रविवार, 24 दिसंबर 2017

दोहा दुनिया

शिव ने विष पीकर किया,
त्रिभुवन का कल्याण.
सुर नर असुरों को मिला,
भव-बाधा से त्राण.
.
ज़हर कंठ में रोककर,
नीलकंठ पा नाम.
अमर हो गए सदाशिव,
अग-जग करे प्रणाम.
.
ज़हर-ज़हर को काटता,
नीलकंठ में नाग.
नाच-नाच फ़ुन्फ़कारता,
उगल-शांत कर आग.
.
कुंडलिनी के चक्र हों,
जागृत अपने आप.
नाग कुंडली मारकर,
करता शिव-शिव जाप.
.
विषधर विष तज शिव भजे,
पूजें सुर नर नित्य.
अमृत बाँटे शशि पुजे,
शिवा अनादि-अनित्य.
.
नागपंचमी पर पुजे,
नित घर-घर में नाग.
विष-अमृत के मेल से,
जीवन में हो राग.
.
23.12.2017

कोई टिप्पणी नहीं: