रविवार, 24 दिसंबर 2017

शुभ कामना

सुजाता का हाथ थामे,
ललित चल जीवन सफ़र पर,
अग्र हैं,
वैभव मिले हर
शिखा दे घर खुशी से भर.
तरुण सपने लिए सौरभ
मधु मिठाई ला खिलाए.
प्रिय! जियो शत वर्ष हँसकर
कीर्ति-यश दस दिशा गाए.
.

कोई टिप्पणी नहीं: