शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

दोहा दुनिया

शिव अक्रिय, सक्रिय शिवा,
ऊर्जा पुंज अनंत।
कहे गए भगवान ये,
वे भगवती न अंत।।
*
धन-ऋण ऊर्जाएं मिलें,
जन्में अगणित रूप।
कण-कण, तृण-तृण तरंगित,
बनती सृष्टि अनूप।।
*
रूप-अरूप बनें-मिटें,
शिवा सुरूपा सोह।
शिव कुरूप को शुभ करें,
सकें शिवा-मन मोह।।
*
शिव शंका का अंत कर,
गुंजा रहे हैं शंख।
शिवा कल्पना सच करें,
उड़ें लगाकर पंख।।
*
हैं श्रद्धा-विश्वास ये,
सृष्टि रचें कर अंत।
सदा-सदा पूजे गए,
जो जाने वह संत।।
*
प्रगट करें शिव तीन गुण,
करें आप में लीन।
गगन आत्मिका प्रकृति है,
माया परम प्रवीण।।
*
जान न सकते जिसे, जो
होता खुद उत्पन्न।
व्यक्त-लीन सब कार्यकर,
लिंगराज संपन्न।।
*
तीन मेखमय वेदिका,
जग धात्री भग शक्ति।
लिंग चिन्ह आधार भग,
मिल जग रच दें मुक्ति।।
*
बिंदु अण्ड ही पिण्ड हो,
शून्य सिंधु आधार।
षड् समृद्धि 'भग' नाम पा,
करें जगत-व्यापार।।
*
शिव हरि रवि गणपति शिवा,
पंच देव मय वृत्त।
चित्र गुप्त कर प्रगट विधि,
होते आप निवृत्त।।
*
निराकार साकार हो,
प्रगटें नाना रूप।
नाद तरंगें कण बनें,
गहरा श्यामल कूप।।
***
१८-१-२०१८, जबलपुर।

तकनीकी लेख

 
इन्स्टीट्यूशन ऑफ़ इंजीनियर्स कोलकाता द्वारा   पुरस्कृत द्वितीय श्रेष्ठ तकनीकी लेख  
वैश्विकता के निकष पर भारतीय यांत्रिकी संरचनाएँ 
अभियंता संजीव वर्मा 'सलिल' 
*
भारतीय परिवेश में अभियांत्रिकी संरचनाओं को 'वास्तु' कहा गया है। छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी प्रत्येक संरचना को अपने आपमें स्वतंत्र और पूर्ण व्यक्ति के रूप में  'वास्तु पुरुष' कहा गया है। भारतीय परंपरा प्रकृति को मातृवत पूज्य मानकर उपयोग करती है, पाश्चात्य पद्धति प्रकृति को निष्प्राण पदार्थ मानकर उसका उपभोग (दोहन-शोषण) कर और फेंक देती हैं। भारतीय यांत्रिक संरचनाओं के दो वर्ग वैदिक-पौराणिक काल की संरचनाओं और आधुनिक संरचनाओं के रूप में किये जा सकते हैं और तब उनको वैश्विक गुणवत्ता, उपयोगिता और दीर्घता के मानकों पर परखा जा सकता है। 

शिव की कालजयी अभियांत्रिकी: 

पौराणिक साहित्य में सबसे अधिक समर्थ अभियंता शिव हैं। शिव नागरिक यांत्रिकी (सिविल इंजीनियरिग), पर्यावरण यांत्रिकी, शल्य यांत्रिकी,  शस्त्र यांत्रिकी, चिकित्सा यांत्रिकी,  के साथ परमाण्विक यांत्रिकी में भी निष्णात हैं। वे इतने समर्थ यंत्री है कि पदार्थ और प्रकृति के मूल स्वभाव को भी परिवर्तित कर सके, प्राकृतिक परिवर्तनों के कारण जनगण की सुनिश्चित मृत्यु को भी टाल सके। उन्हें मृत्युंजय और महाकाल विशेषण प्राप्त हुए। 
शिव की अभियांत्रिकी का प्रथम ज्ञात नमूना ६ करोड़ से अधिक वर्ष पूर्व का है जब उन्होंने टैथीज़ महासागर के सूखने से निकली धरा पर मानव सभ्यता के प्रसार हेतु अपरिहार्य मीठे पेय जल प्राप्ति हेतु सर्वोच्च अमरकंटक पर्वत पर दुर्लभ आयुर्वेदिक औषधियों के सघन वन के बीच में अपने निवास स्थान के समीप बांस-कुञ्ज से घिरे सरोवर से प्रबल जलधार निकालकर गुजरात समुद्र तट तक प्रवाहित की जिसे आज सनातन सलिला नर्मदा के नाम से जाना जाता है। यह नर्मदा करोड़ों वर्षों से लेकर अब तक तक मानव सभ्यता केंद्र रही है।  नागलोक और गोंडवाना के नाम से यह अंचल पुरातत्व और इतिहास में विख्यात रहा है। नर्मदा को शिवात्मजा, शिवतनया, शिवसुता, शिवप्रिया, शिव स्वेदोद्भवा, शिवंगिनी आदि नाम इसी सन्दर्भ में दिये गये हैं। अमरकंटक में बांस-वन से निर्गमित होने के कारण वंशलोचनी, तीव्र जलप्रवाह से उत्पन्न कलकल ध्वनि के कारण रेवा, शिलाओं को चूर्ण कर रेत बनाने-बहाने के कारण बालुकावाहिनी, सुंदरता तथा आनंद देने के कारण नर्मदा, अकाल से रक्षा करने के कारण वर्मदा, तीव्र गति से बहने के कारण क्षिप्रा,  मैदान में मंथर गति के कारन मंदाकिनी, काल से बचने के कारण कालिंदी, स्वास्थ्य प्रदान कर हृष्ट-पुष्ट करने के कारण जगजननी जैसे विशेषण नर्मदा को मिले।

जीवनदायी नर्मदा पर अधिकार के लिए भीषण युद्ध हुए। नाग, ऋक्ष, देव, किन्नर, गन्धर्व, वानर, उलूक दनुज, असुर आदि अनेक सभ्यताएं सदियों तक लड़ती रहीं। अन्य कुशल परमाणुयांत्रिकीविद दैत्यराज त्रिपुर ने परमाण्विक ऊर्जा संपन्न ३ नगर 'त्रिपुरी' बनाकर नर्मदा पर कब्जा किया तो शिव ने परमाण्विक विस्फोट कर उसे नष्ट कर दिया जिससे नि:सृत ऊर्जा ने ज्वालामुखी को जन्म दिया।  लावा के जमने से बनी चट्टानें लौह तत्व की अधिकता के कारण जाना हो गयी। यह स्थल लम्हेटाघाट के  नाम से ख्यात है। कालांतर में चट्टानों पर धूल-मिट्टी जमने से पर्वत-पहाड़ियाँ और उनके बीच में तालाब बने। जबलपुर से ३२ किलोमीटर दूर ऐसी ही एक पहाड़ी पर ज्वालादेवी मंदिर मूलतः ऐसी ही चट्टान को पूजने से बना। जबलपुर के ५२ तालाब इसी समय बने थे जो अब नष्टप्राय हैं। टेथीज़ महासागर के पूरी तरह सूख्नने और वर्तमान भूगोल के बेबी माउंटेन कहे जानेवाले हिमालय पर्वत के बनने पर शिव ने मानसरोवर को अपना आवास बनाकर भगीरथ के माध्यम से नयी जलधारा प्रवाहित की जिसे गंगा कहा गया।

महर्षि अगस्त्य के अभियांत्रिकी कार्य:

महर्षि अगस्त्य अपने समय के कुशल परमाणु शक्ति विशेषज्ञ थे। विंध्याचल पर्वत की ऊँचाई और दुर्गमता उत्तर से दक्षिण जाने के मार्ग में  बाधक हुई तो महर्षि ने परमाणु शक्ति का प्रयोग कर पर्वत को ध्वस्त कर मार्ग बनाया। साहित्यिक भाषा में इसे मानवीकरण कर पौराणिक गाथा में लिखा गया कि अपनी ऊंचाई पर गर्व कर विंध्याचल सूर्य का पथ अवरुद्ध करने लगा तो  सृष्टि में अंधकार छाने लगा। देवताओं ने महर्षि अगस्त्य से समाधान हेतु प्रार्थना की। महर्षि को देखकर विंध्याचल प्रणाम करने झुका तो महर्षि ने आदेश दिया कि दक्षिण से मेरे लौटने तक ऐसे ही झुके रहना और वह आज तक झुका है। 
दस्युओं द्वारा आतंक फैलाकर समुद्र में छिप जाने की घटनाएँ बढ़ने पर अगस्त्य ने परमाणु शक्ति का प्रयोग कर समुद्र का जल सुखाया और राक्षसों का संहार किया। पौराणिक कथा में कहा गया की अगस्त्य ने चुल्लू में समुद्र का जल पी लिया। राक्षसों से आर्य ऋषियों की रक्षा के लिए अगस्त्य ने नर्मदा के दक्षिण में  अपना आश्रम (परमाणु अस्त्रागार तथा शोधकेन्द्र) स्थापित किया। किसी समय नर्मदा घाटी के एकछत्र सम्राट रहे डायनासौर राजसौरस नर्मदेंसिस  खोज लिए जाने के बाद इस क्षेत्र की प्राचीनता और उक्त कथाएँ अंतर्संबन्धित और  प्रामाणिकता होना असंदिग्ध है।
रामकालीन अभियांत्रिकी:  


रावण द्वारा परमाण्विक शस्त्र  विकसित कर देवों तथा मानवों पर अत्याचार किये जाने  को सुदृढ़ दुर्ग के रूप में बनाना यांत्रिकी का अद्भुत नमूना था। रावण की सैन्य यांत्रिकी विद्या और कला अद्वितीय थी।  स्वयंवर के समय राम ने शिव का एक परमाण्वास्त्र जो जनक के पास था  पास था,  रावण हस्तगत करना चाहता था नष्ट किया। सीताहरण  में प्रयुक्त रथ जो भूमार्ग और नभमार्ग पर चल सकता था वाहन यांत्रिकी की मिसाल था। राम-रावण  परमाण्विक युद्ध के समय शस्त्रों से निकले यूरेनियम-थोरियम के कारण सहस्त्रों वर्षों तक लंका  दुर्दशा रही जो हिरोशिमा नागासाकी की हुई थी। श्री राम के लिये नल-नील द्वारा लगभग १३ लाख वर्ष पूर्व निर्मित रामेश्वरम सेतु अभियांत्रिकी की अनोखी मिसाल है। सुषेण वैद्य द्वारा बायोमेडिकल इंजीनियरिंग का प्रयोग युद्ध अवधि में प्रतिदिन घायलों का इस तरह उपचार किया गया की वे अगले दिन पुनः युद्ध कर सके।   

कृष्णकालीन अभियांत्रिकी:

लाक्षाग्रह, इंद्रप्रस्थ तथा द्वारिका कृष्णकाल की अद्वितीय अभियांत्रिकी संरचनाएँ हैं। सुदर्शन चक्र, पाञ्चजन्य शंख, गांडीव धनुष आदि शस्त्र निर्माण कला के श्रेष्ठ उदाहरण हैं। महाभारत पश्चात अश्वत्थामा द्वारा उत्तरा के गर्भस्थ शिशु पर प्रहार, श्रीकृष्ण द्वारा सुरक्षापूर्वक शिशु जन्म कराना बायो मेडिकल इंजीनियरिंग का अद्भुत उदाहरण है। गुजरात में समुद्रतट पर कृष्ण द्वारा बसाई गयी द्वारिका नगरी उनकी मृत्यु पश्चात जलमग्न हो गयी। २००५ से भारतीय नौसेना के सहयोग से इसके अन्वेषण का कार्य प्रगति पर है। वैज्ञानिक स्कूबा डाइविंग से इसके रहस्य जानने  में लगे हैं। 

श्रेष्ठ अभियांत्रिकी के ऐतिहासिक उदाहरण :

श्रेष्ठ भारतीय संरचनाओं में से कुछ इतनी प्रसिद्ध हुईं कि  उनका रूपांतरण कर निर्माण का श्रेय  सुनियोजित प्रयास शासकों द्वारा किया गया। उनमें से कुछ निम्न  निम्न हैं:   
तेजोमहालय (ताजमहल) आगरा: 

हिन्दू राजा परमार देव द्वारा ११९६ में बनवाया गया तेजोमहालय  (शिव के पाँचवे  रूप अग्रेश्वर महादेव नाग नाथेश्वर का उपासना गृह तथा राजा का आवास) भवन यांत्रिकी कला का अद्भुत उदाहरण है जिसे विश्व के  सात आश्चर्यों में गिना जाता है

तेजो महालय के रेखांकन  

 १०८ कमल पुष्पों तथा १०८ कलशों से सज्जित संगमरमरी जालियों से सज्जित यह भवन ४०० से अधिक कक्ष तथा तहखाने हैं। इसके गुम्बद निर्माण के समय यह व्यवस्था भी की  गयी है कि बूँद-बूँद वर्षा टपकने से शिवलिंग का जलाभिषेक अपने आप होता रहे

विष्णु स्तम्भ (क़ुतुब मीनार) दिल्ली : 
युनेस्को द्वारा विश्व धरोहर घोषित, ​दक्षिण दिल्ली के विष्णुपद गिरि में राजा विक्रमादित्य के नवरत्नों में से एक प्रख्यात ज्योतिर्विद आचार्य मिहिर की शोध तथा निवासस्थली मिहिरा अवली (महरौली) में ​दिन-रात के प्रतीक 12 त्रिभुजाका​रों - 12 कमल पत्रों ​और 27 
नक्षत्रों
​ के प्रतीक 27 पैवेलियनों सहित निर्मित मंज़िली ​विश्व की सबसे ऊँची 
 
मीनार ​(72.7 मीटर
 ​, 
आधार 
 व्यास 14.3 
 मीटरशिखर व्यास 2.75 मीटर
 ,​379 सीढियाँनिर्माण काल सन 1193 पूर्वविष्णु ध्वज/स्तंभ (क़ुतुब मीनार) भारतीय अभियांत्रिकी संरचनाओं के श्रेष्ठता का उदाहरण है। इस पर सनातन धर्म के देवों, मांगलिक प्रतीकों तथा संस्कृत उद्धरणों का अंकन है

  
​​इन पर मुग़लकाल में समीपस्थ जैन मंदिर तोड़कर उस सामग्री से पत्थर लगाकर आयतें लिखाकर मुग़ल इमारत का रूप देने का प्रयास कुतुबुद्दीन ऐबक व् इलततमिश द्वारा 1199-1368 में किया गया ।   निकट ही ​चन्द्रगुप्त द्विती द्वारा विष्णुपद गिरि पर स्थापित और विष्णु भगवान को समर्पित 
गिरि पर स्थापित और विष्णु भगवान को समर्पितमीटर ऊंचा 6 टन वज़न का ध्रुव/गरुड़स्तंभ (लौह स्तंभ) स्तम्भ ​चंद्रगुप्त  विक्रमादित्य ने बाल्हिक युद्ध में विजय पश्चात बनवाया। इस पर अंकित लेख में सन 1052  के राजा अंनगपाल द्वितीय का उल्लेख हैतोमर नरेश विग्रह ने इसे खड़ा करवाया जिस पर सैकड़ों वर्षों बाद भी जंग नहीं लगी। फॉस्फोरस मिश्रित लोहे से निर्मित यह स्तंभ भारतीय धात्विक यांत्रिकी की श्रेष्ठता का अनुपम उदाहरण हैआई. आई. टी. कानपूर के प्रो. बालासुब्रमण्यम  के अनुसार हाइड्रोजन फॉस्फेट हाइड्रेट (FePO4-H3PO4-4H2O) जंगनिरोधी ​सतह है का निर्माण करता है

जंतर मंतर :
Samrat Yantra New Delhi.jpgसवाई जयसिंह द्वितीयद्वारा 1724 में दिल्ली जयपुर, उज्जैन, मथुरा और वाराणसी में ​निर्मित जंतर मंतर प्राचीन भारत की वैज्ञानिक उन्नति की मिसाल है।यहाँ​ सम्राट यंत्र सूर्य की सहायता से समय और ग्रहों की स्थितिमिस्र यंत्र वर्ष से सबसे छोटे ओर सबसे बड़े दिनराम यंत्र और जय प्रकाश यंत्र से खगोलीय पिंडों की गति जानी जा सकती ​है इनके अतिरिक्त दिल्ली, आगरा, ग्वालियर, जयपुर, चित्तौरगढ़, गोलकुंडा आदि के किले अपनी मजबूती, उपयोगिता और श्रेष्ठता की मिसाल हैं।​

आधुनिक अभियांत्रिकी संरचनाएँ:

भारतीय अभियांत्रिकी  संरचनाओं को शकों-हूणों और मुगलों के आक्रमणों के कारण पडी। मुगलों ने पुराने निर्माणों को बेरहमी से तोडा और  किये। अंग्रेजों ने भारत को एक इकाई बनाने के साथ अपनी प्रशासनिक पकड़ बनाने के लिये किये। स्वतंत्रता के पश्चात  सर मोक्षगुंडम विश्वेस्वरैया, डॉ. चन्द्रशेखर वेंकट रमण, डॉ. मेघनाद साहा आदि ने विविध परियोजनाओं को मूर्त किया। भाखरानागल, हीराकुड, नागार्जुन सागर, बरगी, सरदार सरोवर, टिहरी आदि जल परियोजनाओं ने कृषि  उत्पादन से भारतीय अभियांत्रिकी को गति दी।
जबलपुर, कानपूर, तिरुचिरापल्ली, शाहजहाँपुर, इटारसी आदि में  सीमा सुरक्षा बल हेतु अस्त्र-शास्त्र और सैन्य वाहन गुणवत्ता और मितव्ययिता के साथ बनाने में भारतीय संयंत्र किसी विदेशी संस्थान से पीछे नहीं हैं। 

परमाणु ऊर्जा संयंत्र निर्माण, परिचालन और दुर्घटना नियंत्रण में भारत के प्रतिष्ठानों ने विदेशी प्रतिष्ठानों की तुलना में बेहतर काम किया है।  कम सञ्चालन व्यय, अधिक रोजगार और उत्पादन के साथ कम दुर्घटनाओं ने परमाणु वैज्ञानिकों को प्रतिशत दिलाई है जिसका श्रेय डॉ. होमी जहांगीर भाभा को जाता है।

भारत की अंतरिक्ष परियोजनाएं और उपग्रह तकनालॉजी दुनिया में श्रेष्ठता, मितव्ययिता और सटीकता के लिए ख्यात हैं। सीमित संसाधनों के बावजूद भारत ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं और खुद को प्रमाणित किया है। डॉ. विक्रम साराभाई का योगदान विस्मृत नहीं किया जा सकता।

भारत के अभियंता पूरी दुनिया में अपनी लगन, परिश्रम और योग्यता के लिए जाने जाते हैं ।  देश में प्रशासनिक सेवाओं की तुलना में  वेतन, पदोन्नति, सुविधाएँ और सामाजिक प्रतिष्ठा अत्यल्प होने के बावजूद भारतीय अभियांत्रिकी परियोजनाओं ने कीर्तिमान स्थापित किये हैं।

अग्निपुरुष डॉ. कलाम के नेतृत्व में भारतीय मिसाइल अभियांत्रिकी की  विश्व्यापी ख्याति प्राप्त की है। 
सारत: भारत की महत्वकांक्षी अभियांत्रिकी संरचनाएँ मेट्रो ट्रैन, दक्षिण रेल, वैष्णव देवी रेल परियोजना हो या बुलेट ट्रैन की भावी  योजना,राष्ट्रीय राजमार्ग चतुर्भुज हो या नदियों को जोड़ने की योजना भारतीय अभियंताओं ने हर चुनौती को स्वीकारा है। विश्व के किसी भी देश की तुलना में भारतीय संरचनाएँ और परियोजनाएं श्रेष्ठ सिद्ध हुई हैं। 
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
संपर्क: अभियंता संजीव वर्मा 'सलिल', विश्व वाणी हिंदी संस्थान, ४०१ विजय अपार्टमेंट, नेपियर टाउन, जबलपुर, ४८२००१.
ई मेल: salil.sanjiv@gmail.com, चलभाष ९४२५१८३२४४, ७९९९५५९६१८। 


दोहा दुनिया

शिव ही शिव जैसे रहें,
विधि-हरि बदलें रूप।
चित्र गुप्त हो त्रयी का,
उपमा नहीं अनूप।।
*
अणु विरंचि का व्यक्त हो,
बनकर पवन अदृश्य।
शालिग्राम हरि, शिव गगन,
कहें काल-दिक् दृश्य।।
*
सृष्टि उपजती तिमिर से,
श्यामल पिण्ड प्रतीक।
रवि मण्डल निष्काम है,
उजियारा ही लीक।।
*
गोबर पिण्ड गणेश है,
संग सुपारी साथ।
रवि-ग्रहपथ इंगित करें,
पूजे झुकाकर माथ।।
*
लिंग-पिण्ड, भग-गोमती,
हर-हरि होते पूर्ण।
शक्तिवान बिन शक्ति के,
रहता सुप्त अपूर्ण।।
*
दो तत्त्वों के मेल से,
बनती काया मीत।
पुरुष-प्रकृति समझें इन्हें,
सत्य-सनातन रीत।।
*
लिंग-योनि देहांग कह,
पूजे वामाचार।
निर्गुण-सगुण न भिन्न हैं,
ज्यों आचार-विचार।।
*
दो होकर भी एक हैं,
एक दिखें दो भिन्न।
जैसे चाहें समझिए,
चित्त न करिए खिन्न।।
*
सत्-शिव-सुंदर सृष्टि है,
देख सके तो देख।
सत्-चित्-आनंद ईश को,
कोई न सकता लेख।।
*
१९.१.२०११, जबलपुर।

गुरुवार, 18 जनवरी 2018

doha shatak: arun sharma

दोहा शतक:
अरुण शर्मा 

Arun Sharma का प्रोफ़ाइल फ़ोटो

मिट्टी की इस देह से, पाल रहे अनुराग।
जब तक साँसें मित्रता, टूट गई तब आग।। 
*
अगर-मगर में क्यों प्रिये, जीवन रहीं गुजार।
जब तक साँसें चल रही, तब तक यह संसार।। 
*
अब कहने को शेष क्या, तुमसे दिल की बात।
मौन हुए अहसास सब, सुप्त हुए जज्बात।। 
*
कथनी-करनी पर मुझे, खूब मिला उपदेश।
वही हलाहल बाँटता, जो खुद है अमरेश।। 
*
शीत मौसमी भेंट है, घना कोहरा, ओस।
सर्दी के कारण हुआ, तरल जलाशय ठोस।। 
*
इस विस्तृत संसार की, सोच हुई संकीर्ण।
सिमट गये सब आज में, कल जो रहे प्रकीर्ण।। 
*
वैधानिक चेतावनी, सिर्फ कागजी काम।
धूम्र-मद्य का पान कर, मरता रोज अवाम।। 
*
हम-तुम दोनों ठीक थे, बहके थे जज्बात।
ढूँढ़ रहा हूँ आज भी, नगमों वाली रात।। 
*
अंतर में छल छंद है, बाह्य आवरण शुद्ध।
ऐसे कैसे तुम भला, बन पाओगे बुद्ध।। 
*
अति ही व्याकुलता भरे, अति करती मजबूर।
प्रेम करें अनिवार्य से, अति से रहना दूर।।
*
खौफ न है कानून का, और न है अनुराग।
इसीलिए है देश में, पाकिस्तानी राग।।
*
आशाओं के बीज से, निकले हैं कुछ खार।
हम तो भूखे रह गये, व्यंग्य करे संसार।। 
*
क्रोध कभी मत कीजिए, यह दुर्गुण की खान।
हरता बुद्धि, विवेक भी, नहीं छोड़ता ज्ञान।।
*
छप्पन इंची वक्ष में, दुनिया का परिमाप।
तब क्यों भूखी देहरी,  पेट रही है नाप।। 
*
इन नैनों की कोर से, टपक रहे हैं शब्द।
प्रिय! अब तो आकर मिलो, बीत रहा है अब्द।। 
*
पाहन कब कहता हमें, पूज्य बनाओ यार।
मानो तो मैं देव हूँ, या पत्थर बेकार।। 
*
नवल वर्ष ये आपको, रखे सुखद, समृद्ध।
पूर्ण करे हर कामना, हो न हुलासा वृद्ध।। 
*
लाए वर्ष नवीनता, पाएं हर पल हर्ष।
सुखमय हो जीवन सदा, मिले नित्य उत्कर्ष।। 
*
गत ने आगत से कहा, खुश रखना हर हाल।
हाथ तुम्हारे दे दिया, मैनें पूरा साल।।
*
अंतर के संताप ने, कलम थमा दी हाथ।
शब्द न रोटी बन सका, बस आँसू का  साथ।।
*
ऐसे- कैसे तुम मुझे, कहते हो कंगाल।
अंतरघट में है छुपा, माया का जंजाल।। 
*
पावक नभ जल भू हवा, पंचभूत की देह।
सिक्के से क्यों तौलता, होना है जब खेह।। 
*
आँसू तेरा मोल क्या, तुझ में ऐब हजार।
जग क्या जाने पीर को, नीर दिखे हर बार।। 
*
जिसने पायी ज़िंदगी, निश्चित है अवसान।
फिर भी  माया-मोह में, डूब रहा इंसान।। 
*
ढल जाएगी एक दिन, उम्र, समय यह देह।
फिर तन से है प्रेम क्यों, जो मिट्टी का गेह।।
*
कर्कश स्वर है काग का, करता दूर विछोह।
कोयल काली है मगर, वाणी लेती मोह।।
*
दिल को जो अच्छा लगे, कर लेना निष्काम।
कल की चिंता में कहाँ,खत्म हुआ सब काम।।
*
इस कलियुग ने आजकल,किस्से सुने तमाम।
दशरथ जैसे पिता सौ, पुत्र न पाया राम।। 
*
खुशबू बसी गुलाब में, पीर छुपाये शूल।
जैसी जिसकी कामना, मिला उसे अनुकूल।।
*
विनती करना प्रेम से, करना नहीं दहाड़।
चंद मिनट में आजकल, राई बने पहाड़।।
*
ढ़ल जाएँगे एक दिन, उम्र, रूप, यह देह।
तन पर इतना प्रेम क्यों, जो मिट्टी का गेह।। 
*
अगर चाहिए जिंदगी, सेहत भी भरपूर।
परामर्श मेरा यही, हों व्यसनों से दूर।। 
*
राहों में बिखरे पड़े, बैर-भाव के शूल।
सोंच-समझकर पैर रख, राह नहीं माकूल।। 
*
है खराब वह व्यंजना, बाँट रही जो मौत।
बात हमारी सत्य है,व्यसन जिंदगी सौत।। 
*
एक पंक्ति में हैं खड़े, तुलसी, नीम बबूल।
अलग-अलग तासीर को, जाने वही रसूल।।
*
मौत सत्य है जान लें, जीवन कपट सलील।
जीने को क्यों जिन्दगी, करता रोज दलील।। 
*
सुखद सुभग सानिध्य को, नमन करूँ कर जोर।
चिरकालिक हो बंधुता, सहज मैत्री डोर।। 
*
रखना सदा कुटुंब में, समरसता का भाव।
नियम बने समुदाय को, अपनों में सद्भाव।। 
*
जाना सबको एक दिन, राजा रंक फकीर।
सुखद कर्म करते रहें, जब तक रहे शरीर।। 
*
रूपवती के रूप में, मैं खोया दिन-रात।
बुद्धिमती समझी नहीं, मेरे मन की बात।। 
*
कुछ तारक,कुछ तारका, तारकमय आकाश।
एक सूर्य के उदय से, घर-घर हुआ उजास।। 
*
पराधीन को बेड़ियाँ, कर देतीं मजबूर।
आज़ादी संग जिन्दगी, जी ले मित्र जरूर।। 
*
कुछ क्यारी में पुष्प हैं, कुछ में उगे बबूल।
सोच-समझ अनुबंध कर, काँटे,खुशबू, फूल।। 
*
मौन भला कब राह दे, मार्ग न दे वाचाल।
नियत काल की उक्ति ही,करती मालामाल।। 
*
शाकाहारी शुद्ध है, नित्य करें आहार।
जीवन को देते कहाँ, मृत शरीर आधार।। 
*
रे! मन क्यों होता रहा,जग में नित्य अधीर।
वही कर रहा कर्म तू, जो कहती तकदीर।। 
*
स्वयं सिद्धि का मंत्र जो, जपता सुबहो-शाम।
अंत समय में क्या उसे, मिल जाता सुखधाम।। 
*
कौन उजाला बाँटता, कौन घनेरी रात?
अपने-अपने कर्म ही, देते फल सौगात।। 
*
अणुवत जन्मा जो वही, होगा आप विलीन।
कद बढ़ना निस्सार है,  मानस अगर मलीन।। 
*
विषधर विष धारे सदा, कभी न करता पान।
दशन करे वह अन्य का, नहीं गँवाता जान।। 
*
चादर छोटी हो गई, या बढ़ गया शरीर।
चला सांत्वना ओढ़कर, जब से हुआ फकीर।। 
*
लेखा-जोखा कर्म का, दिया तराजू डाल।
कलयुग बैठा तौलने, सद्गुण दिया निकाल।। 
*
जीवन भर परिहास को, रहा तौलता रोज।
अंत हुआ जब सन्निकट,करे स्वयं की खोज।। 
*
चंदन घिस-घिस कर मनुज, मस्तक लेता थोप।
पाएगा क्या सत्य को, करे अकारण कोप।। 
*
हाथ जोड़कर ज्ञान पा, हाथ पसारे दान।
इज्जत मिलती प्रेम से, भक्ति-मिले भगवान।। 
*
जीवन के परिप्रेक्ष्य में, आँखें रखना चार।
दो आँखें सत्कर्म पर, दो रोकें व्यभिचार।। 
*
प्रतिस्पर्धा स्वच्छ रहे, हृदय न किंचित द्वेष।
हार-जीत संज्ञान से, समझे लोग विशेष।। 
*
जीवन में प्रभु के लिए, रखें समर्पण-भाव।
भवसागर तारे यही, बनकर सुंदर नाव।। 
*
कंकर में शंकर मिले, शंकर में शमशान।
अंतरपट को स्वच्छ रख, पा जाएगा ज्ञान।। 
*
काल प्रवर्तित आज में, बदले रोज स्वरूप।
ढाई आखर छोड़कर, कुछ न रहा अनुरूप।। 
*
हमने उनसे आज तक, की केवल फरियाद।
और उन्हें लगता रहा, बातें हैं अपवाद।। 
*
हार हृदय की हार है, हार यथार्थ, अतीत।
हार मान ले हार जब, तब बेहतर हो जीत।। 
*
ठंडक इतनी बढ़ गयी, काँपे नित्य शरीर।
मौन हो गए सूर्य भी, कौन हरे अब पीर।। 
*
दिवा स्वप्न जैसे हुई, सुखद सुनहरी धूप।
आग, अँगीठी ही लगे, सुखमय दिव्य अनूप।। 
*
कर्म किये हैं जो यहाँ, उसका है परिणाम।
पर लोगों को लग रहा, शरद ऋतु का काम।। 
*
शीत लहर में हो गया,सर्द दिवस सह रात।
चिंगारी बस आँख में, सुप्त रहे जज्बात।।65
*
काले कागज हो रहे, दोहे लिख-लिख यार।
रोटी भर क्या मोल है, अगर बिके बाजार।।
*
***********

doha shatak: anil kumar mishra

दोहा शतक
anil kumar Mishra का प्रोफ़ाइल फ़ोटोअनिल कुमार मिश्र

आत्मज:
 
श्रीमती कलावती
​- ​
स्व. राम नरेश 
​मिश्रा​
 
​जीवन साथी:
 श्रीमती रजनी मिश्रा
जन्म
​:
 
​३१
 मार्च 
​१९५८,
 
इलाहाबाद (उ
​.​
 प्र
​.​
)
शिक्षा
​:
 एम. ए. ( समाजशास्त्र
​​
,
​ ​
हिंदी)
​​
विधा
​:
 नुक्ता चीनी, गीत, व्यंग, दोहे आदि
 
प्रकाशन
​: 
दृष्टि (यात्रा संस्मरण)
​, ​
इन्द्रधनुष (काव्य संकलन
​)
सम्प्रति
​:
 विद्युत पर्यवेक्षक, उमरिया कालरी
। सचिव वातायन साहित्यिक
​-
सांस्कृतिक संस्था उमरिया (म.प्र.)
सचिव - हिंदी साहित्य 
​सम्मेलन
​ 
म. प्र.  भोपाल
 ( उमरिया इकाई )
​​
 
​संपर्क: ​
आवास क्रमांक 
​बी ५८
 , 
​९ वीं
 कालोनी उमरिया
​ 
​४८४६६१ 
​ 
चलभाष: ९४२५८९१७५६ , ९०३९०२५५१०, व्हाटस एप: ७७७३८७०७५७ 
​ ईमेल: mishraakumr @gmail.com 
 
​*
अष्टभुजी जगदंबिके, लुटा रहीं आशीष।
आदि शक्ति की अर्चना, करते हैं जगदीश।। 
मोक्षदायनी अंब हैं, महाशक्ति विख्यात।
पाप-शाप देतीं गला, शुभाशीष विख्यात
।। 
 
*
मातु चरण जब-जब पड़े, होते मंगल काज।
विघ्नहरण वरदायनी, चढ़ आईं मृगराज।। 
*  
रखूँ भरोसा राम का ,क्या करना कुछ और।  
राघव पद रज बन रहूँ, और न चाहूँ ठौर
।। 
राम नाम महिमा बड़ी, पाहन जाते तैर। 
छोड़ जगत जंजाल तू, पाल न राग, न बैर।। 
पूरे जग में राम सा,
​ 
नहीं 
​अन्य ​
आदर्श।
राम भजन
​-अनुकरण दे
,
​ ​
जीवन 
​में
 उत्कर्ष
।। 
धन्य भूमि साकेत पा, राघव नंगे पाँव। 
निरख हँसे माता-पिता, विहँस उठे पुर-गाँव।। 
*
रखूँ भरोसा राम का, क्या करना कुछ और। 
राघव पद रज बन रहूँ, और न चाहूँ ठौर
।। 
*
राम नाम शर साधिये, मिटते कष्ट समूल। 
सारे जग के मूल में, राम नाम है मूल।। 
गुणाधीश हनुमंत हैं, पंडित परम सुजान।
आर्तनाद सुन दौड़ते, महावीर हनुमान।।  
*
मर्यादामय राम है, सतत कर्ममय श्याम।
जिस ढिग ये दोनों रहे, जीवन चरित ललाम।। 
*
धन बल यश का क्या करूँ, साथ न हों जब राम।
व्यर्थ हुईं अक्षौहिणी, सँग नहीं यदि श्याम।। 
*
मन में रखिये राम को, कर में रखिये श्याम।
मर्यादामय राम हैं, कर्म योग घनश्याम।। 
*
देवी के मन शिव रमे, सीता के मन राम।
राधा के मन श्याम हैं, मानव के मन दाम।। 
*
कुञ्ज गली कान्हा फिरें, ग्वाल-बाल के साथ।
सच बड़भागी हैं बहुत, मोहन पकड़े हाथ।। 
*
मायापति क्रीड़ा करें, चकित हुआ ब्रज धाम। 
पञ्च तत्व भजते रहे, राधे राधे श्याम।। 
*
पाँव डुबोये जमुन-जल, छेड़े मुरली तान।
कालिंदी पुलकित मुदित, धरकर प्रभु का ध्यान।। 
*
धेनु चराई ग्वाल बन, दधि लूटा बिन दाम। 
बने द्वारिकाधीश जब, फिरे नहीं फिर श्याम।। 
*
श्याम विरह में तरु सभी, खड़े हुए निष्पात। 
शरद पूर्णिमा भी हुई, स्याह अमावस रात।।
गोवर्धन सूना खड़ा, कुञ्ज मौन बिन वेणु। 
राह श्याम की ताकते, कालिंदी तट-रेणु।। 
*
लोभ मोह मद स्वार्थ के, ताले लगे अनेक।
ईश-कृपा सब लौटतीं ,बंद द्वार पट देख।। 
*
लोभ मोह मद हम फँसे, लो प्रभु हमें निकाल। 
जीवन में शुचिता रहे, उन्नत हो मम भाल।। 
*
महासमर तम कर रहा, लोभ-मोह ले साथ।
लड़ने में सक्षम करो, प्रभु थमा तव हाथ।। 
*
ईश कृपा जिसको मिली, उसको व्यर्थ कुबेर। 
​ 
शुचिता की आभा रहे, थमे अमावस फेर।। 
*२५ 
सहज सरल को प्रभु मिलें, करें न पल की देर। 
हेम कुण्ड में हरि नहीं, अथक थके सब हेर।। 
*
मन वातायन खोलिए, निर्मल मन संसार। 
​ 
प्रभु-छवि आँखों में बसा, होगा बेड़ा पार।। 
*
तुम साधन अरु साधना, मन चित भाव विचार। 
​ 
ध्यान योग प्रभु आप हो,
​ ​
अवगुण के उपचार
​ 
।। 
*
मायापति की शरण जा, छूटे बंधन-मोह। 
​ 
मानव मन भटका हुआ, है विराट जग खोह
।। 
*
मिट जाएगी दीनता, भज ले  मारुति-नाम। 
​ 
यश-वैभव पौरुष मिले, बिन कौड़ी बिन दाम।। 
*
सत्कर्मो से कीजिये , कलुषित मन को साफ। 
​ 
करते हैं प्रभु ही सदा, त्रुटियाँ सारी माफ़
।। 
*
मन में प्रभु कैसे रहें, बसी मलिन यदि सोच।
जैसे गति आती नहीं, अगर पाँव में मोच।। 
*
पुष्कर में ब्रह्मा बसे, अवधपुरी में राम। 
कान्हा गोकुल में रहे, शिव जी काशी धाम।। 
सागर में हरि रम रहे, रमा रहें नित संग। 
देव सभी मम हिय बसें, हो निष्-दिन सत्संग।। 
*
मन गुरुर कर भूलता, प्रभु दिखलाते राह।
प्रभु के द्वारे एक हैं, दीन कौन, क्या शाह।। 
*
कर्मठता कब देखती,
​ ​नक्षत्रों
 की चाल। 
​ 
श्रम पूंजी जिसकी रही, वह है मालामाल
।। 
*​ 
रहें न गृह वक्री कभी, रहें राशि शुभ वार। 
नखत सभी अनुचर बने, राम कृपा आगार।। 
*​ 
राम चषक पी लीजिये, करिए तन-मन चंग।
धर्मध्वजा फहराइए, नीति-सुयश की गंध।। 
*​ 
अंधकार मन में रहा, बुझा ज्ञान का दीप।
प्रभु अंतर ऐसे छिपे, ज्यों मोती में सीप ।। 
*​ 
श्वास-श्वास यह फुका, जली न इच्छा एक। 
​ 
राम-नाम धूनी जला, लोभ चदरिया फेंक।। 
*​ 
राम नाम तरु पर लगे, मर्यादा के फूल।
बल पौरुष दृढ़ तना हो, चरित सघन जड़-मूल।। 
*​ 
उहा-पोह में क्यों फसें?, पूछे नवल विहान। 
कर्मठता के साथ ही, सदा रहें भगवान
।। 
*​ 
दीप पर्व अरि तमस का, देता जग उजियार।
पाप मिटे हरी-भक्ति से, हो शुचि-शुभ संसार।। 
*​ 
प्रेम वह्नि दहकाइए, बैर-शत्रुता फूक। 
​ 
माना यह पथ कठिन है, राम उपाय अचूक।। 
*​ 
जीवन में मत कीजिये, मिथ्या से गठजोड़।
क्षमा,शील, तप, सत्य का, कहीं न कोई तोड़।। 
*​ 
भक्ति-भाव से सींचिये, मन का रेगिस्तान ।
महक उठेगा हरित हो, जीवन का उद्यान।। 
*​ 
मन में शुचिता धार ले, त्याग लोभ मद काम।
स्वर्ग-नर्क हैं यहीं पर, मोक्ष यहीं सब धाम।। 
*​ 
छठ मैया जी आ गयीं, बहती भक्ति बयार।
भूख-प्यास तिनका हुईं, श्रद्धा अपरम्पार
।। 
*​ 
पाई-पाई में हुई, हाय! अकारथ श्वास। 
गिनते बीती जिंदगी, राम न आये पास।। 
*​ 
नींद खुली जब भोर में, खड़ा सामने पूस।
भानु महोदय हो गये, ज्यादा ही कंजूस।
।।
​ 
*
कौड़ा और अलाव से, रखिये अब सद्भाव। 
इनके ही बल शिशिर के, घट पा
​एं
गे भाव
।।
​ 
*
​  ​
पूस बाँटने चल प
​ड़े
, पाला 
​शीत
 कुहास।
कूकुर चूल्हा में घुसा, साध रहा है साँस।।
​ 
*
नई नवेली सोचती, काश न आये भोर।
पड़ी प्रीत ले पाश में, टूट रहे हैं पोर।।
​ 
*
चादर ओढ़े धवल सी, खेत खपड़ खलिहान।
ठिठुरे
​-​
ठिठुरे से दिखे, मचिया 
​मेड़
 मचान।।
​ 
*
स्वेटर शाल रजाइयाँ, ताप रहीं हैं धूप।
कल तक सारे बंद थे, मंजूषा के कूप।।
​ 
*
चना-चबेना-गुड़ बहुत, पूस माँगता खोज।
बजरे की रोटी रहे, चटनी भरता रोज।।
​ 
*
हीर कनी तृण कोर पर, पूस रखे हर रात।
बिन लेतीं हैं रश्मियाँ, आकर संग प्रभात।।
​ 
*
भानु न धरणी पग रखे, देख शिशिर का जोर।
जा दुबके हैं नीड़ में, शान्त पड़ा खग शोर।।
​ 
*
खल हो
​ सूरज जेठ में​
, और समीरण यार।
माघ मास सब उलट है, मानव का व्यवहार।।
​ 
*
कज्जल,
​ ​
वेणी,
​ ​
हार,
​ ​
नथ, 
​व
सन
​ हुए​
 बेहाल ।
दहकी प्रिय संग बाँह गह, भू
​ली
 सभी मलाल।।
​ 
*
शिशिर यातना दे रहा, भूल सभी व्यवहार। 
पृष्ठ भरे हैं जुल्म से, बाँच सुबह अखबार।। 
*
कुछ सोये फुटपाथ पर, कुछ ऊँचे प्रासाद
​​
सबके अपने भाग हैं, नहीं शिशिर अवसाद।।
​ 
*
रखे मृत्यु सम दृष्टि ही,
​ ​
करे न कोई  भेद
 
सत्कर्मी जब भी गया, जग को होता खेद।। 
*
हत्या हिंसा से रंगी, दिखी पंक्तियाँ ढेर
डरा रहे अख़बार हैं, आकर देर सबेर।।
​ 
*
 
सीता
​ को ​
सब खोजते, 
​किंतु न बनते 
राम
​​
शर्त सरल पर कठिन है, पहले हों निष्काम।।
​ 
*
रिश्ते
​-नाते
 टाँकिये, नेह
​-​
सूत ले हाथ
साँसें जो छिटकी रहीं, चल देंगी सब साथ।।
​ 
*
हम मानव अति हीन हैं, तरु हैं हमसे श्रेष्ठ
छाया ,पानी, फल दिया, 
​माँगा
 नहीं अभीष्ट।।
​ 
*
 
साँसों का मेला लगा, पिंजर है मैदान
​इच्छाएँ
 ग्राहक बनी, मोल करे नादान।। 
*
​  ​
गिनती 
​की
 
​साँसें
 मिलीं, क्यों खर्चे बेमोल
​मिट्टी
 में मिल जागा, अस्थि चाम का खोल
​​
।।
​ 
*
हाँ - हाँ , हूँ - हूँ कर रहा, करके नीचे माथ
लालच कब करने दिया, ऊपर अपना हाथ
।।
​ . ​
*
कृषकायी सरिता हुई, शोक मग्न हैं कूल
सांस जगत की फूलती, होता सब प्रतिकूल
।।
 
​*​
बेला 
​बिकता विवश हो
,
​ ​
सोच
​ रहा 
निज भाग
​​
। 
मंदिर या कोठा रहूँ 
​,
 या दुल्हिन 
​की माँग
​​
।।
*
बेला कभी न सोचता, कौन लिए है हाथ
उसको ही महका रहा, जो रखता है साथ।।
​*
बेला जब गजरा बने
​,
 उप
​जें​
 भाव अनेक
बेणी बन जूड़ा गुथे,
​ 
मन न र
​हे
 फिर नेक
।।
​ 
*
खोलो मन की साँकली,
​ ​
झाँके अन्दर भोर।
भागे तम डेरा लिए,
​ ​
सम्मुख देख अँजोर
​​
​​
  
*
भास्कर नभ पर आ कहे,
​ ​
उठ जाओ सब लोग
तन मन नित प्रमुदित रहे , काया रहे निरोग
 
*
धमनी-धमनी में बहे,
​ ​
नूतन शोणित धार
​​
तन
​-​
मन 
​यदि हुलसित ​
रहे,
​ ​भुला बैद का 
द्वार
*
पायल 
​सहमी
 पाँव में, चूड़ी है बेहाल
​​
सावन 
​सूना हो नहीं
, जैसे पिछले साल
। 
 
​आएगा
 जब गाँव में, कागा ले 
​संदेश
पल में ही कट जायगा, शाप बना परदेश
।।
​ 
*
सावन पापी ठहर तो ,मत बरसा
​ रे!
 आग।
विधि ने खुशियाँ कम लिखीं, मैं ठहरी हत भाग
*​
पावक से लिपटे हुए,
​ ​
अंग - अंग श्रृंगार
​​
। 
पावस में रजनी हुई, जैसे सौतन नार
​ 
*
दर्पण हैं चंचल नयन, बाहुपाश हैं हार।
प्रियतम से अनुपम भला ,कब कोई श्रृंगार
​ 
*
पावस बूँदें छेड़तीं, जाने किस अधिकार। 
प्रियतम
​!​
 निज थाती गहो, यौवन लागे भार
​ 
*
प्रीतम बरसें मेघ बन, तन भिसके 
​ज्यों
 भीत।
पोर-पोर टूटन 
​कहे
​हा!
 पावस की रीत
। 
​ 
*
प्रियतम की आहट मिली, पायल बोली कूक
​​
मध्य भाल टिकली हँसी, कंगन रहा न मूक
​ 
*
दिवा हुआ है शिशिर सा,
​ ​
और ग्रीष्म की रात
​​
नयन-नयन संवाद 
​सुन
,
​ ​
अधर-अधर 
​की बात
।।
​ 
*
अंग-अंग वाचाल 
​लख
,
​ ​
काँधा आँचल छोड़।
आँखें प्रियतम 
​को तकें
,
​ ​
सब मर्यादा तोड़
*
गोरी ने खुद को किया,
​ ​
प्रियतम के अनुकूल।
​आँचल
 में भी फूल हैं,
​ ​
चोटी में भी फूल
। 
​ 
 
*
नथ अधरों से कर रही,
​ गुप
चुप कुछ 
​संवाद
मैं शोभा की पात्र बस,
​ ​
तुम हरदम आबाद
।।
​ 
*
तुम हो किस रस में पगे, पूछे नथ यह राज।
अधर कहे हम मित्र हैं,
​ ​
मिलें त्याग कर लाज
। 
​ 
*
पग आलक्तक से रंगे,
​ ​
नयन हुए अरुणाभ
​​
अंग
​-​
अंग 
​हँस
 कह रहे, जगे हमारे भाग
​ 
*
फेंक न जूता मारिये, इनका भी है मान
​​
​नेता को पड़ रो रहा
, आज हुआ अपमान
*
​ 
बेटा से माता कहे,
​ ​
बेटा
​!​
 गारी 
​बोल
​​
संसद की भाषा 
​यही
,
​ ​
​बोल बजाकर ढोल
*
चोर द्वार से है घुसे,
​ ​
लड़ते नहीं चुनाव
लोकतंत्र के पीठ पर,
​ नेता ​
करते घाव
 
*
हिंदी का निज देश में,
​ ​
होता है अपमान।
पखवाड़े के रूप में,
​ ​
लेते हैं 
​सं
ज्ञान
​*
कैसे कुछ सौ वर्ष में,
​ ​
बदल गया 
​है
 रूप
​​
​हिंदी दासी रह गयी
,
​ अंगरेजी है भूप
।।
*
हिंदी को अपनाइये,
​ ​
​तनिक
 न करिये लाज।
इस
​से
 अपना कल रहा,
​ ​
इस
​से
 ही है आज
*
दोहा छंद कवित्त हैं,
​ ​
हिंदी के श्रृंगार।
​चिर ​
गौरव सेयुक्त हैं,
​ ​
हिंदी के युग चार।।
*
सारी लज्जा छोड़ दें ,
​ ​
हो हिंदी व्यवहार।
अगर परायी सी रही,
​ ​
हमको है धिक्कार
​​
।।
*
भारत ही वह भूमि है,
​ ​
जहाँ हुए रसखान
​​
कबिरा रहिमन सूर अरु ,तुलसी हुए महान
​​
।।
*
धीरे - धीरे झाँकती ,जा सागर के पार।
​हिंदी छवि मृदुल
,
​ ​
मिलता इसे दुलार।।
*
शील क्षमा साहस दया, उन्नति के सोपान।
इसी मार्ग चल मिलेंगे,
​ ​
कृपासिंधु भगवान।।
***