मंगलवार, 26 दिसंबर 2017

दोहा दुनिया

शिव करते कल्याण हँस
शिवा करें मांगल्य.
शिव-तनया आनंद दे,
तारें हर वैकल्य.
.
शिव सत्ता वरते नहीं,
रहें लोक के साथ.
अजर-अमर होते हुए,
हैं मर्त्यों के नाथ.
.
लोक नाथ हैं सदाशिव,
करें शोक का नाश.
शंख बजा, बम-बम कहो,
कटे अमंगल-पाश.
.
हर हरते हैं कष्ट हर,
तजें नहीं मुख मोड़.
बिना कामना भज सलिल,
भक्ति-भाव मत छोड़.
.
भूत अभूत प्रभूत तप,
तापस शिव-तल्लीन.
शिवा तापसी सर्वदा,
शिव हैं उनमें लीन.
.
नीर-क्षीर हैं शिव-शिवा,
राग-द्वेष से मुक्त.
निर्मल-मन शिव-भक्ति कर,
हो हंसा उन्मुक्त.
.
कंकर-पत्थर ज्यों बनें,
घिस-घिस कर शिवलिंग.
त्यों शिव-शिव जप नित सलिल,
जुड़ जाए शिव-लिंक.
...
26.12.2017

कोई टिप्पणी नहीं: