के अतिरिक्त सवैया, कवित्त और घनाक्षरी भी बहुत लोकप्रिय छंद है l
मत्तयगयंद सवैया:
यह सात वर्णों का छंद है इसमें ७ भगण और दो गुरु होते हैं l उदाहरण:
भोर भये जब आँख खुली तब देखत हूँ हर सू अँधियारा -आदर्शिनी
दुर्मिल सवैया:
इसमें २४ वर्ण होते हैं जो आठ सगणों (११२) से बनते हैं l अंत में सम तुकांत होता है l उदाहरण:
झकझोर हवा सहकार गिरे ऋतु आज लुभावन है गुइयाँ -आदर्शिनी
किरीट सवैया:
ये आठ भगणों (२११) से बना २१ वर्णीय वर्णिक छंद है l उदाहरण:
शोर उठा सब ओर अरे यह कौन दहा बनके अति पावक  -आदर्शिनी
सुमुखी सवैया:
ये छंद सात जगण ७ (१२१) +२ में लघु गुरु जोड़ने से बनता है l उदाहरण:
अनन्य हिमांशु सदा तरुणीजन की परिरम्भण-शीतलता -अज्ञात
गंगोदक सवैया:
८ रगण ८(राजभा) से बना ये आधार छंद है l उदाहरण: 
जिंदगी से नहीं है गिला है मुझे, जो न चाहा सभी तो मिला है मुझे  -आदर्शिनी
मनहर घनाक्षरी:
ये ३१ वर्णों का छंद है l ८,८,८,७ पर यति होती है l उदाहरण:
गगन ने खोले द्वार, संदली चली बयार, डारी-डारी, क्यारी-क्यारी मतवारी हो गई  - आदर्शिनी
रूप घनाक्षरी:
ये ३२ वर्णों का छंद है ८,८,८,८, वर्ण पर यति और अंत में गुरु लघु होता है उदहारण:
सोखि लीन्हों नीर कूप सरिता तडागन को, पाटल कदम्ब चम्पकादितरु जारे देत -अज्ञात
देव घनाक्षरी:
ये ३३ वर्णों का छंद है अंत में ३३ लघु l उदहारण:
तपन के तेज से लो, सिसक किसान उठे, वसुधा बेहाल हिय, जाता है दरक-दरक  -आनंद श्रीधर  

=====================