कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 9 मार्च 2021

कृष्ण चिंतन ७

विश्ववाणी हिंदी संस्थान अभियान जबलपुर 
*
कृष्ण-चिंतन ७
कृष्ण चिंतन के गत छ: सत्रों में आप सबकी बढ़ती रुचि और सहभागिता हेतु हृदय से धन्यवाद। 
अगले सत्र का विषय है 'कृष्ण नीति'।
कृष्ण ने अनेक समस्याओं और शत्रुओं का सामना असाधारण योग्यता के साथ कर अपने शत्रुओं को अवाक किया। आपकी दृष्टि में कृष्ण के जीवन में कौन सी समस्या महत्वपूर्ण और जटिल है जिस के समाधान हेतु उन्होंने विशिष्ट नीति का अनुसरण किया?, उसकी उस समय में क्या उपादेयता थी? इस काल में वह नीति कितनी अनुकरणीय है? आदि बिंदुओं पर आलेख यूनीकोड में टंकित कर, रविवार रात तक संयोजक आचार्य संजीव वर्मा सलिल ९४२५१८३२४४ व संचालक सरला वर्मा ९७७०६७७४५४ को भेजिए।
आलेखों की जीवंत प्रस्तुति करने हेतु आप सोमवार अपराह्न चार बजे से छै बजे के मध्य गूगलमीट पर आमंत्रित हैं, लिंक सोमवार दोपहर को मिलेगी।
चयनित आलेख divyanarmada.in पर प्रकाशित किए जाएँगे।
*

अमृत महोत्सव ५ वंदना भारत माता की

अमृत महोत्सव ५ 
*
स्वतंत्रता अमृत महोत्सव गीत ५
*
वंदना भारत माता की
जगद्गुरु भाग्य विधाता की
*
लहर साबरमती की कहती
शक्ति के हाथ मुक्ति रहती
बढ़े दाण्डी पथ पर गाँधी
साथ ले जनगण की आँधी
नमक मुट्ठी में जब तोला
विदेशी शासन तब डोला
देश आजाद सुहाता की
अमृत उत्सव मन भाता की
वंदना भारत माता की
जगद्गुरु भाग्य विधाता की
*
तिरंगा थाम बढ़े हो एक
देश हित काम किया हर नेक
सैन्य ताकत उद्योग विकास 
लोक कल्याण लक्ष्य ले खास
समुद भू अंतरिक्ष को नाप
सका यश सकल विश्व  में व्याप
कोरोना टीका दाता की
योग आरोग्य प्रदाता की
वंदना भारत माता की
जगद्गुरु भाग्य विधाता की
*
हिमालय शीश मुकुट सोहे
हिंद सागर हँस पग धोए 
द्वीप जंबू छवि मनहारी
छटा आर्यावर्ती प्यारी
गोंडवाना है हिंदुस्तान 
इंडिया भारत देश महान 
लोक आनंद मनाता की
सत्य शिव सुंदर दाता की
वंदना भारत माता की
जगद्गुरु भाग्य विधाता की
*

सोमवार, 8 मार्च 2021

द्विपदी / अश'आर

 द्विपदी / अश'आर 

मेरी माशूक के चेहरे पे जो प्यारा सा तिल है,
ध्यान से देखिए वो तिल नहीं है, मेरा दिल है।
*
बाद मरने के मेरी कब्र पे बोना बैगन,
ताकि माशूक मेरी भून के भरता खाए।
*

सुधारानी श्रीवास्तव

बहुमुखी प्रतिभा की धनी विधि पंडिता सुधारानी श्रीवास्तव
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
*
श्रीमती सुधारानी श्रीवास्तव का महाप्रस्थान रंग पर्व के रंगों की चमक कम कर गया है। इल बहुमुखी बहुआयामी प्रतिभा का सम्यक् मूल्यांकन समय और समाज नहीं कर सका। वे बुंदेली और भारतीय पारंपरिक परंपराओं की जानकार, पाककला में निष्णात, प्रबंधन कला में पटु, वाग्वैदग्धय की धनी, शिष्ट हास-परिहासपूर्ण व्यक्तित्व की धनी, प्रखर व्यंग्यकार, प्रकांड विधिवेत्ता, कुशल कवयित्री, संस्कृत, हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू साहित्य की गंभीर अध्येता, संगीत की बारीकियों को समझनेवाली सुरुचिपूर्ण गरिमामयी नारी हैं। अनेकरूपा सुधा दीदी संबंधों को जीने में विश्वास करती रहीं। उन जैसे व्यक्तित्व काल कवलित नहीं होते, कालातीत होकर अगणित मनों में बस जाते हैं।
सुधा दीदी १९ जनवरी १९३२ को मैहर राज्य के दीवान बहादुर रामचंद्र सहाय व कुंतीदेवी की आत्मजा होकर जन्मीं। माँ शारदा की कृपा उन पर हमेशा रही। संस्कृत में विशारद, हिंदी में साहित्य रत्न, अंग्रेजी में एम.ए.तथा विधि स्नातक सुधा जी मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में अधिवक्ता रहीं। विधि साक्षरता के प्रति सजग-समर्पित सुधा जी १९९५ से लगातार दो दशकों तक मन-प्राण से समर्पित रहीं। सारल्य, सौजन्य, ममत्व और जनहित को जीवन का ध्येय मानकर सुधा जी ने शिक्षा, साहित्य और संगीत की त्रिवेणी को बुंदेली जीवनशैली की नर्मदा में मिलाकर जीवनानंद पाया-बाँटा।
वे नारी के अधिकारों तथा कर्तव्यों को एक दूसरे का पूरक मानती रहीं। तथाकथित स्त्रीविमर्शवादियों की उन्मुक्तता को उच्छृंखलता को नापसंद करती सुधा जी, भारतीय नारी की गरिमा की जीवंत प्रतीक रहीं। सुधा दीदी और उन्हें भौजी माननेवाले विद्वान अधिवक्ता राजेंद्र तिवारी की सरस नोंक-झोंक जिन्होंने सुनी है, वे आजीवन भूल नहीं सकते। गंभीरता, विद्वता, स्नेह, सम्मान और हास्य-व्यंग्य की ऐसी सरस वार्ता अब दुर्लभ है। कैशोर्य में
संस्कारधानी के दो मूर्धन्य गाँधीवादी हिंदी प्रेमी व्यक्तित्वों ब्यौहार राजेंद्र सिंह व सेठ गोविंददास द्वारा संविधान में हिंदी को स्थान दिलाने के लिए किए गए प्रयासों में सुधा जी ने निरंतर अधिकाधिक सहयोग देकर उनका स्नेहाशीष पाया।
अधिवक्ता और विधिवेत्ता -
१३ अप्रैल १९७५ को महान हिंदी साहित्यकार, स्त्री अधिकारों की पहरुआ,महीयसी महादेवी जी लोकमाता महारानी दुर्गावती की संगमर्मरी प्रतिमा का अनावरण करने पधारीं। तब किसी मुस्लिम महिला पर अत्याचार का समाचार सामने आया था। महादेवी जी ने मिलने पहुँची सुधा जी से पूछा- "सुधा! वकील होकर तू महिलाओं के लिए क्या कर रही है?" महीयसी की बात मन में चुभ गयी। सुधा दीदी ने इलाहाबाद जाकर सर्वाधिक लोकप्रिय पत्रिका मनोरमा के संपादक को प्रेरित कर महिला अधिकार स्तंभ आरंभ किया। शुरू में ४ अंकों में पत्र और उत्तर दोनों वे खुद ही लिखती रहीं। बाद में यह स्तंभ इतना अधिक लोकप्रिय हुआ कि रोज ही पत्रों का अंबार लगने लगा। यह स्तंभ १९८१ तक चला। विधिक प्रकरणों, पुस्तक लेखन तथा अन्य व्यस्तताओं के कारण इसे बंद किया गया। १९८६ से १९८८ तक दैनिक नवीन दुनिया के साप्ताहिक परिशिष्ट नारी निकुंज में "समाधान" शीर्षक से सुधा जी ने विधिक परामर्श दिया।
स्त्री अधिकार संरक्षक -
सामान्य महिलाओं को विधिक प्रावधानों के प्रति सजग करने के लिए सुधा जी ने मनोरमा, धर्मयुग, नूतन कहानियाँ, वामा, अवकाश, विधि साहित्य समाचार, दैनिक भास्कर आदि में बाल अपराध, किशोर न्यायालय, विवाह विच्छेद, स्त्री पुरुष संबंध, न्याय व्यवस्था, वैवाहिक विवाद, महिला भरण-पोषण अधिकार, धर्म परिवर्तन, नागरिक अधिरार और कर्तव्य, तलाक, मुस्लिम महिला अधिकार, समानता, भरण-पोषण अधिकार, पैतृक संपत्ति अधिकार, स्वार्जित संपत्ति अधिकार, विधिक सहायता, जीवनाधिकार, जनहित विवाद, न्याय प्रक्रिया, नागरिक अधिकार, मताधिकार, दुहरी अस्वीकृति, सहकारिता, महिला उत्पीड़न, मानवाधिकार, महिलाओं की वैधानिक स्थिति, उपभोक्ता संरक्षण, उपभोक्ता अधिकार आदि ज्वलंत विषयों पर शताधिक लेख लिखे। कई विषयों पर उन्होंने सबसे पहले लिखा।
विधिक लघुकथा लेखन-
१९८७ में सुधा जी ने म.प्र.राज्य संसाधन केंद्र (प्रौढ़ शिक्षा) इंदौर के लिए कार्यशालाओं का आयोजन कर नव साक्षर प्रौढ़ों के लिए न्याय का घर, भरण-पोषण कानून, अमन की राह पर, वैवाहिक सुखों के अधिकार, सौ हाथ सुहानी बात, माँ मरियम ने राह सुझाई, भूमि के अधिकार आदि पुस्तकों में विधिक लघुकथाओं के माध्यम से हिंदू, मुस्लिम, ईसाई कानूनों का प्राथमिक ग्यान दिया।
उपभोक्ता हित संरक्षण
१९८६ में उपभोक्ता हित संरक्षण कानून बनते ही सुधा जी ने इसका झंडा थाम लिया और १९९२ में "उपभोक्ता संरक्षण : एक अध्ययन" पुस्तक लिखी। भारत सरकार के नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले मंत्रालय ने इसे पुरस्कृत किया।
मानवाधिकार संरक्षण
वर्ष १९९३ में मानवाधिकार संरक्षण अधिनियम बना। सुधा जी इसके अध्ययन में जुट गईं। भारतीय सामाजिक अनुसंधान परिषद दिल्ली के सहयोग से शोध परियोजना "मानवाधिकार और महिला उत्पीड़न" पर कार्य कर २००१ में पुस्तकाकार में प्रकाशित कराया। इसके पूर्व म.प्र.हिंदी ग्रंथ अकादमी ने सुधा जी लिखित "मानवाधिकार'' ग्रंथ प्रकाशित किया।
विधिक लेखन
सुधा दीदी ने अपने जीवन का बहुमूल्य समय विधिक लेखन को देकर ११ पुस्तकों (भारत में महिलाओं की वैधानिक स्थिति, सोशियो लीगल अास्पेक्ट ऑन कन्ज्यूमरिज्म, उपभोक्ता संरक्षण एक अध्ययन, महिलाओं के प्रति अपराध, वीमेन इन इंडिया, मीनवाधिकार, महिला उत्पीड़न और मानवाधिकार, उपभोक्ता संरक्षण, भारत में मानवाधिकार की अवधारणा, मानवाधिरार और महिला शोषण, ह्यूमैनिटी एंड ह्यूमन राइट्स) का प्रणयन किया।
सशक्त व्यंग्यकार -
सुधा दीदी रचित वकील का खोपड़ा, दिमाग के पाँव तथा दिमाग में बकरा युद्ध तीन व्यंग्य संग्रह तथा ग़ज़ल-ए-सुधा (दीवान) ने सहृदयों से प्रशंसा पाई।
नर्मदा तट सनातन साधनास्थली है। सुधा दीदी ने आजीवन सृजन साधना कर हिंदी माँ के साहित्य कोष को समृद्ध किया है। दलीय राजनीति प्रधान व्यवस्था में उनके अवदान का सम्यक् मूल्यांकन नहीं हुआ। उन्होंने जो मापदंड स्थापित किए हैं, वे अपनी मिसाल आप हैं। सुधा जी जैसे व्यक्तित्व मरते नहीं, अमर हो जाते हैं। मेरा सौभाग्य है कि मुझे उनका स्नेहाशीष और सराहना निरंतर मिलती रही।
***

क्षणिका महिला

क्षणिका
महिला
*
खुश हो तो
खुशी से दुनिया दे हिला
नाखुश हो तो
नाखुशी से लोहा दे पिघला
खुश है या नाखुश
विधाता को भी न पता चला
अनबूझ पहेली
अनन्य सखी-सहेली है महिला
*
८-३-२०२०

मुक्तिका

मुक्तिका
*
झुका आँखें कहर ढाए
मिला नज़रें फतह पाए
चलाए तीर जब दिल पर
न कोई दिल ठहर पाए
गहन गंभीर सागर सी
पवन चंचल भी शर्माए
धरा सम धैर्य धारणकर
बदरियों सी बरस जाए
करे शुभ भगवती हो यह
अशुभ हो तो कहर ढाए
कभी अबला, कभी सबला
बला हर पल में हर गाए
न दोधारी, नहीं आरी
सुनारी सभी को भाए
***
संजीव
८-३-२०२०

माँ

एक रचना
महिला दिवस
*
एक दिवस क्या
माँ ने हर पल, हर दिन
महिला दिवस मनाया।
*
अलस सवेरे उठी पिता सँग
स्नान-ध्यान कर भोग लगाया।
खुश लड्डू गोपाल हुए तो
चाय बनाकर, हमें उठाया।
चूड़ी खनकी, पायल बाजी
गरमागरम रोटियाँ फूली
खिला, आप खा, कंडे थापे
पड़ोसिनों में रंग जमाया।
विद्यालय से हम,
कार्यालय से
जब वापिस हुए पिताजी
माँ ने भोजन गरम कराया।
*
ज्वार-बाजरा-बिर्रा, मक्का
चाहे जो रोटी बनवा लो।
पापड़, बड़ी, अचार, मुरब्बा
माँ से जो चाहे डलवा लो।
कपड़े सिल दे, करे कढ़ाई,
बाटी-भर्ता, गुझिया, लड्डू
माँ के हाथों में अमृत था
पचता सब, जितना जी खा लो।
माथे पर
नित सूर्य सजाकर
अधरों पर
मृदु हास रचाया।
*
क्रोध पिता का, जिद बच्चों की
गटक हलाहल, देती अमृत।
विपदाओं में राहत होती
बीमारी में माँ थी राहत।
अन्नपूर्णा कम साधन में
ज्यादा काम साध लेती थी
चाहे जितने अतिथि पधारें
सबका स्वागत करती झटपट।
नर क्या,
ईश्वर को भी
माँ ने
सोंठ-हरीरा भोग लगाया।
*
आँचल-पल्लू कभी न ढलका
मेंहदी और महावर के सँग।
माँ के अधरों पर फबता था
बंगला पानों का कत्था रँग।
गली-मोहल्ले के हर घर में
बहुओं को मिलती थी शिक्षा
मैंनपुरी वाली से सीखो
तनक गिरस्थी के कुछ रँग-ढंग।
कर्तव्यों की
चिता जलाकर
अधिकारों को
नहीं भुनाया।
***

धरती

एक कविता महिला दिवस पर :
धरती
संजीव 'सलिल'
*
धरती काम करने
कहीं नहीं जाती
पर वह कभी भी
बेकाम नहीं होती.

बादल बरसता है
चुक जाता है.
सूरज सुलगता है
ढल जाता है.

समंदर गरजता है
बँध जाता है.
पवन चलता है
थम जाता है.

न बरसती है,
न सुलगती है,
न गरजती है,
न चलती है

लेकिन धरती
चुकती, ढलती,
बंधती या थमती नहीं.

धरती जन्म देती है
सभ्यता को,
धरती जन्म देती है
संस्कृति को.
तभी ज़िंदगी
बंदगी बन पाती है.

धरती कामगार नहीं
कामगारों की माँ होती है.
इसीलिये इंसानियत ही नहीं
भगवानियत भी
उसके पैर धोती है..
***

मुक्तिका

मुक्तिका
*
भुज पाशों में कसता क्या है?
अंतर्मन में बसता क्या है?
*
जितना चाहा फेंक निकालूँ
उतना भीतर धँसता क्या है?
*
ऊपर से तो ठीक-ठाक है
भीतर-भीतर रिसता क्या है?
*
दिल ही दिल में रो लेता है.
फिर होठों से हँसता क्या है?
*
दाने हुए नसीब न जिनको
उनके घर में पिसता क्या है?
*
'सलिल' न पाई खलिश अगर तो
क्यों है मौन?, सिसकता क्या है? 
**

अमृत महोत्सव ४

अमृत महोत्सव ४
आजादी का अमृत महोत्सव
*
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।
बहा पसीना भारत की माटी पर स्वर्ग बसाना है।। 
*
साबरमती पुकार रही है दांडी यात्रा मत भूलो। 
एक साथ मिल, कदम बढ़ाओ अपनी मंज़िल को छू लो।.
चंद्र और मंगल को छू, नभ पर परचम लहराना है। 
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।।
*
बापू का सपना पूरा हो, बने आत्म निर्भर हर गाँव। 
श्रम-कौशल से रोजगार पा, युवा जमाएँ अपने पाँव।।
नर-नारी सम मान पा सकें, शिक्षा श्रेष्ठ दिलाना है। 
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।।
*
अभियंता-वैज्ञानिक मिलकर करें देश का नव निर्माण। 
योग-चिकित्सा स्वास्थ्य सुधारे, पर्यावरण करे संप्राण।।
देशभक्ति का भाव हमें, जनगण-मन में विकसाना है। 
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।।
*
बलशाली हो सेना इतनी, दुश्मन डर से काँप उठे। 
कभी कृष्ण की मुरली गूँजे, कभी राम का चाप उठे।।
शिव बन विष पी, अमृत बाँटे, वह पीढ़ी उपजाना है। 
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।।
सारी दुनिया है कुटुंब, सब सबका ध्यान रखें मिलकर। 
हर मानव की उन्नति हो, हर सुख पाएँ सब मिल-जुलकर।।
जगद्गुरु बन सबसे सबका हित हमको करवाना है। 
आजादी का अमृत महोत्सव मिलकर आज मनाना है।।
*

अमृत महोत्सव २ सारी दुनिया देख रही है

भारत का प्रगति गान २
सारी दुनिया देख रही है
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'
*
सारी दुनिया देख रही है अब भारत की ओर।
विश्वगुरु फिर आए आगे थामे जग की डोर।।
सारी दुनिया देख रही है.......
*
आजादी का अमृत महोत्सव, याद रखो बलिदान।
'मन की बात' फूँक दो अपने सपनों में नव जान।।
बने आत्म निर्भर भारत है दांडी का संदेश।
मौलिक अधिकारों की रक्षा, है कर्तव्य विशेष।।
हम मेहनतकश उगा रहे हैं नित्य सुनहरी भोर
सारी दुनिया देख रही है अब भारत की ओर।
विश्वगुरु फिर आए आगे थामे जग की डोर।।
सारी दुनिया देख रही है.......
*
हिंद महासागर से हिमगिरि तक भारत है एक।
अंतरिक्ष नापे इसरो, अद्भुत तकनीक विवेक।।
सिंधु नर्मदा कावेरी गंगा यमुना के तीर।
बनें रेल पुल मार्ग सुरंगें, रक्षा की प्राचीर।।
मेट्रो आयुध यान आई टी का दस दिश है जोर
सारी दुनिया देख रही है अब भारत की ओर।
विश्वगुरु फिर आए आगे थामे जग की डोर।।
सारी दुनिया देख रही है.......
*
हैं भविष्य उज्जवल ताकत अपनी मजदूर-किसान।
ऊँच-नीच मिट गई साथ हैं अब जवान विज्ञान।।
योग सीखता सब जग हमसे, करता जय-जयकार।
कोरोना टीका भारत का मानव को उपहार।
कंकर से शंकर रच दें हम, आशा नई अँजोर
सारी दुनिया देख रही है अब भारत की ओर।
विश्वगुरु फिर आए आगे थामे जग की डोर।।
सारी दुनिया देख रही है.......
*

अमृत महोत्सव १ अगिन नमन गणतंत्र महान

आजादी का अमृत महोत्सव १ 

*
दांडी मार्च साबरमती
भारत का प्रगति गान
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
अगिन नमन गणतंत्र महान,
जनगण गाए मंगलगान। 
अमृत महोत्सव स्वतंत्रता का 
महके लोकतंत्र उद्यान।।  
*
दसों दिशाएँ लिए आरती,
नजर उतारे मातु भारती। 
भारत वर्ष बन रहा जगगुरु 
नेह नर्मदा पुलक तारती। । 
नीलगगन विस्तीर्ण वितान 
अगिन नमन गणतंत्र महान
*
ध्वजा तिरंगी फहरा फरफर, 
जनगण की जय बोले फिर फिर।  
इसरो रवि बन नापे नभ नित 
तम घिर विकल न हो मन्वन्तर।।  
सत्-शिव-सुंदर मूल्य महान
अगिन नमन गणतंत्र महान
*
नीव सुदृढ़ मजदूर-किसान,
रक्षक हैं सैनिक बलवान।  
अभियंता निर्माण करें नव-
मूल्य सनातन गढ़ इंसान।।  
सत्साहित्य रचें रस-खान
अगिन नमन गणतंत्र महान 
*
केसरिया बलिदान-क्रांति है,
श्वेत स्नेह सद्भाव शांति है। 
हरी जनाकांक्षा नव सपने-
नील चक्र निर्मूल भ्रांति है।। 
रज्जु बंध, निर्बंध उड़ान
अगिन नमन गणतंत्र महान 
*
कंकर हैं शंकर बन पाएँ
मानवता की जय जय गाएँ
अडिग अथक निष्काम काम कर
बिंदु सिंधु बनकर लहराएँ 
करे समय अपना जयगान
अगिन नमन गणतंत्र महान 
****

रविवार, 7 मार्च 2021

भारत का प्रगति गान ३

भारत का प्रगति गान ३ 
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'

जग गुरु भारत बने हमारा, 
साबरमती तीर से गूँजा 
जनगण का जयकारा। 
अमृत महोत्सव आज़ादी का 
मना देश हुंकारा।। 
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
*
'मन की बात' करें हिल-मिलकर। 
भारत 'स्वच्छ' रखें मिल-जुलकर।।
'जनारोग्य-जन औषधि' सस्ती-
'ऋण' लें युवा उद्यमी हँसकर।।  
'एम्स' ने स्वास्थ्य सुधारा।
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
*  
नीति 'उज्ज्वला' से विकास है,
'रक्षा बीमा' शुभ प्रयास है। 
गाँव-गाँव 'बिजली-मकान' से-
आया जीवन में उजास है। 
'शिक्षा' ने भाग्य सँवारा 
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
अपराधी को 'सख्त सजा' है, 
करो 'परिश्रम' तभी मजा है। 
'तीन तलाक' न रस्ता रोके-
'शोषक' को कानून कजा है।।
'कृषि कानून' सुधारा 
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
'अंत्योदय' योजना सुहाई,
'मुद्रा योजना' उन्नति लाई। 
'मैटरनिटी लीव' अब ज्यादा 
'कनेक्टिविटी डिजिटल' मन भाई।।
'जन धन खाता' हुआ सहारा 
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
*
मित्रों को 'कोरोना टीका',
बाँट रहे है कारज नीका। 
'स्ट्राइक सर्जिकल' शौर्य है-
बिना पराक्रम जीवन फीका। 
दिया 'योग' जग को उपकारा 
जग गुरु भारत बने हमारा
जनगण का जयकारा।......
*

आजादी का अमृत महोत्सव


आजादी का अमृत महोत्सव
भारत की आजादी की ७५ वीं वर्षग्रंथि पर तीन सप्ताह तक चलनेवाले ‘भारत का अमृत महोत्सव’ पर्व का आयोजन पूरे देश में १२ मार्च २०२१ से प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी साबरमती द्वारा आरंभ किया जाएगा। इसके अंतर्गत देश के सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में भारत के ऐतिहासिक वैभव, सांस्कृतिक धरोहर, प्रौद्योगिकी विकास एवं डिजिटल पहल को प्रदर्शित किया जायेगा । केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने मंगलवार को राज्य सरकारों एवं केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन के अधिकारियों के साथ चर्चा कर १२ मार्च से ५ अप्रैल तक आयोजित होने वाले इस महोत्सव की तैयारियों का जायजा जिया । यह कार्यक्रम साल २०२२ में देश की आजादी की ७५ वीं वर्षगांठ से ७५ सप्ताह पूर्व आयोजित की जा रही है । देश की आजादी की ७५ वीं वर्षगांठ से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम साल २०२२ से साल २०२३ के स्वतंत्रता दिवस तक मनाया जायेगा । इस महोत्सव का उद्देश्य वर्ष १९४७ में स्वतन्त्रता के बाद की विभिन्न उपलब्धियों को प्रदर्शित कर जनगण के मन में गर्व की अनुभूति करना है। केंद्रीय गृह सचिव ने राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से विभिन्न गतिविधियों को लेकर योजना तैयार करने को कहा। इस अवसर पर गुरू तेग बहादुर, श्री अरविंदो, सुभाष चंद्र बोस जैसे विभूतियों और स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े महान नेताओं पर कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे । इसके अलावा साइकिल रैलियां, प्रदर्शनी, योग शिविर, लेख प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जायेगा ।
अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में विभिन्न मंत्रालयों से आयोजित कार्यक्रमों के बारे में मार्गदर्शन के लिए राष्ट्रीय कार्यान्वयन समिति पहले ही गठित कर ली गई है। वर्ष २०१७ में स्वतंत्रता दिवस पर अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था कि यदि हममें से प्रत्येक व्यक्ति, यह ध्यान दिए बिना कि वह कहाँ से जुडा है, एक नए संकल्प, नई ऊर्जा, नई शक्ति के साथ प्रयास करे, तो हम अपनी सामूहिक शक्ति से आजादी के ७५वें वर्ष २०२२ में पूरे देश का परिदृश्य बदल सकते हैं। यह भारत, एक नया भारत होगा- यह सुरक्षित समृद्ध और सुदृढ भारत होगा। सरकार ने २५९ सदस्यों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में एक राष्ट्रीय समिति का गठन किया है जिसके लिए एक राजपत्रित अधिसूचना जारी की गई है। इस राष्ट्रीय समिति में केंद्रीय मंत्रियों के अलावा सभी क्षेत्रों के गणमान्य नागरिक शामिल हैं। समिति राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारतीय स्वतंत्रता की ७५वीं वर्षगांठ की स्मृति के लिए कार्यक्रमों के निर्माण के लिए नीति निर्देश और दिशा निर्देश प्रदान करेगी।

भारत सरकार ने १५ अगस्त, २०२२ से ७५ सप्ताह पहले भारतीय स्वतंत्रता के ७५ वर्षों का जश्न शुरू करने का फैसला किया है। इस महोत्सव का उद्देश्य India@2047 के लिए विज़न बनाना है। इस महोत्सव में तकनीकी और वैज्ञानिक उपलब्धियों के प्रदर्शन के साथ विभिन्न सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। इसके अलावा, इस इवेंट में कुछ अज्ञात स्थानों और कुछ स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान को ही प्रदर्शित किया जायेगा। इस मौके पर सरकार विभिन्न मेगा परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित करेगी। अलग-अलग मंत्रालयों को अलग-अलग महत्वपूर्ण परियोजनाओं की पहचान करने के लिए कहा गया है और सभी मंत्रालयों को अगले महीने से India@ 75 समारोह शुरू करने के लिए कहा गया है। इस सप्ताह से अंतर-मंत्रालयी बैठकें और समीक्षा बैठकें होंगी। सचिवों के समूह को गतिविधियों/इवेंट के लिए विस्तृत योजना तैयार करने और ७५ सप्ताह में से प्रत्येक के लिए एक साप्ताहिक विषय तैयार करने के लिए कहा गया है। सूचना और प्रसारण मंत्रालय जल्द ही समयसीमा के साथ इवेंट का एक कैलेंडर जारी करेगा। है।

सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग उच्च अनुसूचित जाति की आबादी वाले १०,०००  गाँवों में ‘मॉडल गाँव’ सुविधाएँ लाएगा। अल्पसंख्यक मंत्रालय जियारत और उमराह तीर्थयात्रियों को मक्का के अलावा पवित्र स्थलों के लिए हज समिति अधिनियम २००२ में संशोधन पर विचार करेगा। इसी अवधि में १०० शहरों में सीवर सफाई का पूर्ण मशीनीकरण किया जाएगा।
२०१५-१६ में किए गए 13 वादे होंगे पूरे
बजट २०१५-१६ १३ वादे हैं, जिन्हें देश की आजादी के ७५वें वर्ष यानी २०२२ के अमृत महोत्सव के दौरान पूरे किए जाएँगे। ये सभी वादे भी आत्मनिर्भरता के विजन के अनुरूप हैं। 
विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के अध्यक्ष प्रो. डी.पी. सिंह ने इस संबंध में राज्यों, विश्वविद्यालयों और सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को पत्र में लिखा है कि समारोह का शुभारंभ १५ अगस्त २०२२ से ७५ सप्ताह पूर्व यानी १२ मार्च २०२१ को प्रस्तावित है। इस दिन महात्मा गांधी के नेतृत्व में किए गए ऐतिहासिक ‘नमक सत्याग्रह’ की ९१वीं वर्षगांठ भी है। इसी के तहत आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी और देश के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ नामक कार्यक्रम १२ मार्च २०२१ से १५ अगस्त २०२२ तक चलेंगे।कार्यक्रम में भारत के अपरिचित स्थानों और स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान का उल्लेख किया जाएगा। सभी संस्थानों को इसके तहत योजना बनानी होगी। इसमें १९४७ की उपलब्धियों को कार्यक्रमों में शामिल कर २०४७ से जोड़ा जाएगा। समारोह के माध्यम से भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के योगदान की याद दिलाना और संबंधित अपरिचित स्थानों की छात्रों को जानकारी देना होगा। यह आयोजन हमारे देश की तकनीकी और वैज्ञानिक उपलब्धियों के प्रदर्शन के साथ सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों को भी देखेगा. यूजीसी ने कहा - कार्यक्रम में भारत के कुछ अज्ञात स्थानों और स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा किए गए योगदान पर प्रकाश डाला जाएगा। कालेज महोत्सव के अंतर्गत १९४७ के बाद से देश की उपलब्धियों को प्रदर्शित करने के लिए गतिविधियों का आयोजन करेंगे। उन स्वतंत्रता सेनानियों और स्थानों के योगदान की याद दिलाने के लिए समारोह आयोजित करेंगे जो अस्पष्टता में बने हुए हैं और उन्हेंं प्रचारित करें ताकि आम जनता को जागरूक किया जा सके।
भारत सरकार भारत ने अमृत महोत्सव के लिए एक लोगो डिजाइन प्रतियोगिता का आयोजन किया जिसमें २८ फरवरी भाग लेने की अंतिम तिथि थी. विजेताओं को पुरस्कार राशि में 1 लाख रुपये तक मिलेंगे.
मध्य प्रदेश लोक शिक्षण संचालनालय आयुक्त ने प्रदेश भर के स्कूलों में भारत की स्वतंत्रता के ७५ वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में 'आजादी का अमृत महोत्सव' आयोजन करने को लेकर आदेश जारी किया है. इस आदेश का पालन राज्य के सभी स्कूलों को करना होगा. सभी स्कूलों में संबंधित विभिन्न कार्यक्रम १५ अगस्त २०२२ के ७५ सप्ताह पूर्व प्रारंभ होंगे तथा १५ अगस्त २०१३ तक मनाए जाएंगे. सभी विद्यालयों एवं जिला पुस्तकालयों में १२ मार्च को लगभग १ घंटे का कार्यक्रम किया जाएगा. इन कार्यक्रम में किसी ज्ञानी वक्ता को आमंत्रित कर उन्हें १८५७ के स्वतंत्रता संग्राम से लेकर १९४७ में स्वतंत्रता प्राप्त तक उस जिले अथवा तहसील या ग्राम में जो घटनाएं हुई तथा स्थानीय नायक उभर कर आए उनके बारे में स्टूडेंट्स को बताया जाए. स्कूलों में "आजादी के अमृत महोत्सव" में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों पर प्रदर्शनियों/चलचित्र तथा निबंध लेखन, एकांकियों तथा स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित देश भक्ति गीतों का भी आयोजन किया जा सकता है. साथ ही अपने जिले अथवा आस पास के क्षेत्र के स्वतंत्रता संग्राम की जानकारी भी स्टूडेंट्स को विभिन्न माध्यमों से दी जाएगी. स्टूडेंट्स को इन योगदानों की जानकारी मिलने से उनके अंदर गौरव तथा प्रेरणा का भाव आएगा.विद्यालय प्रशासन को इन कार्यक्रमों का आयोजन कर उसका प्रतिवेदन और फोटो १५ मार्च तक ई-मेल आई.डी dpi75yearsuzadia gmail.com पर भेजने को कहा गया है. इस महोत्सव को मनाने के पीछेेे भारत को २०४७ के लिए एक दृष्टिकोण पैदा करना है। इसमें विभिन्न सामाजिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से देश को तकनीकी और वैज्ञानिक प्रगति को दर्शाया जाएगा।
मध्य प्रदेश लोक शिक्षण संचालनालय आयुक्त ने प्रदेश भर के स्कूलों में भारत की स्वतंत्रता के ७५ वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ आयोजन करने को लेकर आदेश जारी किया है. इस आदेश का पालन राज्य के सभी स्कूलों को करना होगा. सभी स्कूलों में संबंधित विभिन्न कार्यक्रम १५ अगस्त २०२२ के ७५ सप्ताह पूर्व प्रारंभ होंगे तथा १५ अगस्त २०१३ तक मनाए जाएंगे. आदेश के अनुसार, सभी विद्यालयों एवं जिला पुस्तकालयों में १२ मार्च को लगभग १ घंटे का कार्यक्रम किया जाएगा. इन कार्यक्रम में किसी ज्ञानी वक्ता को आमंत्रित कर उन्हें १८५७ के स्वतंत्रता संग्राम से लेकर १९४७ में स्वतंत्रता प्राप्त तक उस जिले अथवा तहसील या ग्राम में जो घटनाएं हुई तथा स्थानीय नायक उभर कर आए उनके बारे में छात्रों को बताया जाए.
स्कूलों में “आजादी के अमृत महोत्सव” में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों पर प्रदर्शनियों/चलचित्र तथा निबंध लेखन, एकांकियों तथा स्वतंत्रता संग्राम से संबंधित देश भक्ति गीतों का भी आयोजन किया जा सकता है. साथ ही अपने जिले अथवा आस पास के क्षेत्र के स्वतंत्रता संग्राम की जानकारी भी स्टूडेंट्स को विभिन्न माध्यमों से दी जाएगी. स्टूडेंट्स को इन योगदानों की जानकारी मिलने से उनके अंदर गौरव तथा प्रेरणा का भाव आएगा.विद्यालय प्रशासन को इन कार्यक्रमों का आयोजन कर उसका प्रतिवेदन और फोटो 15 मार्च तक ई-मेल आई.डी dpi75yearsuzadia gmail.com पर भेजने को कहा गया है.
जम्मू कश्मीर दे हर हिस्से च ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ दे सरबंधै च केंई भांती दे कार्यक्रम लौआये जांगन RNU Jammu भारत दी आजादी दे 75 ब‘रे पूरे होने सरबंधै च मनाये जा‘रदे ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ दियें तैयारियें दा जायजा लैने लेई लैफ्टिनेंट गवर्नर मनोज सिन्हा होरें कल इक बैठक सद्दी। इत्त सरबंधै च इस महिने दी 12 तारीख गी स्वतंत्रता सैनानियें ते शहीदें जिआं ब्रिगेडियर राजेंद्र सिंह, मकवूल शेरवानी हुंदी जन्म आहली थाहरें उप्पर केंई समारोह लौआये जांगन। इस मौके उप्पर लैफ्टिनेंट गवर्नर होरें सब्बने प्रशासनिक सचिवें गी हिदायतां दितियां जे ओ ‘आजादी का अमृत महोत्सव‘ गी लेईये प्रदेश दे सारे हिस्सें च केंई समारोह लौआये जाने गी यकीनी बनान। इस दरान केंई भांती दे कार्यक्रम जिआं नमैशा, रैलियां, सैमिनार ते होर केंई चाल्ली दे सांस्कृतिक कार्यक्रम लौआये जांगन।

शनिवार, 6 मार्च 2021

आओ! कविता करना सीखें १

आओ! कविता करना सीखें १
संजीव
यह स्तंभ उनके लिए है जो काव्य रचना करना बिलकुल नहीं जानते किन्तु कविता करना चाहते हैं। हम सरल से सरल तरीके से कविता के तत्वों पर प्रकाश डालेंगे। जिन्हें रूचि हो वे अपने नाम सूचित कर दें। केवल उन्हीं की शंकाओं का समाधान किया जाएगा जो गंभीर व नियमित होंगे। जानकार और विद्वान साथी इससे जुड़कर अपने समय का अपव्यय न करें।
*
कविता क्यों?
अपनी अनुभूतियों को विचारों के माध्यम से अन्य जनों तक पहुँचाने की इच्छा स्वाभाविक है। सामान्यत: बातचीत द्वारा यह कार्य किया जाता है। लेखक गद्य (लेख, निबंध, कहानी, लघुकथा, व्यंग्यलेख, संस्मरण, लघुकथा आदि) द्वारा, कवि पद्य (गीत, छंद, कविता आदि) द्वारा, गायक गायन के माध्यम से, नर्तक नृत्य द्वारा, चित्रकार चित्रों के माध्यम से तथा मूर्तिकार मूर्तियों के द्वारा अपनी अनुभूतियों को अभिव्यक्त करते हैं। यदि आप अपने विचार व्यक्त करना नहीं चाहते तो कविता करना बेमानी है। 
कविता क्या है?
मानव ने जब से बोलना सीखा, वह अपनी अनुभूतियों को इस तरह अभिव्यक्त करने का प्रयास करता रहा कि वे न केवल अन्यों तक संप्रेषित हों अपितु उसे और उन्हें दीर्घकाल तक स्मरण रहें। इस प्रयास ने भाषिक प्रवाह संपन्न कविता को जन्म दिया। कविता में कहा गया कथ्य गद्य की तुलना में सुबोध और सहज ग्राह्य होता है। इसीलिये माताएँ शिशुओं को लोरी पहले सुनाती हैं, कहानी बाद में। अबोध शिशु न तो भाषा जानता है न शब्द और उनके अर्थ तथापि माँ के चेहरे के भाव और अधरों से नि:सृत शब्दों को सुनकर भाव हृदयंगम कर लेता है और क्रमश: शब्दों और अर्थ से परिचित होकर बिना सीखे भाषा सीख लेता है। 
आचार्य विश्वनाथ के अनुसार 'वाक्यम् रसात्मकं काव्यम्' अर्थात रसमय वाक्य ही कविता है। पंडितराज जगन्नाथ कहते हैं, 'रमणीयार्थ-प्रतिपादकः शब्दः काव्यम्' यानि सुंदर अर्थ को प्रकट करनेवाली रचना ही काव्य है। पंडित अंबिकादत्त व्यास का मत है, 'लोकोत्तरानन्ददाता प्रबंधः काव्यानाम् यातु' यानि लोकोत्तर आनंद देने वाली रचना ही काव्य है। आचार्य भामह के मत में "शब्दार्थौ सहितौ काव्यम्" अर्थात कविता शब्द और अर्थ का उचित मेल" है। 
आचार्य रामचंद्र शुक्ल के अनुसार ''जब कवि 'भावनाओं के प्रसव' से गुजरते हैं, तो कविताएँ प्रस्फुटित होती हैंं।'' महाकवि जयशंकर प्रसाद ने सत्य की अनुभूति को ही कविता माना है।
मेरे विचार में कवि द्वारा अनुभूत सत्य की शब्द द्वारा सार्थक-संक्षिप्त लयबद्ध अभिव्यक्ति कविता है। कविता का गुण गेयता मात्र नहीं अपितु वैचारिक संप्रेषणीयता भी है। कविता देश, काल, परिस्थितियों, विषय तथा कवि के अनुसार रूप-रंग आकार-प्रकार धारण कर जन-मन-रंजन करती है।
कविता के तत्व 
विषय 
कविता करने के लिए पहला तत्व विषय है। विषय न हो तो आप कुछ कह ही नहीं सकते। आप के चारों और दिख रही वस्तुएँ प्राणी आदि, ऋतुएँ, पर्व, घटनाएँ आदि विषय हो सकते हैं। 
विचार 
विषय का चयन करने के बाद उसके संबंध में अपने विचारों पर ध्यान दें। आप विषय के संबंध में क्या सोचते हैं? विचारों को मन में एकत्र करें। 
अभिव्यक्ति 
विचारों को बोलकर या लिखकर व्यक्त किया जा सकता है। इसे अभिव्यक्त करना कहते हैं।जब विचारों को व्याकरण के अनुसार वाक्य बनाकर बोला या लिखा जाता है तो उसे गद्य कहते हैं। जब विचारों को छंद शास्त्र के नियमों के अनुसार व्यक्त किया जाता है तो कविता जन्म लेती है। 
लय 
कविता लय युक्त ध्वनियों का समन्वय-सम्मिश्रण करने से बनती है। मनुष्य का जन्म प्रकृति की गोद में हुआ। मनुष्य की ज्ञानेन्द्रियाँ प्रकृति के उपादानों के साहचर्य में विकसित हुई हैं। प्रकृति में बहते पानी की कलकल, पक्षियों का कलरव, मेघों का गर्जन, बिजली की तडकन, सिंह आदि की दहाड़, सर्प की फुफकार, भ्रमर की गुंजार आदि में ध्वनियों तथा लय खण्डों की विविधता अनुभव की जा सकती है। पशु-पक्षियों की आवाज सुनकर आप उसके सुख या दुःख का अनुमान कर सकते हैं। माँ शिशु के रोने से पहचान जाती है कि वह भूखा है या उसे कोई पीड़ा है।
कविता और लोक जीवन 
कविता सामान्य जान द्वारा अपने विचारों और अनुभूतियों को लयात्मकता के साथ व्यक्त करने से उपजाति है। कविता करने के लिए शिक्षा नहीं समझ आवश्यक है। कबीर आदि अनेक कवि निरक्षर थे। शिक्षा काव्य रचना में सहायक होती है। शिक्षित व्यक्ति को भाषा के व्याकरण व् छंद रचना के नियमों की जानकारी होती है। उसका शब्द भंडार भी अशिक्षित व्यक्ति की  तुलना में अधिक होता है। इससे उसे अपने विचारों को बेहतर तरीके से अभिव्यक्त करने में आसानी होती है। 
आशु कविता 
ग्रामीण जन अशिक्षित अथवा अल्प शिक्षित होने पर भी लोक गीतों की रचना कर लेते हैं। खेतों में मचानों पर खड़े कृषक फसल की रखवाली करते समय अकेलापन मिटाने के लिए शाम के सुनसान सन्नाटे को चीरते हुए गीत गाते हैं। एक कृषक द्वारा गाई गई पंक्ति सुनकर दूर किसी खेत में खड़ा कृषक उसकी लय ग्रहण कर अन्य पंक्ति गाता है और यह क्रम देर रात  रहता है। वे कृषक एक दूसरे को नहीं जानते पर गीत की कड़ी जोड़ते जाते हैं। बंबुलिया एक ऐसा ही लोक गीत है। होली पर कबीरा, राई, रास आदि भी आकस्मिक रूप से रचे और गाए जाते हैं। इस तरह बिना पूर्व तैयारी के अनायास रची गई कविता आशुकविता कहलाती है। ऐसे कवी को आशुकवि कहा जाता है। 
कविता करने की प्रक्रिया 
कविता करने के लिए विषय का चयन कर उस पर विचार करें। विचारों को किसी लय में पिरोएँ। पहली पंक्ति में ध्वनियों के उतार-चढ़ाव को अन्य पंक्तियों में दुहराएँ। 
अन्य विधि यह कि पूर्व ज्ञान किसी धुन या गीत को गुनगुनाएँ और उसकी लय में अपनी बात कहने का प्रयास करें। ऐसा करने के लिए मूल गीत के शब्दों को समान उच्चारण शब्दों से बदलें। इस विधि से पैरोडी (प्रतिगीत) बनाई जा सकती है। 
हमने बचपन में एक बाल गीत मात्राएँ सीखते समय पढ़ा था। 
राजा आ राजा।  
मामा ला बाजा।।  
कर मामा ढमढम। 
नाच राजा छमछम।।  
अब इस गीत का प्रतिगीत बनाएँ -
गोरी ओ गोरी।  
तू बाँकी छोरी।। 
चल मेले चटपट।  
खूब घूमें झटपट।।
लोकगीतों और भजनों की लय का अनुकरण कर प्रतिगीत की रचना करना आसान है। 
*                                                                      

भजन शांति देवी वर्मा

मातुश्री स्व. शांति देवी रचित एक भजन 
गिरिजा कर सोलह सिंगार
*
गिरिजा कर सोलह सिंगार
चलीं शिव शंकर हृदय लुभांय...

माँग में सेंदुर, भाल पे बिंदी,
नैनन कजरा लगाय.
वेणी गूँथ मोतियन के संग,
चंपा-चमेली महकाय.
गिरिजा कर सोलह सिंगार...

बाँह बाजूबंद, हाथ में कंगन,
नौलखा हार सुहाय.
कानन झुमका, नाक नथनिया,
बेसर हीरा भाय.
गिरिजा कर सोलह सिंगार...

कमर करधनी, पाँव पैजनिया,
घुँघरू रतन जडाय.
बिछिया में मणि, मुंदरी मुक्ता,
चलीं कमर बल खाय.
गिरिजा कर सोलह सिंगार...

लँहगा लाल, चुनरिया पीली,
गोटी-जरी लगाय.
ओढे चदरिया पञ्च रंग की ,
शोभा बरनि न जाय.
गिरिजा कर सोलह सिंगार...

गज गामिनी हौले पग धरती,
मन ही मन मुसकाय.
नत नैनों मधुरिम बैनों से
अनकहनी कह जांय.
गिरिजा कर सोलह सिंगार...

**********

दोहा-दोहा अलंकार

दोहा-दोहा अलंकार

*
होली हो ली अब नहीं, होती वैसी मीत
जैसी होली प्रीत ने, खेली कर कर प्रीत
*
हुआ रंग में भंग जब, पड़ा भंग में रंग
होली की हड़बोंग है, हुरियारों के संग
*
आराधा चुप श्याम को, आ राधा कह श्याम
भोर विभोर हुए लिपट, राधा लाल ललाम
*
बजी बाँसुरी बेसुरी, कान्हा दौड़े खीझ
उठा अधर में; अधर पर, अधर धरे रस भीज
*
'दे वर' देवर से कहा, कहा 'बंधु मत माँग,
तू ही चलकर भरा ले, माँग पूर्ण हो माँग
*
'चल बे घर' बेघर कहे, 'घर सारा संसार'
बना स्वार्थ दे-ले 'सलिल', जो वह सच्चा प्यार
*
जितनी पायें; बाँटिए, खुशी आप को आप।
मिटा संतुलन अगर तो, होगा पश्चाताप।।
*
संजीव

हिंदी ग़ज़ल

मुक्तिका 
हिंदी ग़ज़ल इसने पढ़ी
फूहड़ हज़ल उसने गढ़ी
बेबात ही हर बात क्यों
सच बोल संसद में बढ़ी?
कुछ दूर तुम, कुछ दूर हम
यूँ बेल नफरत की चढ़ी
डालो पकौड़ी प्रेम की
स्वादिष्ट हो जीवन-कढ़ी
दे फतह ठाकुर श्वास को
हँस आस ठकुराइन गढ़ी
कोशिश मनाती जीत को
माने न जालिम नकचढ़ी
***
संजीव
६-३-२०२०
९४२५१८३२४४

हास्य मुक्तिका होली में नायिका

हास्य मुक्तिका 
होली में नायिका 
*
फागुन में सावन सी बारिश नशीली है  
नायिका को ढाँक-दिखा चोली भी रंगीली है
लाल लाल गाल या टमाटर की जैली है 
नायिका की नाक पीली लगे ज्यों पकौड़ी है   
काली भौंह तान ताक नैन बान मार रही 
नायक को खोज रही आँख सपनीली है
हाथ में गुलाल लाल ले झपट लपटती 
साँवरे की बावरी की हुई ठोड़ी नीली है
श्वेत केश श्याम हुए, छैला बदनाम हुए
साठवाली लग रही, सोलह की छोरी है
छेड़ रही सखी संग, नायक हुआ है तंग
दाँव-पेंच दिखा, रिझा खिजा, बनी भोली है





समीक्षा प्यास के हिरन, बंधु

कृति चर्चा:
प्यास के हिरन : नवगीत की ज्योतित किरण
चर्चाकार: आचार्य संजीव वर्मा ‘सलिल’
[कृति विवरण:प्यास के हिरन, राधेश्याम बंधु, आकार डिमाई, आवरण सजिल्द, बहुरंगी, वर्ष १९९८, पृष्ठ ९४, मूल्य ४०/-, प्रकाशक पराग दिल्ली, नवगीतकार संपर्क:९८६८४४४६६६, rsbandhu2 @gmail.com]
मानवीय सभ्यता के विकास के साथ ध्वनियों की पहचान, इनमें अन्तर्निहित संवेदनाएँ. इनकी पुनर्प्रस्तुति, इनके विविध संयोजन और उनके अर्थ, संवेदनाओं को व्यक्त करते शब्द, शब्द समुच्चयों के आरोह-अवरोह और उनसे अभिव्यक्त होती भावनायें, छलकती सरसता क्रमशः लोकगीतों का रूप लेती गयी. सुशिक्षित अभिजात्य वर्ग में रचनाओं के विधान निश्चित करने की चेतना ने गीतों और गीतों में छांदस अनुशासन, बिम्ब, प्रतीकों और शब्दावली परिवर्तन की चाह के द्वार पर आ खड़ी हुई है.
नवगीतों और छंदानुशासन को सामान कुशलता से साध सकने की रूचि, सामर्थ्य और कौशल जिन हस्ताक्षरों में है उनमें से एक हैं राधेश्याम बंधु जी. बंधु जी का नवगीत संकलन प्यास के हिरन के नवगीत मंचीय दबावों में अधिकाधिक व्यावसायिक होती जाती काव्याभिव्यक्ति के कुहासे में सांस्कारिक सोद्देश्य रचित नवगीतों की अलख जगाता है. नवगीतों को लोक की अभिव्यक्ति का माध्यम माननेवालों में बंधु जी अग्रणी हैं. वे भाषिक और पिन्गलीय विरासत को अति उदारवाद से दूषित करने को श्रेयस्कर नहीं मानते और पारंपरिक मान्यताओं को नष्ट करने के स्थान पर देश-कालानुरूप अपरिहार्य परिवर्तन कर लोकोपयोगी और लोकरंजनीय बनाने के पथ पर गतिमान हैं.
बंधु जी के नवगीतों में शब्द-अर्थ की प्रतीति के साथ लय की समन्विति और नादजनित आल्हाद की उपस्थिति और नियति-प्रकृति के साथ अभिन्न होती लोकभावनाओं की अभिव्यक्ति का मणिकांचन सम्मिलन है. ख्यात समीक्षक डॉ. गंगा प्रसाद विमल के अनुसार’ बंधु जी में बडबोलापन नहीं है. उनमें रूपक और उपमाओं के जो नये प्रयोग मिलते हैं उनसे एक विचित्र व्यंग्य उभरता है. वह व्यंग्य जहाँ स्थानिक संबंधों पर प्रहार करता है वहीं वह सम्पूर्ण व्यवस्था की विद्रूपता पर भी बेख़ौफ़ प्रहार करता है. बंधु जी पेशेवर विद्रिही नहीं हैं, वे विसंगत के प्रति अपनी असहमति को धारदार बनानेवाले ऐसे विद्रोही हैं जिसकी चिंता सिर्फ आदमी है और वह आदमी निरंतर युद्धरत है.’
प्यास के हिरन (२३ नवगीत), रिश्तों के समीकरण (२७ नवगीत) तथा जंग जारी है (७ नवगीत) शीर्षक त्रिखंदों में विभक्त यह नवगीत संकलन लोक की असंतुष्टि, निर्वाह करते रहने की प्रवृत्ति और अंततः परिवर्तन हेतु संघर्ष की चाह और जिजीविषा का दस्तावेज है. ये गीति रचनाएँ न तो थोथे आदर्श का जय घोष करती है, न आदर्शहीन वर्तमान के सम्मुख नतमस्तक होती हैं, ये बदलाव की अंधी चाह की मृगतृष्णा में आत्माहुति भी नहीं देतीं अपितु दुर्गन्ध से जूझती अगरुबत्ती की तरह क्रमशः सुलगकर अभीष्ट को इस तरह पाना चाहती हैं कि अवांछित विनाश को टालकर सकल ऊर्जा नवनिर्माण हेतु उपयोग की जा सके. 

बाजों की / बस्ती में, धैर्य का कपोत फँसा / गली-गली अट्टहास, कर रहे बहेलिये, आदमकद / टूटन से, रोज इस तरह जुड़े / सतही समझौतों के प्यार के लिए जिए, उत्तर तो / बहरे हैं, बातूनी प्रश्न, / उँगली पर ठहर गये, पर्वत से दिन, गुजरा / बंजारे सा एक वर्ष और, चंदा तो बाँहों में / बँध गया, किन्तु लुटा धरती का व्याकरण, यह घायल सा मौन / सत्य की पाँखें नोच रहा है, आदि-आदि पंक्तियों में गीतकार पारिस्थितिक वैषम्य और विडम्बनाओं के शब्द चित्र अंकित करता है.
साधों के / कन्धों पर लादकर विराम / कब तक तम पियें, नये सूरज के नाम?, ओढ़ेंगे / कब तक हम, अखबारी छाँव?, आश्वासन किस तरह जिए?, चीर हरणवाले / चौराहों पर, मूक हुआ क्यों युग का आचरण?, आश्वासन किस तरह जिए? / नगरों ने गाँव डंस लिये, कल की मुस्कान हेतु / आज की उदासी का नाम ताक न लें?, मैंने तो अर्पण के / सूर्य ही उगाये नित / जाने क्यों द्विविधा की अँधियारी घिर आती, हम उजाले की फसल कैसे उगाये?, अपना ही खलिहान न देता / क्यों मुट्ठी भर धान, जैसी अभिव्यक्तियाँ जन-मन में उमड़ते उन प्रश्नों को सामने लाती हैं जो वैषम्य के विरोध की मशाल बनकर सुलगते ही नहीं शांत मन को सुलगाकर जन असंतोष का दावानल बनाते हैं.
जो अभी तक / मौन थे वे शब्द बोलेंगे / हर महाजन की बही का भेद खोलेंगे, धूप बनकर / धुंध में भी साथ दो तो / ज़िन्दगी का व्याकरण कुछ सरल हो जाए, बाबा की अनपढ़ / बखरी में शब्दों का सूरज ला देंगे, अनब्याहे फासले / ममता की फसलों से पाटते चलो, परिचय की / शाखों पर, संशय की अमरबेल मत पालो, मैं विश्वासों को चन्दन कर लूँगा आदि में जन-मन की आशा-आकांक्षा, सपने तथा विश्वास की अभिव्यक्ति है. यह विश्वास ही जनगण को सर्वनाशी विद्रोह से रोककर रचनात्मक परिवर्तन की ओर उन्मुख करता है. क्रांति की भ्रान्ति पालकर जीती प्रगतिवादी कविता के सर्वथा विपरीत नवगीत की यह भावमुद्रा लोक की, लोक के द्वारा, लोक के लिये सक्षम व्यवस्था का आव्हान करती है.
बंधु जी के नवगीत सरस श्रृंगार-सलिला में अवगाहन करते हुए मनोरम अभिव्यक्तियों से पाठक का मन मोहने में समर्थ हैं. यादों के / महुआ वन, तन-मन में महक उठे / आओ! हम बाँहों में, गीत-गीत हो जायें, तुम महकते द्वीप की मुस्कान / हम भटकते प्यार के जलयान / क्यों न हम-तुम मिल, छुअन के छंद लिख डालें? क्यों न आदिम गंध से, अनुबंध लिख डालें, आओ, हँ-तुम मिल / प्यार के गुणकों से / रिश्तों के समीकरण, हल कर लें, दालानों की / हँसी खनकती, बाजूबंद हुई / आँगन की अठखेली बोली, नुपुर छंद हुई, चम्पई इशारों से / लिख-लिख अनुबंध / एक गंध सौंप गयी, सौ-सौ सौगंध, खिड़की में / मौलश्री, फूलों का दीप धरे / कमरे का खालीपन, गंध-गीत से भरे, नयनों में / इन्द्रधनुष, अधरोंपर शाम / किसके स्वागत में ये मौसमी प्रणाम? जैसी मादक-मदिर अभिव्यक्तियाँ किसके मन को न मोह लेंगी?
बंधु जी का वैशिष्ट्य सहज-सरल भाषा और सटीक शब्दों का प्रयोग है. वे न तो संस्कृतनिष्ठता को आराध्य मानते हैं, न भदेसी शब्दों को ठूँसते हैं, न ही उर्दू या अंग्रेजी के शब्दों की भरमार कर अपनी विद्वता की धाक जमाते हैं. इस प्रवृत्ति के सर्वथा विपरीत बंधु जी नवगीत के कथ्य को उसके अनुकूल शब्द ही नहीं बिम्ब और प्रतीक भी चुनने देते हैं. उनकी उपमाएँ और रूपक अनूठेपन का बना खोजते हुए अस्वाभाविक नहीं होते. धूप-धिया, चितवन की चिट्ठी, याद की मुंडेरी, शतरंजी शब्द, वासंती सरगम, कुहरे की ओढ़नी, रश्मि का प्रेमपत्र आदि कोमल-कान्त अभिव्यक्तियाँ नवगीत को पारंपरिक वीरासा से अलग-थलग कर प्रगतिवादी कविता से जोड़ने के इच्छुक चंद जनों को भले ही नाक-भौं चढ़ाने के लिये विवश कर दे अधिकाँश सुधि पाठक तो झूम-झूम कर बार-बार इनका आनंद लेंगे.
नवगीत लेखन में प्रवेश कर रहे मित्रों के लिए यह नवगीत संग्रह पाठ्य पुस्तक की तरह है. हिंदी गीत लेखन में उस्ताद परंपरा का अभाव है, ऐसे संग्रह एक सीमा तक उस अभाव की पूर्ति करने में समर्थ हैं.
रिश्तों के इन्द्रधनुष, शब्द पत्थर की तरह आदमी की भीड़ में शीर्षक ३ मुक्तिकाएँ (हिंदी गज़लें) तथा आदमी शीर्षक एकमात्र मुक्तक की उपस्थिति चौंकाती है. इसने संग्रह की शोभा नहीं बढ़ती. तमसा के तट पर, मेरा सत्य हिमालय पर नवगीत अन्य सम्मिलित नवगीतों की सामान्य लीक से हटकर हैं. सारतः यह नवगीत संग्रह बंधु जी की सृजन-सामर्थ्य का जीवंत दस्तावेज होने के साथ-साथ आम पाठक के लिये रस की गागर भी है. ***