शनिवार, 16 दिसंबर 2017

दोहा दुनिया- शिव

शिव हैं हर्षित चंद्र से,
सज्जित कर निज शीश.
विकल पूर्णिमा मोहनी,
कहाँ जाऊँ हे ईश!
.
मुदित चंद्र शिव शीश चढ़,
आभा रहा बिखेर.
देख सोम भूषण उमा,
हर्षित हुईं अबेर.
.
सुधा लिए शशि, नाग विष,
शिव को दोनों काम्य.
विरति और रति में रखें,
आशुतोष नित साम्य.
.
जगत्पिता जंगल बसे,
मनुज मूढ़ मत काट.
जगजननी पर्वतसुता,
खोद न पर्वत-घाट.
.
शिव को प्रिय जलधार है,
जल से उमा प्रसन्न.
जो जल को गंदा किया,
समझ विपद आसन्न.
.

शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017

दोहा दुनिया- शिव

शिव भोले सब जानते,
किंतु दिखें अनजान.
जो शिव से छल कर रहा,
वह दुर्मति नादान.
.
विनत वंदना कर रहा,
कर जोड़े लंकेश.
कर प्रसन्न चाहे बसें,
लंका उमा-उमेश.
.

मातु-पिता कह रमण का,
वर्णन करता मूढ़.
मर्यादा अति सरल सी,
हुई विषय अति गूढ़.
.
शिवा संकुचित, शिव हँसे,
समझा हुए प्रसन्न.
समझ न पाया विपद-पल,
हैं उसके आसन्न.
.
अहंकारवश भक्त ने,
ठाना शक्ति-प्रयोग.
भक्ति रहित लख शक्ति ने,
किया दंड-विनियोग.
.
चाह रहा कैलाश को,
उठा ले चले साथ.
दबा बाँह शिव ने दिया,
झुका दर्प का माथ.
.
भोले प्रति भोले रहें,
छल को छल से मात.
देते शिव, हे छली मन!
निर्मल रह दिन-रात.
...
15.12.2017

जबलपुर, मध्य प्रदेश, भारत

गुरुवार, 14 दिसंबर 2017

दोहा कार्यशाला

11-- दोहे मोती फिर-फिर पोइये, जब-जब टूटे हार । तोड़न से जोड़न बड़ा, महिमा सृजन अपार ।। तोड़न, जोड़न अशुद्ध
तोड़ें मत जोड़ें सदा, पाएं सुयश अपार
* घिर अंधेरा आए तो, अंतस दीप जलाय। मिल झरोखा जायेगा, मन में आस जगाय।। लय दोष, दोनों पंक्तियों के कथ्य में तालमेल कम है.
*
पीर इंतिहा तक जाए, सोच बनी जंजीर।
औरन से मिलता रहे, खुद क्यों पीर अधीर।। पीर इंतिहा हो अगर, सोच बने जंजीर
करे परीक्षा धैर्य की, हो क्यों पीर अधीर?
* ठहरकर जरा तो देखिए, अपने चारों ओर। मिली नियामत विचारिए, चमत्कार चहुँओर।। जरा ठहरकर देखिए, अपने चारों ओर
मिली नियामत अनगिनत, बिखरी है चहुँ ओर
*
सागर बादल बारिशें, काँकर पाथर घास। बना मीत मन गुजारिए,न रहिए बैठ उदास।।
सागर बादल बारिशें, काँकर पाथर घास बना मीत हँस-बोलिए,रहें न बैठ उदास * शिव गौरी आराधना,अन्तर्मन कर लीन। भवसागर की ताड़ना, पार बिना गमगीन ।।
शिव गौरी आराधना, कर अन्तर्मन लीन भवसागर को पारकर, हुए बिना गमगीन * नारी मनभावन लगे, बिना हुवे गम्भीर । जो दिया सम्मान नहीं, व्यर्थ हुई तदबीर।।
अर्थ अस्पष्ट
नारी मनभावन लगे, अगर धीर गम्भीर मिला नहीं सम्मान यदि, व्यर्थ हुई तदबीर * काम धरम सा होत है, पूजन की तासीर। पावन नीयत राखिये, कमतर होगी पीर।। अर्थ अस्पष्ट
* ऐसा काम न कीजिये, पछताना अंजाम। पहले ही गुन लीजिये, हो सकार परिणाम।।
ऐसा काम न कीजिये, पछताना अंजाम पहले गुन लें हो तभी, मनमाफिक परिणाम * भरोसा बड़ा विचारिए, तब कीजै अविराम। भीतर किसके क्या पले, बाहर शहद तमाम।।
करें भरोसा बाद में, पहले सोच-विचार किसके भीतर क्या पले, जानें भली प्रकार * उबरन नामुमकिन नहीं, चाहे जो अंधेर। कोशिश तो कर देखिए, मिटै तमस का घेर।।
उबरन नामुमकिन नहीं, चाहे जो अंधेर। कोशिश तो कर देखिए, मिटै तमस का घेर।।
कुछ भी नामुमकिन नहीं, अमर नहीं अंधेर नित कोशिश कर देखिए, मिटे तमस का घेर।। @सुनीता सिंह (14-13-2017)
टीप- एक विचार पर ४-५ बार भन्न-भिन्न तरह से दोहा कहें, श्रेष्ठ को रखें
लय गुनगुनाते हुए लिखें, कहीं अटकन न हो .

vyangya lekh

व्यंग्य लेख:
हाथ पाकिस्तान का 
*
ये ससुरा पकिस्तान भी गजब किये जा रहा है। 'घर में नईयां दाने और अम्मा चली भुनाने' खुद से अपना घर सम्हाले नहीं सम्हल रहा और चला है 'न भूतो न भविष्यति' का उदाहरण प्रस्तुत कर रहे स्वयंभू महामानव, महानायक, महानेता और ना जाने कितने-कितने महा के घर के चुनाव में बाजी पलटने के लिए उन्हीं की राजधानी में, उन्हीं के प्रमुख विपक्षी दल के साथ बैठक करने। 
कमबख्त को इतनी भी तमीज नहीं कि किसी के विरुद्ध षड्यंत्र करना हो तो अपने देश में बैठक करे, कुछ समय पहले से योजना बनाये। यह क्या बात हुई कि 'हथेली पर सरसों उगाने चले', जब चुनाव सिर पर आ गए तब शतरंज की बिसात बिछाने का विमर्श कर रहे हैं? इससे तो हमारी काम वाली बाई ही अच्छी है कि जिस्स्की इज्जत उतारनी होती है उसके काम में कुछ न कुछ 'खुआ' (कमी) निकाल लेती है और फिर दे तेरी की.... ऐसा गजब का तमाशा होता है कि सारे खानों की सारी फ़िल्में फ्लॉप और फ़ेल। 
भैया पाकिस्तान! इतना तो लिहाज करो कि जो तुम्हारे वजीरे-आज़म (तत्कालीन) को उनके समकक्ष पद की शपथ ग्रहण करने के पहले ही समारोह में बुला सकता है और उनकी दुख्तर के निकाह में बिना पूर्व सूचना अचानक आसमान से टपक सकता है उसके खिलाफ अलादीन का चराग रगड़कर हैरान न करो। सोचो जो सात फेरे लेने के बाद भी बिना किसी अपराध अपनी पत्नी को छोड़ सकता है, वह तुम्हारे वजीरे आजम (पूर्व) के साथ हाथ मिलाने का रिवाज़ भी तोड़ ही सकता है।   
पाकी चचा! चौराहे पर बैठ रही सब्जीवाली को शक है कि तुम उसके पति और प्रेमी के बीच भाँजी मार रहे हो। तुम्हें लव ज़िहाद के लिए ६ बच्चों की यह कमसिन हसीना ही मिली जिसके भव्य रंग के आगे कोयला भी शरमा जाए और जिसके स्वर को सुनकर भूकंप की भी बोलती बंद हो जाए। 
हमें बखूबी मालूम है कि बेसिर-पैर की बातें करना तुम्हारा शौक ही नहीं मजहब भी है मगर इतना तो सोच लेते कि प्राथमिक कक्षा के विद्यार्थी को प्रोफ़ेसर से पंगा नहीं लेना चाहिए। 
हमने एक दस हाथवाले की व्यथा-कथा दूरदर्शन पर देखी है। वह कमबख्त भी इस देश के नरेश के चुनाव में कुछ न कर सका,  बहुत जुगाड़ के बाद चोरी से उसकी सती-सावित्री को ही ले जा पाया जिसने कभी उसकी तरफ देखा भी नहीं, और बेचारा बेमौत मारा गया। 
तुम्हारा इतना दुस्साहस कि तुम उसी देश के शहंशाह के सिंहासन को डुलाने के लिए एक छोटे से प्रान्त की सरकार के चुनाव पर नज़र डालो, वह भी तब जब कि उसके पीछे-पीछे शह दुम हिलाता घूम रहा हो। 
देखो भैये! अच्छे से समझ लो यह सत्यवादी हरिश्चंद्र का देश है। इस देश का नरेश या नरेंद्र झूठ भी कह दे तो सच ही समझा जाएगा। इसलिए तुम या और कोई सफाई देने की कोशिश ही न करे तो बेहतर है। 
सर्जिकल स्ट्राइक में सेना की कुशलता को ढाल बनाकर अपनी पीठ खुद ही ठोंकने की कला देखकर भी तुम यह नहीं समझ पाए कि जबान पर लगाम न रखनेवाले के घर से दूर रहना चाहिए। 
कल को तुम्हारा हाथ हमारी रसोई में रोटी जलने में भी  मिलने लगेगा। ऐसे कितने हाथ है दुश्मनेआला आपके पास जो हर लल्लू-कल्लू के काम में अड़ा देते हो। कुछ तो सोचो-समझो तुम्हें चुनाव प्रचार का हिस्सा बनना है तो अपने वजीरे आजम को भेजते वैसे ही जैसे हमारे गए थे, तब तुम्हारा रोल विश्व शांति में सहायक होता। 
हमने सुना है 'बिल्ली को ख्वाब में छिछ्ड़े ही दिखते हैं, वैसे ही तुमको भी एक प्रदेश ही दिखता है। तुम लाख कहो कि तुम्हारा नाम हमारे अंदरूनी मामलात में न घसीटा जाए मगर हमारे सरकार तो घसीटेंगे ही क्योंकि अपना उल्लू सीधा करना हर नेता का जन्म सिद्ध अधिकार है। 
बांग्ला देश में अड़ी टांग तुड़वा चुकने के बाद  अब तुम्हारा हाथ हमारे वजीरे आला की पशेमानी पर सलवट का कारण बन रहा है, यह नाकाबिले बर्दाश्त है। ऐसा करो कि जब-जब हमारे हुजूर चुनाव के मैदान में तशरीफ़ का टोकरा ले जाएँ तुम अपना हाथ उनके हाथ से मिलाए रखा करो।  तुम्हें क्या हक़ कि उनके घर में हो रहे चुनाव के समय तुम कहीं, किसी के साथ उठो-बैठो। तुम्हें तो मन की बात समझना चाहिए, ण समझ पाओ तो अपने यार चीन से कुछ सीख लो जो सरहद पर तमाशा करता है, गुर्राता है, फिर दुम हिलाता है, फिर घर बुलाकर स्वागत करता है और चुपके से जो करना है कर लेता है। तुम तो धोबी के गधे ही रह गए, न घर के हुए न घाट के... 
चलो जो हुआ सो हुआ, अब मत खोदो कुआ... एक सबक सीख लो कि अपना हाथ उसी से मिलाना जो न मिलाने पर गैर के साथ मिलाने की बात इतनी बार कह सकता हो कि तुम्हें भी भरोसा हो जाए। 
***

bundeli laghu kathayen hindi anuvad

बुन्देली लघुकथाएँ: (हिंदी अनुवाद)
१. पाठ 
संजीव
आपकी प्रोफ़ाइल फ़ोटो, चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति
*
हम दोनों बहुत दिनों तक एक साथ काम करते रहे थे। मुझे ज्ञात है कि वह अनीश्वरवादी हैं। जब तक साथ था तिलक-जनेऊ को लेकर मुझे छेड़ता रहता था। उसका वश चलता तो दुनिया में एक भी मंदिर शेष न रहता। आज अभूत दिनों बाद उसने फोन किया तो प्रसन्नता होनी ही थी, आश्चर्य कि उसने सत्यनारायण की कथा सुनने और उसके बाद भोजन करने के लिए कहा।  
मुझे बात कुछ समझ नहीं आई किन्तु बिना गए भी गुजरा नहीं था। अत: हाँ-ना करते-करते अपने राम पहुँच ही गए उसके घर। उसने लपककर स्वागत किया, हाथ-पैर धुलाए, भीतर कमरे में ले गया, पत्नी के साथ बैठकर कथा भी सुनी। हवन करने के बाद दोनों ने श्रद्धा सहित चरणस्पर्श कर दक्षिणा भी दी। मेरी दशा सांप-छछूँदर की सी थी। एक गाँव के होने के नाते कितना भी अपनापन था किंतु अंतत: वह अधिकारी था।  
उसने भोजन ग्रहण करने हेतु प्रार्थना की तो मेरा धर्म-संकट और अधिक बढ़ गया, भोजन  स्वयं खड़ा था।  सहमत कराया कि वह भी साथ ही भोजन करने बैठ जाए, भाभी जी दोनों को परोस देंगी। 
अवसर  देखकर उससे पूछा कि ईश्वर पर विश्वास कब से हो गया?
उसने छूटते ही कहा 'ज़िन्दगी इश्के बुतां में कटी मोमिन / आखिरी वक्त में क्या ख़ाक मुसलमान होंगे?' तुम्हारे भगवान् पर मुझे न तब था, न अब है।' 
मुझे बात समझ में  नहीं आई । फिर पूछा 'तो फिर यह कथा?'
वह ठहाका मारकर हँस पड़ा, फिर बोला 'रे पोंगा पंडित! तुम नहीं समझे, बुद्धि भगवान् के यहाँ गिरवी रख आए हो क्या? बात कुल इतानी है कि तुम्हारी भाभी हमारी हर बात आँख बंद कर मान लेती हैं। कभी किसी बात के लिए ना-नुकुर नहीं करतीं सिवाय इन भगवान के। तो क्या हम इतने गँवार हैं कि उनकी प्रसन्नता लिए इतना सा काम न कर सकें। अब वे  अपने स्थान पर प्रसन्न, हम अपने स्थान पर प्रसन्न।' 
मैं मुँह बाए देख रहा था उसे, अब तक मैं उसे नासमझ समझता था पर उसने पढ़ा दिया एक बहुमूल्य पाठ। 
***
२. कुलच्छनी
डॉ. सुमनलता श्रीवास्तव, जबलपुर 
*
Suman Shrivastava की प्रोफ़ाइल फ़ोटो, चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, मुस्कुराते हुए, चश्मे

निकिता ने अपने पापा से साफ़-साफ़ कह दिया था कि उसका विवाह चाहे जहां पक्का कर लें किन्तु दहेज़ में मोटर साइकिल न   इस कारण सम्बन्ध टूट जाए । निकिता के मन में बाइक की आवाज और उसकी तेज रफ़्तार बहुत डर उत्पन्न कर देती थी। बाइक पर बैठने के लिए तो वह कभी भी तैयार नहीं हो सकती थी। उसने अपने बचपन में सामने से आते हुए एक बाइसिकिल सवार की ऐसी दुर्घटना देखी थी कि उसे याद कर वह अब तक थर्रा जाती थी। वह नहीं भूल पाती थी कि कैसे बाइक कुलाटी मार कर आग का गोला बन गयी थी?, कैसे उस  सिर से खून का फव्वारा छूटा था और कैसे प्राण छोड़ने पहले वह किलबिलाया था। उसके दिमाग पर ऐसा प्रभाव हुआ कि बाइक की आवाज से ही वह काँप जाती थी और आँख-कान बंद कर लेती थी। डॉक्टर ने 'साइक्लोफ़ोबिआ' रोग बता कर चिकित्सा भी करी किन्तु उसे बाइक से चिढ़ हो गई थी।
पापा ने भरोसो दिया कि लड़केवाले मोटरसाइकिल माँग तो रहे थे किन्तु उनकी बात सुनकर सहमत हो गए।  बिटिया और घर देखकर मुग्ध हो गए हैं। निकिता को तसल्ली हो गई। बारात आई, खुशी-खुशी भाँवरें पड़ गईं। दूसरे दिन दूल्हा रोहित कुंअर कलेबा की रस्म पर अड़ गया कि बाइक मिलने पर ही आतिथ्य ग्रहण करेगा।  उसे अधिक बढ़ावा देने लगे। निकिता के पिता तथा भाई नें बहुत समझाया किंतु दूल्हा अंगद के पाँव की तरह टस सें मस नहीं हुआ, जब तक मोटर साइकिल नहीं आ गई, तब तक वह हठ  करता रहा। यहीं से निकिता के मन में अपने पति रोहित के लिए अनादर पैदा हो गया।  का उल्लास उल्लास मिट गया।
विवाह की पहली रात न रोहित ने निकिता की सुख-सुविधा पूछी, न भविष्य की बातें करीं, बस अपनी ही शेखी बघारता रहा कि वह बाइक पर कैसे-कैसे करतब कर पुलिस से उलझता रहता है। निकिता पति के ओछेपन पर शर्मिन्दा और अपमानित महसूस करती रही, जैसे उसका विवाह निकिता से नहीं  मोटर साइकिल से हुआ हो। दो दिन बाद रोहित अपने दोस्तों के बुलाने पर नई बाइक लेकर प्रदर्शन करने चला गया, निकिता ने खुल कर विरोध किंतु किसी ने नहीं सुना। रोहित गया और प्रदर्शन करते समय ऐसी चोट रीढ़ की हड्डी पर लगी कि जीवन भर के लिए ज़िंदा लाश बनकर रह गया। निकिता अपना कर्तव्य निभाते हुए  सेवा-सुश्रुषा में दिन-रात  किन्तु सास कहती है बहू  कुलच्छनी।' 
***
३. संतोष
प्रो. किरण श्रीवास्तव, रायपुर 

Kiran Shrivastava की प्रोफ़ाइल फ़ोटो, चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, चश्मे


'क्यों भाई? यह क्या हाल बना रखा है? हम दोनों एक ही कक्षा में पढ़ते थे। तुम हमेशा पहला आते थे और हम रहते थे पिछलग्गू।तुम्हारी कृपा से जैसे-तैसे पास हो जाते थे। बीस वर्ष हुए... मेरी एक छोटी सी दूकान थी वह लगातार बढ़ती गयी है, प्रभु की कृपा से चार लड़कों की चार दुकानें अलग से हैं।'
तुमसे कितनी बार कहा कि मेरे साथ जुड़ जाओ, यह कलम घिसना छोड़ो। क्या रखा है इसमें? बाबूगिरी से जो कुछ कमाते हो उस में घर ही  कठिनाई से चलता है, भाभी और बच्चे परेशान होते रहते हैं वह अलग। जैसे-तैसे किताब छपाते हो तो कोइ खरीदता नहीं है। अब भी मान जाओ, ये सम्मेलन-अम्मेलन छोड़ो। इस सबमें मिलता क्या है?'
' संतोष' कहते हुए वह जय राम जी की कर चल दिया
***
४. घडियाली आँसू
 पुष्पा सक्सेना, बेंगलुरु 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, बाहर 


निर्भया काण्ड के बाद शहर में जुलूस और सभाओं की बाढ़ सी आ गई थी। वे पढ़ी-लिखी तेज-तर्रार नेता कहलाती थीं। चाहे जब उनके भाषण अखबारों में छपते थे। वे जब-तब पुरुषों को कोस-कोसकर औरतों को घर से बाहर निकलने के लिए उकसाती रहती थीं। लोग-बाग़ उनसे बहुत प्रभावित होते थे। 
विधि का विधान, उनकी सास को कैंसर हो गया लंबा और मँहगा इलाज चलने लगा। कहते हैं 'धीरज धरम मित्र अरु नारी, आपात काल परखिहहिं चारी'। उनके पति निहायत सीदे-सादे इनसान थे। वे अम्मा के इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते थे अम्मा को नर्सों का व्यवहार अच्छा नहीं लगता था। बे घर का बना स्वच्छ-हलका भोजन चाहती थीं किन्तु बहू रानी को अवकाश नहीं था, फिर कौन बनाए? महाराजिन  भोजन बीमार अम्मा को स्वाद नहीं लगता था। 
परिणाम यह हुआ कि पति-पत्नी में मन-मुटाव रहने लगा। कोई अन्य उपाय न देख पति ने अपनी बहिन को बुला लिया। बही रानी को इसमें भी चैन नहीं पड़ा। रोज-रोज नन्द से उलझने लगीं... अपनी सहेलियोन को घर बुलाकर रोज सभा-सम्मेलनों  की योजना बना थीं। ननद को अम्मा के लिए भोजन बनाने में कोइ कष्ट अनुभव नहीं होता था किन्तु भाभियों की सहेलियों की खातिरदारी करना नागवार गुजरता था। सहेलियों ने पट्टी पढ़ा दी तो बहू जी नें थाने में  भाई-बहिन के विरुद्ध शिकायत कर दी   दहेज़ के लिए परेशान  करते हैं। 
सब दिन जात एक समान नहीं जाते... धीरे-धीरे अम्मा का स्वास्थ्य सुधरने लगा। पुलिस की जाँच में बही जी के आरोप निराधार पाए गए। वे सबके मन सें उतर गईं। बेटे ने तलाक ने तलाक लेने का मन बनाया किन्तु अम्मा जी ने पोते-पोतियों के भविष्य की बात सोच कर रोक दिया। बहू जी की सहेलियों ने विपरीत समय देखा तो धीरे-धीरे मुँह मोड़ लिया। अब बहू जी के सर चढ़ा स्त्री-विमर्श का बुखार उतरा रहा है किन्तु इसके पहले ही वे खुद अपने बेटे-बेटी, पति और सास सबके मन सें उतर गई हैं। रोटी-कपड़ा की कमी नहीं है किन्तु आँसू लाड़-प्यार, सम्मान गंवाने के बाद वे अकेले बैठी घडियाली आँसू बहाती रहती हैं
***                   
५ . नर्मदा मैया की जय  
सुरेन्द्र सिंह पवार, जबलपुर  

Surendra Singh Pawar की प्रोफ़ाइल फ़ोटो, चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति


बरगी बाँध और उसकी नहरें बनकर तैयार हो गईं। नहरों से पहली-पहली बार सिंचाई के लिए पानी छोड़ा जाना था। नहर के सिंचाई क्षेत्र में ज्वार, बाजार, मका की फसलें बोई गयी थीं। छोटे किसानों को खेतों में रबी की फसल की लगा ने के लिए उत्साह बढ़ाया जा रहा था। जमुनियाखेड़े के प्रधान कोंडीलाल राय से बात हुई तो वे तो एकदम उबल पड़े, बोले,-“साहब! आप भ्रम में हो, आपकी नहरें-वहरें कुछ काम नहीं देंगी, समझ लो, नरमदा मैया कुंवारी हें, उनखों अब तक कोई नहीं रोक पाया, न सोनभद्र , न सहस्त्रबाहु, आपका बाँध कैसे बचेगा सो भगवान ही जनता है।”
-दद्दू! आप ठीक कह रहे हैं किन्तुनर्मदा मैया ने कृपा की और नहरों के रास्ते में पानी पहुँच जाने दिया तो?'
_“देखेंगे!” उन्होंने बात टालने के लिए कह दिया। नियत दिन जब जमुनिया की नहरों में जल बहने  लगए तो बाजे–गाजे के साथ “नर्मदा मैया की जय” बोलते हुए गाँववालों के संग सबसे आगे खड़े थे प्रधानकोंडी लाल राय। 
***
सुरेन्द्र सिंह पंवार/ 201, शास्त्रीनगर, गढ़ा,जबलपुरम(म.प्र.) / 9300104296/email- pawarss2506@gmail.com
--------------

६. जागरूकता
प्रदीप शशांक, जबलपुर   


Pradeep Shashank की प्रोफ़ाइल फ़ोटो, चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, मुस्कुराते हुए, सूट


आदिवासी जिले के सरकारी अस्पताल में दो दिनों से औरतों का नसबन्दी शिविर चल रहा था । उस शिविर में नसबन्दी कराने के  औरतों की भीड़ लगी थी । उन में परिवार नियोजन के लिए बढ़ती जागरूकता से डॉक्टर भी मन ही मन बहुत खुश हो रहे थे
उत्सुकतावश डाक्टर ने मजदूर औरत से नसबन्दी कराने का कारण पूछा तो वह बोली: 'अरे डॉक्टर साब! कुछ मत पूछिए, हम मजदूरी करने जाते है तो ठेकेदार परेशान करता है और फिर नौ महीना तक उसका पाप हम औरतों को भोगना पड़ता है। इस बीच मजदूरी भी नहीं मिलती है, सो हमें और हमारे बच्चों को भूखे मरने की नौबत आ जाती है । ऐसे में सब झंझटों से मुक्ति पाने के लिए हम सब नसबंदी करा रही हैं। 
डॉक्टर उन की जागरूकता का रहस्य जानकर अवाक रह गए । 
***
७. अरमान
प्रभुदयाल श्रीवास्तव, छिंदवाड़ा

प्रभु दयाल श्रीवास्तव के लिए इमेज परिणाम

*
अपने आश्रम में बाबाजू अधलेटी अवस्था में विश्राम कर रहे थे। भक्तों की भीड़ लगी थी और बाबाजी की जयजयकार हो  एक औरत बाबा जी के चरणों में सर रखकर गिड़गिड़ा रही थी
"कृपा करो बाबा! मेरे पुत्र को ठीक कर दो, उसका दिमाग ठीक कर दो,  दो, उसका खूब और  ऐसा आशीर्वाद दो कि सबके सामने कथा कर रह सके"
" तेरे पुत्र को कुछ दुःख-तकलीफ है क्या?" बाबाजी  ने पूछा। 
"महराज!वह सवेरे से रात तक सच बोलता रहता है। झूठी बात बोल ही नहीं पाता कितना भी समझाओ-सीखो, कुछ असर नहीं होता"
"और क्या दिक्कत है बेटी"
"महराज वह ईमानदार भी है, न अपना हिट साझ सके, न किसी से रुपैया-पैसा ले सके'
"आगे बोलो"
'जब देखो गरीबों भुखमरों की सेवा में रहता है। अपने हिस्से की रोटी भी गरीबॉन को दे आता हैदरवाजे से कोइ खाली हाथ नहीं जा पाता। कहता है भगवान आए हैं न जाने कौन सी भाषा बोलने लगा है। पैसेवालों से दूर भागता है"
"इसमें क्या बुराई है?, गरीबों की मदद तो अच्छी बात है।'
"महराज! मैं चाहती हूँ कि वन अमीरों की तरह धन कमाने का हुनर सीखे। वह गौतम बुद्ध, महावीर स्वामी और गाँधीजी के बारे में  करता है"
"तुम चाहतीहो?"
"मैं क्या बताऊं महराज, मेरी तो इच्छा है कि वह खूब पैसा कमाए, चरों तरफ उसका नाम हो, राजा-महाराजा बड़ा आदमी बने"
"तुम इन फालतू की बातों में क्यों पड़ रही हो?, लडके को बिगाड़ना क्यों चाहती हो?"
"महराज यह बिगाड़ नहीं सुधार है, सुधरेगा नहीं तो समाज में जगह कैसे बना सकेगा? बिना धन के उसे कौन पूछेगा? चार-छः लठैत साथ रहेंगे तो सारा गाँव सलाम करेगा नेता भी आगे-पीछे फिरेंगे कि चुनाव में उनकी  तरफ रहे मैं भी  सफल-संपन्न लडके की माता कहलाना चाहती हूँ
" क्या कहूँ? ऐसा करोलड़के कोचुनाव लड़वाओ, पंची-सरपंची सें आरम्भ करो। भगवान सीधे तो सब ठीक हो जाएगा"
***
८. सूर्यास्त
राशि सिंह, मुरादाबाद
एम. ए. अंगरेजी साहित्य, बी.एड., एलएल. बी.

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, क्लोज़अप

rashisinghrashisingh57406@gmail.com

*

''इस तरह से मुँह लटकाये हुए क्यों बैठे हो? जाओ, हाथ-पाँव धो लो और गाइयों को घास खिला दो।'' ताशला ने अपने पति चरन सिंह को समझाते हुए कहा ।

''क्या  समझ में नहीं आ रहा है। एक तो आकाश पर बदल छाये हैं, दूसरे मेरे मन बिजली चमक रही है, राम जाने क्या होगा?''चरन सिंह ने बेचैनी से टूटी हुई खाट से उठते हुए कहा।

''तुम चिंता मत करो, ऊपर वाला इतना निर्दयी नहीं है जो हमारी फ़सल का नुकसान  होने देगा।'' ताशला ने भरोसे सें कहा।

''देख ताशला! यहाँ फसल का कोइ भरोसा नहीं है और उधर सीमा पर हमारे लाल की ,तैनाती हुई है, मन बहुत घबरा रहा है। 

मेरे दोनों लाल संकट में हैं ।''-चरनसिंह अपने कुर्ते की जेब को बेवजह टटोलते बोला।

''दोनों लाल? हमारा तो..... ''

''हाँ, हमारा एक ही लाल है पर मैं तो इस फ़सल को भी अपनो लाल मानता हूँ। क्या करूँ?''चरन सिंह ने मेहरारू की बात काटते हुए कहा।

'तभी आसमान में बिजली कौंधी और तेज वर्षा के साथ ओले पड़ने लगे। ''ताऊ! प्रकाश की चिट्ठी लो, डाकिया दे गया है।'' कहता हुआ एक पडोसी बारिश में भीगते -भीगते चरनसिंह की झोपड़ी में घुसा।

''पिता जी! दुश्मन ने हमारे कैम्प पर हमला कर दिया है। हम दो-दो हाथ कर हैं मगर कुछ अनहोनी हो जाए तो अपना और अम्मा का ध्यान रखना।'' पढ़ते ही चरनसिंह का सिर घूम गया। उसे ऐसा लगा मानो जिंदगी का सूर्य अस्त होनेवाला है।

तालशा ने देखते ही चरण सिंह के हाथ सें गिरी उठाकर पढ़ी और कहा 'मन मन क्यों गिरते हो? वह देखो इतनी वर्षा होने के बाद भी वह चिड़िया अपना घोसला नहीं छोड़ रही। ये लो सूर्य देवता भी बिदा माँगने के लिए झाँकने लगे किन्तु वे कल सवेरे फिर आएँगे। जिसके बाद सूर्योदय न हो, कभी देखा है ऐसा सूर्यास्त?' कहते हुए त्रिशाला दिया-बत्ती करने लगी।
***
९.  खिसकते पल
डॉ रंजना शर्मा
*

ranjanasharma50@gmail.com
*
अंधेरी रात थी, भीरु खेत में खड़ा-खड़ा सोच रहा था कि जीवन की डगर कितनी लंबी हो गई? मुट्ठी में बँधे हँसी-खुशी के वे पल जाने कहाँ खो गए जब खेत में बीज डालते ही अंकुर फूटने की आशा रहती थी? जैसे कल हीकी बात हो आते-जाते समय पंछियों की तरह उड़ाते बादल, बरसता पानी, अङ्कुटित होते बीज लहलहाते पौधे और कोलाहल करते बच्चे कितना कुछ बटोर लेना चाहता था मन, वह भी एक ही पल में।
हाथ में छोटी सी लालटेन जिसकी चिमनी में कालिख जमी थी और उजाला चार कदम तक जाकर चूक जाता था, थामे हुए भीरू घर सें निकल आया। दिन का प्रकाश भीरू के लिए अभिसाप बन गथा, घर से निकते ही उधार वसूलनेवालों का ताँता लग जाता था।
एक कदम आगे बढ़ते ही ठिठका, शायद किसी की पदचाप सुनाई दे रही थी । तभी सन्नाटे को चीरटी हुई पत्नी की आवाज आई 'ऐ जी! इतनी रात को कहाँ जा रहे हो?'
" कहीं नहीं जा रहा, तू घर जा मटरू जाग जाएगा।"
"लौट जा तू, मैं तो हवा खा रहा हूँ।"
रमकू वापस आकर मटरू को कलेजे से लगाकर सो गई। सुबह घर के सामने भीड़ देखी तो पूछने लगी "क्यों भाई क्या हो गया? इतने लोग क्यों इकट्ठे हो?"
"हरिया धीरे से आगे आया, मटसिरपर प्यार से हाथ फेरते हुए बोला "रमकू भौजी! जरा यहाँआओ, भीरू भैया ने पीपर की डाल से फाँसी लगा ली है।"
सुनते ही पतझड़ के झड़ते पत्तों सी उन्मत्त रमकू, सन्नाटे में डूबी भीड़ को चीरती भीरू की लंबी गर्दन से लिपट गई। रोते-रोते ऑसू सूख गए तो उठकर धरती को अपने ऑचल सें झाड़-पोंछ कर भीरू को लिटा दिया।
कर्जा माँगनेवालों में से एक से पूछ लिया "आजकल मरनेवालों को सरकार कितना रुपया दे रही है?' तुम लोगों की भूख मिटजाएगी या नहीं?
***
१०. आड़
गीता गीत, जबलपुर

*
वह रोज ही घरवाली से शराब पीने के लिए पैसे माँगता था, न मिले तो जमकर मार-पीट करता था। बच्चों को भरपेट रोटी भी न मिल पाने से बीमार और अधनंगे रहे आटे थे
कुछ दिन बाद उससे मुलाकात हुई तो पहले की तुलना में साफ़-सुथरी और शांत थी। लड़का-लडकी भी अच्छे थे। हाल-चाल पूछा तो उसने बताया ईंट बनने का काम करने लगी है। मेहनत तो बहुत है पर समय से मजदूरी मिला जाने से दाल-रोटी की व्यवस्था ठीक-ठाक हो जाती है
एक दिन सवेरे-सवेरे दिखी, बहुत परेशां थी। 'क्यों काम पर नहीं गईं?" मैंने पूछ तो कहने लगी 'मैडम! ये अस्पताल में भर्ती हैं, कहीं टकरा गए थे। उनको खाने के लिए कुछ दे आऊँ, फिर वहीं से काम पर जाना पड़ेगा।'
'नासपीटा अब इसे गली बकता है, लेकिन ये है कि उस पर जान छिड़कती है। काम का न काज का, दुसमन अनाज का, न सुधरता है, न मरता है। ऐसा पति हिने से तो न होना भला।' उसके साथवाली औरत बडबडाने लगी
'नहीं रे! ऐसा मत कहो। नरबदा मैया उनको हमेशा बनाए रखें। कैसे भी हैं, मेरे सुहाग (पति) हैं, मैया उनके सब कष्ट मुझे दे दे। मरते हैं तो क्या हुआ?, लाड भी तो करते हैं, उन्हीं से तो मेरी, घर औए बच्चों की आड़ है' कहते हुए उसके मुँह पर सुहाग की लाली ऐंसी सजी की वह और अधिक सुन्दर लगने लगी
***
११. जरूरत
लक्ष्मी शर्मा

चित्र में ये शामिल हो सकता है: 1 व्यक्ति, क्लोज़अप

साहब के बंगले के बगीचे में माली पानी डाल रहा था। पानी डालते-डालते उसने सोचा कि मेरे घर में पानी की बहुत कमी है, आज नल में भी पानी नहीं आया है। मैं एक डब्बा पानी भर कर यहाँ से ले जाता हूँ, कुछ काम चल जायेगा। काम समाप्त करने के बाद माली ने डब्बे में पानी भरा और जा ही रहा था कि मालकन की गाडी पहुँच गई। मालकन नें पूछा- 'माली! ये क्या लिए जा रहे थे?'
माली ने कहा- 'मालकिन! मेरे घर में आज पानी नहीं आया, इसलिए एक डब्बे में पानी ले जा रहा हूँ।'
मालकिन ने कहा- 'देखो, हमारे पौधे पानी की कमी से सूखे जा रहे हैं। बहुत मँहगे खरीदे थे, ये पानी इनमें डाल दो। तुम कहीं और से भर लेना।'
'ठीक है मालकिन!' कहते हुए माली ने डब्बे का पानी पौधों में उड़ेल दिया
***
हाय! अजनबी से लगे, अंतर्मन-जज्बात यादों की झप्पी मिली, प्रमुदित उषा-प्रभात
ज़ज़्बात २ २१
पारिजात २१ २१ मात्रा बाँट गड़बड़ हो रही है
उषा प्रभात १२ १२१

पुस्तक सलिला , कृति ...सकारात्मक सपने

सप्ताह की पुस्तक
कृति ...सकारात्मक सपने
लेखिका ...अनुभा श्रीवास्तव
प्रकाशक ... डायमण्ड पाकेट बुक्स दिल्ली
साहित्य अकादमी म प्र. संस्कृति परिषद के सहयोग से प्रकाशित
मूल्य ...११० रु
पृष्ठ .. १२४
युवा लेखिका ने समय समय पर यत्र तत्र विभिन्न विषयो पर युवा सरोकारो के स्फुट आलेख लिखे , जिनमें से शाश्वत मूल्यो के आलेखो को प्रस्तुत पुस्तक में संग्रहित कर प्रकाशित किया गया है . खूशी की तलाश , आपदा प्रबंधन , कन्या भ्रूण हत्या , स्थाई चरित्र निर्माण हेतु नैतिकता की आवश्यकता , कम्प्यूटर से जीवन जीने की कला सीखने की प्रेरणा , देश बनाने की जबाबदारी युवा कंधों पर , कचरे के खतरे , धार्मिक पर्यटन की विरासत , आरक्षण धर्म और संस्कृति , आम सहमति से समस्याओ का स्थाई निदान , कागज जलाना मतलब पेड जलाना , भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई , तोड़ फोड़ राष्ट्रीय अपव्यय , शब्द मरते नहीं , कैसे हो गांवो का विकास , मुखिया मुख सो चाहिये , गर्व है सेना और संविधान पर , कार्पोरेट जगत और हिन्दी , संचार क्रांति , भ्रष्टाचार के विरुद्ध लडाई , महिलायें समाज की धुरी , जीवन और मूल्य जैसे समसामयिक विषयो पर आज के युवा मन के विचारो को प्रतिबिंबित करते छोटे छोटे सारगर्भित तथ्यपूर्ण आलेखो में अभिव्यक्त किया गया है . लेख विषय की सहज अभिव्यक्ति करते हैं व मानसिक भूख शांत करते हैं . किताब प्रमुख बुक स्टोर्स पर उपलब्ध है ,  sales@dpb.in से या डायमण्ड पाकेट बुक्स ओखला इंडस्ट्रियल स्टेट दिल्ली २० से मंगवाई जा सकती है . पुस्तक पढ़ने योग्य है ,वैचारिक स्तर पर  संदर्भ हेतु संग्रहणीय भी है . युवाओ हेतु विषेश रूप से बहुउपयोगी है .
समीक्षक .. डा कामिनी , भोपाल

दोहा दुनिया- शिव वंदन

शिव को भजकर, भूल मत,
श्वास-श्वास रख साथ.
कृपा चाहता तो नवा,
शिवा-चरण में माथ.
.
शिवा पुनीता सुनीता,
शिवा धीर-गंभीर.
शिवा बिना शिव अधूरे,
शिवानंद खो पीर.
.
शिव सरगम हैं, शिवा स्वर.
ये लय हैं, वे तान.
वाक्-शब्द असमर्थ हैं,
कैसे करें बखान?
.
भाव स्वभाव बना सलिल,
मेटें शिवा अभाव.
भक्ति रहे शिव-प्रति अटल,
सुंदर तभी निभाव.
.
'बम' बस रहे मसान में,
कहें मृत्यु लो जीत.
'भोले' कहते भोग ले,
मत हो तू भयभीत.
.
14.12.2017
www.divyanarmada.in
#हिन्दी_ब्लोगर

बुधवार, 13 दिसंबर 2017

navgeet- gittee sadakon ki

नवगीत
गिट्टी सड़को की
.
कुटती-पिटती,
दबती जाए
गिट्टी सड़कोँ की.
.
चोटें सहती,
पीर न कहती,
ठेकेदार करे हँस ठट्ठा,
सोचे जड़ में डालू मट्ठा
सुध आती भूखी बिटिया की
गुपचुप दहती.
बिखरी-सिहरी
घुलती जाए
मिट्टी सड़कोँ की.
.
अफ़सर रोलर,
नेता ठोकर,
चीरहरण चाहे दुर्योधन,
कहीं नहीं दिखते मनमोहन,
कुटिल दुशासन आँख तरेरे,
दरुआ ब्रोकर.
सिमटी-सिकुडी,
फ़िर भी चुभती,
चिट्ठी सड़कोँ की.
.
सह एकाकी
ताका-ताकी,
पाकर अवसर कोई न छोड़े,
पत्रकार भी हाथ मरोड़े,
लाज लीलने नेता दौड़े,
लुकती-छिपती.
कहीं न टिपती,
कहीं न टिकती,
बिट्टी सड़कोँ की
...
संजीव, 9425183244
www.divyanarmada.in
#हिन्दी_ब्लोगर

navgeet

नवगीत: 
लेटा हूँ
मखमल गादी पर
लेकिन 
नींद नहीं आती है 
.
इस करवट में पड़े दिखाई
कमसिन बर्तनवाली बाई
देह सांवरी नयन कटीले
अभी न हो पाई कुड़माई
मलते-मलते बर्तन
खनके चूड़ी
जाने क्या गाती है
मुझ जैसे
लक्ष्मी पुत्र को
बना भिखारी वह जाती है
.
उस करवट ने साफ़-सफाई
करनेवाली छवि दिखलाई
आहा! उलझी लट नागिन सी
नर्तित कटि ने नींद उड़ाई
कर ने झाड़ू जरा उठाई
धक-धक धड़कन
बढ़ जाती है
मुझ अफसर को
भुला अफसरी
अपना दास बना जाती है
.
चित सोया क्यों नींद उड़ाई?
ओ पाकीज़ा! तू क्यों आई?
राधे-राधे रास रचाने
प्रवचन में लीला करवाई
करदे अर्पित
सब कुछ
गुरु को
जो
वह शिष्या
मन भाती है
.
हुआ परेशां नींद गँवाई
जहँ बैठूं तहँ थी मुस्काई
मलिन भिखारिन, युवा, किशोरी
कवयित्री, नेत्री तरुणाई
संसद में
चलभाष देखकर
आत्मा तृप्त न हो पाती है
मुझ नेता को
भुला सियासत
गले लगाना सिखलाती है
.

१३-१२-२०१४ 
www.divyanarmada.blogspot.in
#हिंदी_ब्लॉगर 

दोहा दुनिया

सुबह जगें शिव-शिव कहें,
होंगी शिवा प्रसन्न.
कार्तिक रक्षें, गजानन
हरें विघ्न आसन्न.
.
शिव संयममय श्वास हैं,
शिव मंगलमय आस.
करें अशुभ को शुभ सतत,
मेट जगत का त्रास.
.
शिव सचेत, निष्क्रिय नहीं,
शिव न तपस्वी मात्र.
शिव पल-पल सो-जागते,
शिव पुजते नवरात्र.
.
भिन्न नहीं हैं शिव-शिवा,
इसमें उसका रूप.
उसमें इसके प्राण हैं,
दोनों तत्व अरूप.
.
शिवा सलिल, शिव अग्नि हैं,
काम-अकाम सुसंग.
भाव-अभाव स्वभाव है,
ऊर्जा पुंज तरंग.
...