बुधवार, 18 जुलाई 2018

लहर पर दोहा

१८.७.२०१८
विषय पर दोहे:
लहर, उर्मि, तरंग, वेव
*
नेह नर्मदा घाट पर, पटकें शीश तरंग.
लहर-लहर लहरा रहीं, सिकता-कण के संग.
*
सलिल-धार में कूदतीं, भोर उर्मियाँ झाँक.
टहल रेत में बैठकर, चित्र अनूठे आँक.
*
ओज-जोश-उत्साह भर, कूदें छप्प-छपाक.
वेव लेंग्थ को ताक पर, धरें वेव ही ताक.
*
मन में उठी उमंग या, उमड़ा भाटा-ज्वार.
हाथ थाम संजीव का, कूद पडीं मँझधार.
*
लहँगा लहराती रहीं, लहरें करें किलोल.
संयम टूटा घाट का, गया बाट-दिल डोल.
*
घहर-घहर कर बह चली, हहर-हहर जलधार.
जो बौरा डूबन डरा, कैसे उतरे पार.
*
नागिन सम फण पटकती, फेंके मुख से झाग.
बारिश में उफना लहर, बुझे न दिल की आग.
*
निर्मल थी पंकिल हुई, जल-तरंग किस व्याज.
मर्यादा-तट तोड़कर, करती काज अकाज.
*
कर्म-लहर पर बैठकर, कर भवसागर पार.
सीमा नहीं असीम की, ले विश्वास उबार.
***
१८,७,२०१८, ७९९९५५९६१८

दोहा सलिला: शब्द

'शब्द' पर दोहे
*
अक्षर मिलकर शब्द हों, शब्द-शब्द में अर्थ।
शब्द मिलें तो वाक्य हों, पढ़ समझें निहितार्थ।।
*
करें शब्द से मित्रता, तभी रच सकें काव्य।
शब्द असर कर कर सकें, असंभाव्य संभाव्य।।
*
भाषा-संस्कृति शब्द से, बनती अधिक समृद्ध।
सम्यक् शब्द-प्रयोग कर, मनुज बने मतिवृद्ध।।
*
सीमित शब्दों में भरें, आप असीमित भाव।
चोटिल करते शब्द ही, शब्द मिटाते घाव।।आद्या
*
दें शब्दों का तोहफा, दूरी कर दें दूर।
मिले शब्द-उपहार लें, बनकर मित्र हुजूर।।
*
निराकार हैं शब्द पर, व्यक्त करें आकार।
खुद ईश्वर भी शब्द में, हो जाता साकार।।
*
जो जड़ वे जानें नहीं, क्या होता है शब्द।
जीव-जंतु ध्वनि से करें, भाव व्यक्त बेशब्द।।
*
बेहतर नागर सभ्यता, शब्द-शक्ति के साथ।
सुर नर वानर असुर के,  शब्द बन गए हाथ।।
*
पीढ़ी-दर-पीढ़ी बढ़ें, मिट-घट सकें न शब्द।
कहें, लिखें, पढ़िए सतत, कभी न रहें निशब्द।।
*
शब्द भाव-भंडार हैं, सरस शब्द रस-धार।
शब्द नए नित सीखिए, सबसे सब साभार।।
*
शब्द विरासत; प्रथा भी, परंपरा लें जान।
रीति-नीति; व्यवहार है, करें शब्द का मान।।
*
शब्द न अपना-गैर हो, बोलें बिन संकोच।
लें-दें कर लगता नहीं, घूस न यह उत्कोच।।
*
शब्द सभ्यता-दूत हैं, शब्द संस्कृति पूत।
शब्द-शक्ति सामर्थ्य है, मानें सत्य अकूत।।
*
शब्द न देशी-विदेशी, शब्द न अपने-गैर।
व्यक्त करें अनुभूति हर, भाव-रसों के पैर।।
*
शब्द-शब्द में प्राण है,  मत मानें निर्जीव।
सही प्रयोग करें सभी, शब्द बने संजीव।।
*
शब्द-सिद्धि कर सृजन के, पथ पर चलें सुजान।
शब्द-वृद्धि कर ही बने, रचनाकार महान।।
*
शब्द न नाहक बोलिए, हो जाएंगे शोर।
मत अनचाहे शब्द कह, काटें स्नेहिल डोर।।
*
समझ शऊर तमीज सच, सिखा बनाते बुद्ध।
युद्घ कराते-रोकते, करते शब्द प्रबुद्ध।।
*
शब्द जुबां को जुबां दें, दिल को दिल से जोड़।
व्यर्थ होड़ मत कीजिए, शब्द न दें दिल तोड़।।
*
बातचीत संवाद गप, गोष्ठी वार्ता शब्द।
बतरस गपशप चुगलियाँ, होती नहीं निशब्द।।
*
दोधारी तलवार सम, करें शब्द भी वार।
सिलें-तुरप; करते रफू, शब्द न रखें उधार।।
*
शब्दों से व्यापार है, शब्दों से बाजार।
भाव-रस रहित मत करें, व्यर्थ शब्द-व्यापार।।
*
शब्द आरती भजन जस, प्रेयर हम्द अजान।
लोरी गारी बंदिशें, हुक्म कभी फरमान।।
*
विनय प्रार्थना वंदना, झिड़क डाँट-फटकार।
ऑर्डर विधि आदेश हैं, शब्द दंड की मार।।
*
शब्द-साधना दूत बन, करें शब्द से प्यार।
शब्द जिव्हा-शोभा बढ़ा, हो जाए गलहार।।
***
salil.sanjiv@gmail.com
18.7.2018, 7999559618

मंगलवार, 17 जुलाई 2018

पुस्तक समीक्षा: काल है संक्रांति का, डा. श्याम गुप्त


पुस्तक समीक्षा

[समीक्ष्य कृति: काल है संक्रांति का,रचनाकार: आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल', प्रथम संस्करण २०१६, मूल्य: २००/-, आवरण: मयंक वर्मा, रेखांकन: अनुप्रिया, प्रकाशक-समन्वय प्रकाशन अभियान, ४०१ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर, चलभाष: ७९९९५५९६१८, समीक्षक: डा. श्याम गुप्त, लखनऊ] 
साहित्य जगत में समन्वय के साहित्यकार, कवि हैं आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'।प्रस्तुत कृति ‘काल है संक्रांति का’ की सार्थकता का प्राकट्य मुखपृष्ठ एवं शीर्षक से ही हो जाता है। वास्तव में ही यह संक्रांति-काल है, जब सभी जन व वर्ग भ्रमित अवस्था में हैं। एक और अंग्रेज़ी का वर्चस्व जहाँ चमक-दमक वाली विदेशी संस्कृति दूर से सुहानी लगती है; दूसरी और हिंदी–हिंदुस्तान का, भारतीय स्व संस्कृति का प्रसार जो विदेश बसे को भी अपनी मिट्टी की ओर खींचता है। या तो अँगरेज़ हो जाओ या भारतीय किंतु समन्वय ही उचित पंथ होता है, जो हर युग में विद्वानों, साहित्यकारों को ही करना होता है। सलिल जी की साहित्यिक समन्वयक दृष्टि का एक उदाहरण प्रस्तुत है: 'गीत अगीत प्रगीत न जानें / अशुभ भुला शुभ को पहचानें ।' माँ शारदा से पहले, ब्रह्म रूप में चित्रगुप्त की वंदना भी नवीनता है। कवि की हिंदी भक्ति वंदना में भी छलकती है: हिंदी हो भावी जग वाणी / जय जय वीणापाणी’।
यह कृति लगभग १४ वर्षों के लंबे अंतराल में प्रस्तुत हुई है। इस काल में कितनी विधाएँ आईं–गईं, कितनी साहित्यिक गुटबाजी रही, सलिल मौन दृष्टा की भाँति गहन दृष्टि से देखने के साथ-साथ उसकी जड़ों को, विभिन्न विभागों को अपने काव्य व साहित्य-शास्त्रीय कृतित्वों से पोषण दे रहे थे, जिसका प्रतिफल है यह कृति। 
कितना दुष्कर है बहते सलिल को पन्ने पर रोकना-उकेरना। समीक्षा लिखते समय मेरा यही भाव बनता था जिसे मैंने संक्षिप्त में काव्य-रूपी समीक्षा में इस प्रकार व्यक्त किया है-
“शब्द सा है मर्म जिसमें, अर्थ सा शुचि कर्म जिसमें 
साहित्य की शुचि साधना जो, भाव का नव धर्म जिसमें 
उस सलिल को चाहता है, चार शब्दों में पिरोना।।” 
सूर्य है प्रतीक संक्रांति का, आशा के प्रकाश का, काल की गति का, प्रगति का। अतः, सूर्य के प्रतीक पर कई रचनाएँ हैं | ‘जगो सूर्य लेकर आता है अच्छे दिन’ ( जगो सूर्य आता है ) में आशावाद है, नवोन्मेष है जो उन्नायकी समस्त साहित्य में व इस कृति में सर्वत्र परिलक्षित है। ‘मानव की आशा तुम, कोशिश की भाषा तुम’ (उगना नित) ‘छँट गए हैं फूट के बादल, पतंगें एकता की उड़ाओ”(-आओ भी सूरज)।
पुरुषार्थ युक्त मानव, शौर्य के प्रतीक सूर्य की भाँति प्रत्येक स्थित में सम रहता है। ‘उग रहे या ढल रहे तुम, कांत प्रतिपल रहे सूरज’ तथा ‘आस का दीपक जला हम, पूजते हैं उठ सवेरे, पालते या पल रहे तुम ‘(-उग रहे या ढल रहे ) से प्रकृति के पोषण-चक्र, देव-मनुज नाते का कवि हमें ज्ञान कराता है | शिक्षा की महत्ता ‘सूरज बबुआ’ में, संपाती व हनुमान की पौराणिक कथाओं के संज्ञान से इतिहास की भूलों को सुधारकर लगातार उद्योग व हार न मानने की प्रेरणा दी गई है ‘छुएँ सूरज’ रचना में। शीर्षक रचना ‘काल है संक्रांति का’ प्रयाण गीत है, ‘काल है संक्रांति का, तुम मत थको सूरज’ सूर्य व्यंजनात्मक भाव में मानवता के पौरुष का, ज्ञान का व प्रगति का प्रतीक है जिसमें 'चरैवेति-चरैवेति' का संदेश निहित है। यह सूर्य स्वयं कवि भी हो सकता है।“
युवा पीढ़ी को स्व-संस्कृति का ज्ञान नहीं है, कवि व्यथित हो स्पष्टोक्ति में कह उठता है:
‘जड़ गँवा जड़ युवा पीढ़ी, काटती है झाड़, प्रथा की चूनर न भाती, फेंकती है फाड़ /
स्वभाषा को भूल इंग्लिश से लड़ाती लाड़।’
 
यदि हम शुभ चाहते हैं तो सभी जीवों पर दया करें एवं सामाजिक एकता व परमार्थ भाव अपनाएँ। कवि व्यंजनात्मक भाव में कहता है: ‘शहद चाहें, पाल माखी |’ (उठो पाखी )| देश में भिन्न-भिन्न नीतियों की राजनीति पर भी कवि स्पष्ट रूप से तंज करता है: ’धारा ३७० बनी रहेगी क्या’/ काशी मथुरा अवध विवाद मिटेंगे क्या’? ‘ओबामा आते’ में आज के राजनीतिक-व्यवहार पर प्रहार है | 
अंतरिक्ष में तो मानव जा रहा है परंतु क्या वह पृथ्वी की समस्याओं का समाधान कर पाया है? यह प्रश्न उठाते हुए सलिल जी कहते हैं..’मंगल छू / भू के मंगल का क्या होगा?’ ’पंजाबी  गीत ‘सुंदरिये मुंदरिये ’ तथा बुंदेली लोकगीत ‘मिलती कायं नें’ में कवि के समन्वयता भाव की ही अभिव्यक्ति है।
प्रकृति, पर्यावरण, नदी-प्रदूषण, मानव आचरण से चिंतित कवि कह उठता है:
‘कर पूजा पाखण्ड हम / कचरा देते डाल । मैली होकर माँ नदी / कैसे हो खुशहाल?’
‘जब लौं आग’ में कवि 'उत्तिष्ठ जागृत' का संदेश देता है कि हमारी अज्ञानता ही हमारे दुखों का कारण है:
‘गोड़-तोड़ हम फसल उगा रए/ लूट रहे व्योपारी। जागो बनो मशाल नहीं तो / घेरे तुमें अँधेरा।
धन व शक्ति के दुरुपयोग एवं वे दुरुपयोग क्यों कर पा रहे हैं, ज्ञानी पुरुषों की अकर्मण्यता के कारण।सलिल जी कहते हैं: -‘रुपया जिसके पास है / उद्धव का संन्यास है / सूर्य ग्रहण खग्रास है |’ (-खासों में ख़ास है )
पेशावर के नरपिशाच, तुम बन्दूक चलाओ तो, मैं लडूँगा आदि रचनाओं में शौर्य के स्वर हैं।छद्म समाजवाद की भी खबर ली गयी है –‘लड़वाकर / मसला सुलझाए समाजवादी’।
पुरखों-पूर्वजों के स्मरण बिना कौन उन्नत हो पाया है? अतः, सभी पूर्व, वर्त्तमान, प्रत्यक्ष, अप्रत्यक्ष पुरखों, पितृजनों के एवं उनकी सीख का स्मरण में नवता का एक और पृष्ठ है ‘स्मरण’ रचना में:
‘काया माया छाया धारी / जिन्हें जपें विधि हरि त्रिपुरारी’
‘कलम थमाकर कर में बोले / धन यश नहीं सृजन तव पथ हो।’ क्योंकि यश व पुरस्कार की आकांक्षा श्रेष्ठ सृजन से वंचित रखती है। नारी-शक्ति का समर्पण का वर्णन करते हुए सलिल जी का कथन है:
‘बनी अग्रजा या अनुजा तुम / तुमने जीवन सरस बनाया ‘ (-समर्पण)।
'मिली दिहाड़ी' रचना में दैनिक वेतन-भोगी की व्यथा उत्कीर्णित है |
‘लेटा हूँ‘ रचना में श्रृंगार की झलक के साथ पुरुष मन की विभिन्न भावनाओं, विकृत इच्छाओं का वर्णन है। इस बहाने झाडूवाली से लेकर धार्मिक स्थल, राजनीति, कलाक्षेत्र, दफ्तर प्रत्येक स्थल पर नारी-शोषण की संभावना का चित्र उकेरा गया है। ‘राम बचाए‘ में जन मानस के व्यवहार की भेड़चाल का वर्णन है: ‘मॉल जारहे माल लुटाने / क्यों न भीड़ से भिन्न हुए हम’| अनियंत्रित विकास की आपदाएँ ‘हाथ में मोबाइल’ में स्पष्ट की गयी हैं।
‘मंजिल आकर’ एवं ‘खुशियों की मछली’ नवगीत के मूल दोष भाव-संप्रेषण की अस्पष्टता के उदाहरण हैं | वहीं आजकल समय बिताने हेतु, कुछ हो रहा है यह दिखाने हेतु, साहित्य एवं हर संस्था में होने वाले विभिन्न विषयों पर सम्मेलनों, वक्तव्यों, गोष्ठियों, चर्चाओं की निरर्थकता पर कटाक्ष है ‘दिशा न दर्शन’ रचना में:  
‘क्यों आये हैं? / क्या करना है? / ज्ञात न पर / चर्चा करना है |’
राजनैतिक गुलामी से मुक्त होने पर भी अभी हम सांस्कृतिक रूप से स्वतंत्र नहीं हुए हैं। वह वास्तविक आजादी कब मिलेगी, कृतिकार के अनुसार, इसके लिए मानव बनना अत्यावश्यक है:  
‘सुर न असुर हम आदम यदि बन जायेंगे इंसान, स्वर्ग तभी हो पायेगा धरती पर आबाद।’
सार्वजनिक जीवन व मानव आचरण में सौम्यता, समन्वयता, मध्यम मार्ग की आशा की गई है ताकि अतिरेकता, अति-विकास, अति-भौतिक उन्नति के कारण प्रकृति, व्यक्ति व समाज का व्यबहार घातक न हो जाए:
‘पर्वत गरजे, सागर डोले / टूट न जाएँ दीवारें / दरक न पायें दीवारें।’ 
इस प्रकार कृति का भाव पक्ष सबल है | कला पक्ष की दृष्टि से देखें तो जैसा कवि ने स्वयं कहा है ‘गीत-नवगीत‘ अर्थात सभी गीत ही हैं। कई रचनाएँ तो अगीत-विधा की हैं:‘अगीत-गीत’ हैं। वस्तुतः, इस कृति को ‘गीत-अगीत-नवगीत संग्रह’ कहना चाहिए। सलिल जी काव्य में इन सब छंदों-विभेदों के द्वंद नहीं मानते अपितु एक समन्वयक दृष्टि रखते हैं, जैसा उन्होंने स्वयम कहा है ‘कथन’ रचना में:
‘गीत अगीत प्रगीत न जानें / अशुभ भुला, शुभ को पहचाने।’
‘छंद से अनुबंध दिखता या न दिखता / किन्तु बन आरोह या अवरोह पलता।’
‘विरामों से पंक्तियाँ नव बना / मत कह, छंद हीना / नयी कविता है सिरजनी।’
सलिल जी लक्षण शास्त्री हैं। साहित्य, छंद आदि के प्रत्येक भाव, भाग-विभाग का व्यापक ज्ञान व वर्णन कृति में प्रस्तुत किया गया है। विभिन्न छंदों, मूलतः सनातन छंदों दोहा, सोरठा, हरिगीतिका, आल्हा छंद तथा लोकधुनों के आधार पर नवगीत रचना दुष्कर कार्य है। वस्तुतः, ये विशिष्ट नवगीत हैं, प्रायः रचे जाने वाले अस्पष्ट संदेश वाले, तोड़-मरोड़कर लिखे जाने वाले नवगीत नहीं हैं। सोरठा पर आधारित एक गीत देखें:
‘आप न कहता हाल, भले रहे दिल सिसकता।
करता नहीं ख़याल, नयन कौन सा फड़कता।।’
कृति की भाषा सरल, सुग्राह्य, शुद्ध खड़ी बोली हिंदी है। विषय, स्थान व आवश्यकतानुसार भाव-सम्प्रेषण हेतु देशज व बुंदेली का भी प्रयोग किया गया है: यथा ‘मिलती कायं नें ऊंची वारी/ कुरसी हमकों गुइयाँ।|’ उर्दू के गज़लात्मक गीत का एक उदाहरण देखें:
‘ख़त्म करना अदावत है / बदल देना रवायत है / ज़िंदगी गर नफासत है / दीन-दुनिया सलामत है।’
अधिकाँश रचनाओं में प्रायः उपदेशात्मक शैली का प्रयोग किया गया है। वर्णानात्मक व व्यंगात्मक शैली का भी यथास्थान प्रयोग है। कथ्य-शैली मूलतः अभिधात्मक शब्द भाव होते हुए भी अर्थ-व्यंजना युक्त है। एक व्यंजना देखिए: ‘अर्पित शब्द हार उनको / जिनमें मुस्काता रक्षाबंधन।’ एक लक्षणा का भाव देखें:
‘राधा या आराधा सत शिव / उषा सदृश्य कल्पना सुंदर।’
विविध अलंकारों की छटा सर्वत्र विकिरित है: ‘अनहद अक्षय अजर अमर है / अमित अभय अविजित अविनाशी।’ में अनुप्रास का सौंदर्य है।| ‘प्रथा की चूनर न भाती’ व 'उनके पद सरोज में अर्पित / कुमुद कमल सम आखर मनका।’ में उपमा दर्शनीय है। ‘नेता अफसर दुर्योधन, जज वकील धृतराष्ट्र’ में रूपक की छटा है, तो ‘कुमुद कमल सम आखर मनका’ में श्लेष अलंकार है।उपदेशात्मक शैली में रसों की संभावना कम ही रहती है तथापि ओबामा आते, मिलती कायं नें, लेटा हूँ में हास्य व श्रृंगार का प्रयोग है। ‘कलश नहीं आधार बनें हम’ में प्रतीक व ‘आखें रहते भी हैं सूर’ व ‘पौ बारह’ कहावतों के उदाहरण हैं। ‘गोदी चढ़ा उंगलियाँ थामी / दौड़ा गिरा उठाया तत्क्षण ‘ में चित्रमय बिंब-विधान का सौंदर्य दृष्टिगत है। 
पुस्तक आवरण के मोड़-पृष्ठ पर सलिल जी के प्रति विद्वानों की राय एवं आवरण व सज्जाकारों के चित्र, आचार्य राजशेखर की काव्य-मीमांसा का उद्धरण एवं स्वरचित दोहे भी अभिनव प्रयोग हैं। अतः, वस्तुपरक व शिल्प सौंदर्य के समन्वित दृष्टि भाव से ‘काल है संक्रांति का’ एक सफल कृति है। इसके लिए श्री संजीव वर्मा सलिल जी बधाई के पात्र हैं।
लखनऊ, दि.११.१०.२०१६                                                                                                            - डा. श्याम गुप्त
विजय दशमी सुश्यानिदी, के-३४८, आशियाना, लखनऊ-२२६०१२, चलभाष: ९४१५१५६४६४ ।

ओ तुम!

एक रचना:
ओ तुम!
*
चित्र में ये शामिल हो सकता है: Tapsi Nagraj, मुस्कुराते हुए, खड़े रहना





















ओ तुम! मेरे गीत-गीत में बहती रस की धारा हो.
लगता हर पल जैसे तुमको पहली बार निहारा हो.
दोहा बनकर मोहा तुमने, हाथ थमाया हाथों में-
कुछ न अधर बोले पर लगता तुमने अभी पुकारा हो.
*
ओ तुम! ही छंदों की लय हो, विलय तुम्हीं में भाव हुए.
दूर अगर तुम तो सुख सारे, मुझको असह अभाव हुए.
अपने सपने में केवल तुम ही तुम हो अभिसारों में-
मन-मंदिर में तुम्हीं विराजित, चौपड़ की पौ बारा हो.
*
ओ तुम! मात्रा-वर्ण के परे, कथ्य-कथानक भाषा हो.
अलंकार का अलंकार तुम, जीवन की परिभाषा हो.
नयनों में सागर, माथे पर सूरज, दृढ़संकल्पमयी-
तुम्हीं पूर्णिमा का चंदा हो, और तुम्हीं ध्रुव तारा हो.
*
तुम्हीं लावणी, कजरी, राई, रास, तुम्हीं चौपाई हो.
सावन की हरियाली हो तुम, फागों की अरुणाई हो.
कथा-वार्ता, व्रत, मेला तुम, भजन, आरती की घंटी -
नेह-नर्मदा नित्य निनादित, तुम्हीं सलिल की धारा हो.
***
salil.sanjiv@gmail.com
१७.७.२०१८, ७९९९५५९६१८






































दोहा सलिला: जाति

'जाति' पर दोहे
*
'जा' से आशय जन्मना, 'जाया' जननी अंब।
'जात्रा' यात्रा लक्ष्य तक, पहुँचाती अविलंब।।
*
'जातक' लेता जन्म जग, हो आनंद विभोर।
रहा गर्भ में सुप्त जग, थाने जीवन डोर।।
*
बौद्धों की 'जातक कथा', गह जीवन का सार।
विविध योनि में बुद्ध का, बतलाती अवतार।।
*
जो 'जाता' वह पहुँचता, दृढ़ हो यदि संकल्प।
श्रम-प्रयास कर अनवरत, दूजा नहीं विकल्प।।
*
'जा ना' को कर अनसुना,  'जाना' ले जो ठान।
पाना वह ही जानता, जग गाता जयगान।।
*
'जाति' वर्ग संवर्ग या, कुनबा वंश समूह।
गोत्र अल्ल एकत्व का, रचते सुदृढ़ व्यूह।।
*
कास्ट क्लास कैडर करें, संप्रेषित कुछ अर्थ।
सैन्य वाहिनी फौज दल, बल बिन होते व्यर्थ।
*
'जात दिखा दी' कहावत, कहती क्या सच खोल।
'जात' ग्यात तो असलियत, ग्यात नहीं तो पोल।।
*
'जनता' 'जनती' जन्म दे, जिसे वही जनतंत्र।
जनता द्वारा-हेतु-की, रक्षा-हित मन-मंत्र।।
*
'जात-जाति' से वास्तविक, गुण-अवगुण हो ग्यात।
सामाजिक अनुमान की, रीति-नीति चिर ख्यात।।
*
'जाति' बताती जन्मना, खूबी-कमी विशेष।
प्रथा-विरासत जन्म से, पाई-गही विशेष।।
*
वंशगती गुण-सूत्र जो, 'जाति' करे संकेत।
जो समझे आगे बढ़े, टकराकर हो खेत।।
*
मिल विजाति से 'जाति' ही, रचे नया संसार।
तज कुजाति को बच-बचा, होती भव से पार।।
*
रूढ़ न होती 'जाति' सच, अटल लीजिए मान।
'जाति' भेद करती नहीं, हर गुण मान समान।।
*
गुण से गुण मिल गुण बढ़ें, अवगुण हों कम-दूर।
जाति-व्यवस्था है यही, देख न पाते सूर।।
*
भिन्न जातियों के मिलें, जातक सोच-विचार।
ताल-मेल ताजिंदगी रखें, 'जाति' का सार।।
*
नीर-क्षीर का मिलन शुभ, चंदन-कीचड़ हेय।
'जाति' परखती मिलन-फल, मिले श्रेष्ठ को श्रेय।।
*
'जाति' न अत्याचार है, नहीं जिद्द या स्वार्थ।
उच्छृंखलता रोकनी, 'जाति' साध सर्वार्थ ।।
*
मर्यादा हर व्यक्ति की, होती एक समान।
नहीं जीविका; कर्म से, श्रेष्ठ-हेय अनुमान।।
*
आत्मा काया में बसे, हो कायस्थ न भूल।
समता का वैषम्य में, 'जाति' सुगंधित फूल।।
*
'जाति' देखती अंत में, क्या होगा परिणाम।
आदि भले हो कष्टप्रद, सुखद रहे अंजाम।।
*
salil.sanjiv@gmail.com
17.7.2018, 7999559618

सोमवार, 16 जुलाई 2018

व्यंग्य गीत

व्यंग्य गीत:
अभिनंदन लो
*
युग-कवयित्री! अभिनंदन लो....
*
सब जग अपना, कुछ न पराया
शुभ सिद्धांत तुम्हें यह भाया.
गैर नहीं कुछ भी है जग में-
'विश्व एक' अपना सरमाया.
जहाँ मिले झट झपट वहीं से
अपने माथे यश-चंदन लो
युग-कवयित्री अभिनंदन लो....
*
मेरा-तेरा मिथ्या माया
दास कबीरा ने बतलाया.
भुला परायेपन को तुमने
गैर लिखे को कंठ बसाया.
पर उपकारी अन्य न तुमसा
जहाँ रुचे कविता कुंदन लो
युग-कवयित्री अभिनंदन लो....
*
हिमगिरी-जय सा किया यत्न है
तुम सी प्रतिभा काव्य रत्न है.
चोरी-डाका-लूट कहे जग
निशा तस्करी मुदित-मग्न है.
अग्र वाल पर रचना मेरी
तेरी हुई, महान लग्न है.
तुमने कवि को धन्य किया है
खुद का खुद कर मूल्यांकन लो
युग-कवयित्री अभिनंदन लो....
*
कवि का क्या? 'बेचैन' बहुत वह
तुमने चैन गले में धारी.
'कुँवर' पंक्ति में खड़ा रहे पर
हो न सके सत्ता अधिकारी.
करी कृपा उसकी रचना ले
नभ-वाणी पर पढ़कर धन लो
युग-कवयित्री अभिनंदन लो....
*
तुम जग-जननी, कविता तनया
जब जी चाहा कर ली मृगया.
किसकी है औकात रोक ले-
हो स्वतंत्र तुम सचमुच अभया.
दुस्साहस प्रति जग नतमस्तक
'छद्म-रत्न' हो, अलंकरण लो
युग-कवयित्री अभिनंदन लो....
*
(टीप: एक श्रेष्ठ कवि की रचना कुछ उलट-फेर के साथ २३-५-२०१८ को प्रात: ६.४० बजे काव्य धारा कार्यक्रम में आकाशवाणी पर प्रस्तुत कर धनार्जन का अद्भुत पराक्रम करने के उपलक्ष्य में यह रचना समर्पित उसे ही जो इसका सुपात्र है)

बालगीत

बाल गीत:
धानू बिटिया
*
धानू बिटिया रानी है। 
सच्ची बहुत सयानी है।।
यह हरदम मुस्काती है।
खुशियाँ खूब लुटाती है।।
है परियों की शहजादी।
तनिक न करती बर्बादी।।
आँखों में अनगिन सपने।
इसने पाले हैं अपने।।
पढ़-लिख कभी न हारेगी।
हर दुश्मन को मारेगी।।
हर बाधा कर लेगी पार।
होगी इसकी जय-जयकार।।
**

भाषा गीत

भारत का भाषा गीत 
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'
*
हिंद और हिंदी की जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 
*
भाषा सहोदरा होती है, हर प्राणी की 
अक्षर-शब्द बसी छवि, शारद कल्याणी की 
नाद-ताल, रस-छंद, व्याकरण शुद्ध सरलतम 
जो बोले वह लिखें-पढ़ें, विधि जगवाणी की 
संस्कृत सुरवाणी अपना, गलहार करें हम 
हिंद और हिंदी की, जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 
*
असमी, उड़िया, कश्मीरी, डोगरी, कोंकणी,
कन्नड़, तमिल, तेलुगु, गुजराती, नेपाली,
मलयालम, मणिपुरी, मैथिली, बोडो, उर्दू 
पंजाबी, बांगला, मराठी सह संथाली 
​'सलिल' पचेली, सिंधी व्यवहार करें हम 
हिंद और हिंदी की, जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 

ब्राम्ही, प्राकृत, पाली, बृज, अपभ्रंश, बघेली,
अवधी, कैथी, गढ़वाली, गोंडी, बुन्देली, 
राजस्थानी, हल्बी, छत्तीसगढ़ी, मालवी, 
भोजपुरी, मारिया, कोरकू, मुड़िया, नहली,
परजा, गड़वा, कोलमी से सत्कार करें हम 
हिंद और हिंदी की, जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 

शेखावाटी, डिंगल, हाड़ौती, मेवाड़ी 
कन्नौजी, मागधी, खोंड, सादरी, निमाड़ी, 
सरायकी, डिंगल, खासी, अंगिका, बज्जिका, 
जटकी, हरयाणवी, बैंसवाड़ी, मारवाड़ी,
मीज़ो, मुंडारी, गारो मनुहार करें हम 
हिन्द और हिंदी की जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 
*
देवनागरी लिपि, स्वर-व्यंजन, अलंकार पढ़ 
शब्द-शक्तियाँ, तत्सम-तद्भव, संधि, बिंब गढ़ 
गीत, कहानी, लेख, समीक्षा, नाटक रचकर 
समय, समाज, मूल्य मानव के नए सकें मढ़ 
'सलिल' विश्व, मानव, प्रकृति-उद्धार करें हम 
हिन्द और हिंदी की जय-जयकार करें हम 
भारत की माटी, हिंदी से प्यार करें हम 
**** 
-विश्ववाणी हिंदी संस्थान, २०४ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर ४८२००१.
चलभाष: ९४२५१८३२४४, ईमेल: salil.sanjiv@gmail.com

व्यंग्य कविता: मेरी श्वास-श्वास में कविता

हास्य रचना:
मेरी श्वास-श्वास में कविता 
*
मेरी श्वास-श्वास में कविता 
छींक-खाँस दूँ तो हो गीत। 
युग क्या जाने खर्राटों में
मेरे व्याप्त मधुर संगीत।
पल-पल में कविता कर देता
पहर-पहर में लिखूँ निबंध।
मुक्तक-क्षणिका क्षण-क्षण होते
चुटकी बजती काव्य प्रबंध।
रस-लय-छंद-अलंकारों से
लेना-देना मुझे नहीं।
बिंब-प्रतीक बिना शब्दों की
नौका खेना मुझे यहीं।
धुंआधार को नाम मिला है
कविता-लेखन की गति से।
शारद भी चकराया करतीं
हैं; मेरी अद्भुत मति से।
खुद गणपति भी हार गए
कविता सुन लिख सके नहीं।
खोजे-खोजे अर्थ न पाया
पंक्ति एक बढ़ सके नहीं।
एक साल में इतनी कविता
जितने सर पर बाल नहीं।
लिखने को कागज़ इतना हो
जितनी भू पर खाल नहीं।
वाट्स एप को पूरा भर दूँ
अगर जागकर लिख दूँ रात।
गूगल का स्पेस कम पड़े,
मुखपोथी की क्या औकात?
ट्विटर, वाट्स एप, मेसेंजर
मुझे देख डर जाते हैं।
वेदव्यास भी मेरे सम्मुख
फीके से पड़ जाते हैं।
वाल्मीकि भी पानी भरते
मेरी प्रतिभा के आगे।
जगनिक और ईसुरी सम्मुख
जाऊँ तो पानी माँगे।
तुलसी सूर निराला बच्चन
से मेरी कैसी समता?
अब के कवि खद्योत सरीखा
हर मेरे सम्मुख नमता।
किस्में क्षमता है जो मेरी
प्रतिभा का गुणगान करे?
इसीलिये मैं खुद करता हूँ,
धन्य वही जो मान करे.
विन्ध्याचल से ज्यादा भारी
अभिनंदन के पत्र हुए।
स्मृति-चिन्ह अमरकंटक सम
जी से प्यारे लगें मुए।
करो न चिता जो व्यय; देकर
मान पत्र ले, करूँ कृतार्थ।
लक्ष्य एक अभिनंदित होना,
इस युग का मैं ही हूँ पार्थ।
***
१४.६.२०१८, ७९९९५५९६१८
salil.sanjiv@gmail.com

सूचना: दोहा शतक मंजूषा

- : दोहा शतक मंजूषा: -
विश्ववाणी हिंदी संस्थान जबलपुर के तत्वावधान में दोहा-लेखन तथा दोहाकारों को प्रोत्साहित तथा प्रतिष्ठित करने का उद्देश्य लेकर समकालिक वरिष्ठ तथा नवोदित दोहाकारों के दोहा-शतकों का संकलन शीघ्र ही प्रकाशित किया जा रहा है। १५-१५ दोहकारों को एक-एक भाग में सम्मिलित किया जा रहा है। भाग १ व २ का मुद्रण प्रगति पर है। भाग ३ का संपादन कार्य आधा हो चुका है। दोहा को लेकर इतना विराट अनुष्ठान पहली बार हो रहा है। ये संकलन दोहा का अजायबघर नहीं, क्यारी और उद्यान हैं।  
संकलन में सम्मिलित प्रत्येक दोहाकार के १०० दोहे, चित्र, संक्षिप्त परिचय (नाम, जन्म तिथि व स्थान, माता-पिता, जीवनसाथी व काव्य गुरु के नाम, शिक्षा, लेखन विधा, प्रकाशित कृतियाँ, उपलब्धि, पूरा पता, चलभाष, ईमेल आदि) १० पृष्ठों में प्रकाशित किए जाएँगे। हर सहभागी के दोहों पर संक्षिप्त विमर्शात्मक टीप तथा दोहा पर आलेख भी होगा। संपादन वरिष्ठ दोहाकार आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' द्वारा किया जा रहा है, संपादकीय संशोधन स्वीकार्य हों तो आप सादर आमंत्रित हैं। प्रत्येक सहभागी ३०००/- अग्रिम सहयोग राशि देना बैंक, राइट टाउन शाखा जबलपुर IFAC: BKDN ०८११११९ में संजीव वर्मा के खाता क्रमांक १११९१०००२२४७ में अथवा नकद जमा करें। संकलन प्रकाशित होने पर हर सहभागी को सहभागिता-सम्मान पत्र तथा पुस्तक की ११ प्रतियाँ निशुल्क भेंट की/भेजी जाएँगी। प्राप्त दोहों में आवश्यकतानुसार संशोधन का अधिकार संपादक को होगा। दोहे unicode में भेजने हेतु ईमेल- salil.sanjiv@gmail.com, चलभाष ७९९९५५९६१८, ९४२५१८३२४४ । भारतीय बोलियों / अहिंदी भाषाओँ के दोहे देवनागरी लिपि में आंचलिक शब्दों के अर्थ पाद टिप्पणी में देते हुए भेजें।
अब तक निम्न दोहाकारों के दोहे के दोहे यथावश्यक संशोधित / संपादित तथा सहभागिता निधि प्राप्त हो जाने पर प्रकाशनार्थ अनुमोदित किए जा चुके हैं। वर्ण क्रमानुसार नाम - सर्व श्री / सुश्री / श्रीमती १. अखिलेश खरे 'अखिल', २. अनिल कुमार मिश्र, ३. अरुण शर्मा, ४. आभा सक्सेना 'दूनवी', ५. इंद्रकुमार श्रीवास्तव, ६उदयभानु तिवारी 'मधुकर', ७. ॐ प्रकाश शुक्ल, ८. कांति शुक्ल 'उर्मि', ९. कालिपद प्रसाद, १०. डॉ. गोपालकृष्ण भट्ट 'आकुल', ११. चंद्रकांता अग्निहोत्री', १२. छगनलाल गर्ग 'विज्ञ', १३. छाया सक्सेना 'प्रभु', १४. जयप्रकाश श्रीवास्तव, १५. त्रिभुवन कौल, १६. नीता सैनी, १७. डॉ. नीलमणि दुबे, १८. प्रेमबिहारी मिश्र, १९. बसंत शर्मा, २०. मनोजकुमार शुक्ल, २१. मिथिलेश बड़गैया, २२. रामकुमार चतुर्वेदी, २३. रामलखन सिंह चौहान, २४. रामेश्वरप्रसाद सारस्वत, २५. रीता सिवानी, २६. विजय बागरी, २७. विनोद जैन 'वाग्वर', २८. विश्वंभर शुक्ल २९. श्यामल सिन्हा, ३०. शशि त्यागी, ३१. शुचि भवि, ३२. शोभित वर्मा, ३३. श्रीधर प्रसाद द्विवेदी, ३४. सरस्वती कुमारी, ३५. सुरेश कुशवाहा 'तन्मय', ३६. संतोष नेमा, ३७. डॉ. हरि फैजाबादी, ३८. हिमकर श्याम। निम्न सहयोगियों से प्राप्त दोहे स्वीकृत किये जा चुके हैं, सहभागिता राशि अविलंब जमा करें ताकि प्रकाशनार्थ स्थान आरक्षित  हो सके: १. अरुण अर्णव खरे, २. डॉ. चित्रभूषण श्रीवास्तव 'विदग्ध',  ३. डॉ. जगन्नाथ प्रसाद बघेल, ४महातम मिश्र, ५राजकुमार महोबिया, ६. लता यादव, ७. विनीता श्रीवास्तव, ८. साहबलाल दशरिये। सहभागिता हेतु सहमति व्यक्त कर चुके निम्न दोहाकार १२० दोहे, चित्र, परिचय व सहभागिता निधि शीघ्रादिशीघ्र भेजें। सर्व श्री / सुश्री / श्रीमती १. गोपकुमार मिश्र, २. डॉ. रमन चेन्नई, ३. कृष्णा राजपूत, ४. प्रो. अपूर्व श्रीवास्तव, ५. प्रो. हेमंत पटेल, ६. रमेश विनोदी, ७. सविता तिवारी मारीशस, ८. सुमन श्रीवास्तव. ९. तृप्ति नेमा माहुले, १२. डॉ. वसुंधरा उपाध्याय, १३. पूजा अनिल स्पेन आदि। 
*
दोहा लेखन विधान:

१. दोहा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण तत्व है कथ्य। कथ्य से समझौता न करें। कथ्य या विषय को सर्वोत्तम रूप में प्रस्तुत करने के लिए विधा (गद्य-पद्य, छंद आदि) का चयन किया जाता है। कथ्य को 'लय' में प्रस्तुत किया जाने पर 'लय'के अनुसार छंद-निर्धारण होता है। छंद-लेखन हेतु विधान से सहायता मिलती है। रस तथा अलंकार लालित्यवर्धन हेतु है। उनका पालन किया जाना चाहिए किंतु कथ्य की कीमत पर नहीं। दोहाकार कथ्य, लय और विधान तीनों को साधने पर ही सफल होता है। 
२. दोहा द्विपदिक छंद है। दोहा में दो पंक्तियाँ (पद) होती हैं। हर पद में दो चरण होते हैं। 
३. दोहा मुक्तक छंद है। कथ्य (जो बात कहना चाहें वह) एक दोहे में पूर्ण हो जाना चाहिए। सामान्यत: प्रथम चरण में उद्भव, द्वितीय-तृतीय चरण में विस्तार तथा चतुर्थ चरण में उत्कर्ष या समाहार होता है। 
४. विषम (पहला, तीसरा) चरण में १३-१३ तथा सम (दूसरा, चौथा) चरण में ११-११ मात्राएँ होती हैं।
५. तेरह मात्रिक पहले तथा तीसरे चरण के आरंभ में एक शब्द में जगण (लघु गुरु लघु) वर्जित होता है। पदारंभ में 'इसीलिए' वर्जित, 'इसी लिए' मान्य। 
६. विषम चरणांत में 'सरन' तथा सम चरणांत में 'जात' से लय साधना सरल होता है है किंतु अन्य गण-संयोग वर्जित नहीं हैं। 
७. विषम कला से आरंभ दोहे के विषम चरण मेंकल-बाँट ३ ३ २ ३ २ तथा सम कला से आरंभ दोहे के विषम चरण में में कल बाँट ४ ४ ३ २ तथा सम चरणों की कल-बाँट ४ ४.३ या ३३ ३ २ ३ होने पर लय सहजता से सध सकती है।
८. हिंदी दोहाकार हिंदी के व्याकरण तथा मात्रा गणना नियमों का पालन करें। दोहा में वर्णिक छंद की तरह लघु को गुरु या गुरु को लघु पढ़ने की छूट नहीं होती।
९. आधुनिक हिंदी / खड़ी बोली में खाय, मुस्काय, आत, भात, आब, जाब, डारि, मुस्कानि, हओ, भओ जैसे देशज / आंचलिक शब्द-रूपों का उपयोग न करें। बोलियों में दोहा रचना करते समय उस बोली का यथासंभव शुद्ध रूप व्यवहार में लाएँ।
१०. श्रेष्ठ दोहे में अर्थवत्ता, लाक्षणिकता, संक्षिप्तता, मार्मिकता (मर्मबेधकता), आलंकारिकता, स्पष्टता, पूर्णता, सरलता तथा सरसता होना चाहिए।
११. दोहे में संयोजक शब्दों और, तथा, एवं आदि का प्रयोग यथासंभव न करें। औ' वर्जित 'अरु' स्वीकार्य। 'न' सही, 'ना' गलत। 'इक' गलत।
१२. दोहे में यथासंभव अनावश्यक शब्द का प्रयोग न हो। शब्द-चयन ऐसा हो जिसके निकालने या बदलने पर दोहा अधूरा सा लगे।
१३. दोहा में विराम चिन्हों का प्रयोग यथास्थान अवश्य करें।
१४. दोहे में कारक (ने, को, से, के लिए, का, के, की, में, पर आदि) का प्रयोग कम से कम हो।
१५. दोहा सम तुकांती छंद है। सम चरण के अंत में सामान्यत: वार्णिक समान तुक आवश्यक है। संगीत की बंदिशों, श्लोकों आदि में मात्रिक समान्त्तता भी राखी जाती रही है। 
१६. दोहा में लय का महत्वपूर्ण स्थान है। लय के बिना दोहा नहीं कहा जा सकता। लयभिन्नता स्वीकार्य है लयभंगता नहीं 
*
मात्रा गणना नियम
१. किसी ध्वनि-खंड को बोलने में लगनेवाले समय के आधार पर मात्रा गिनी जाती है।
२. कम समय में बोले जानेवाले वर्ण या अक्षर की एक तथा अधिक समय में बोले जानेवाले वर्ण या अक्षर की दो मात्राएँ गिनी जाती हैंं। तीन मात्रा के शब्द ॐ, ग्वं आदि संस्कृत में हैं, हिंदी में नहीं।
३. अ, इ, उ, ऋ तथा इन मात्राओं से युक्त वर्ण की एक मात्रा गिनें। उदाहरण- अब = ११ = २, इस = ११ = २, उधर = १११ = ३, ऋषि = ११= २, उऋण १११ = ३ आदि।
४. शेष वर्णों की दो-दो मात्रा गिनें। जैसे- आम = २१ = ३, काकी = २२ = ४, फूले २२ = ४, कैकेई = २२२ = ६, कोकिला २१२ = ५, और २१ = ३आदि।
५. शब्द के आरंभ में आधा या संयुक्त अक्षर हो तो उसका कोई प्रभाव नहीं होगा। जैसे गृह = ११ = २, प्रिया = १२ =३ आदि।
६. शब्द के मध्य में आधा अक्षर हो तो उसे पहले के अक्षर के साथ गिनें। जैसे- क्षमा १+२, वक्ष २+१, विप्र २+१, उक्त २+१, प्रयुक्त = १२१ = ४ आदि।
७. रेफ को आधे अक्षर की तरह गिनें। बर्रैया २+२+२आदि।
८. अपवाद स्वरूप कुछ शब्दों के मध्य में आनेवाला आधा अक्षर बादवाले अक्षर के साथ गिना जाता है। जैसे- कन्हैया = क+न्है+या = १२२ = ५आदि।
९. अनुस्वर (आधे म या आधे न के उच्चारण वाले शब्द) के पहले लघु वर्ण हो तो गुरु हो जाता है, पहले गुरु होता तो कोई अंतर नहीं होता। यथा- अंश = अन्श = अं+श = २१ = ३. कुंभ = कुम्भ = २१ = ३, झंडा = झन्डा = झण्डा = २२ = ४आदि।
१०. अनुनासिक (चंद्र बिंदी) से मात्रा में कोई अंतर नहीं होता। धँस = ११ = २आदि। हँस = ११ =२, हंस = २१ = ३ आदि।
मात्रा गणना करते समय शब्द का उच्चारण करने से लघु-गुरु निर्धारण में सुविधा होती है। इस सारस्वत अनुष्ठान में आपका स्वागत है। कोई शंका होने पर संपर्क करें। ***