शनिवार, 20 जनवरी 2018

doha shatak: arun arnav khare


दोहा शतक: अरुण अर्णव खरे
अरुण अर्णव खरे















आत्मज: स्व. गयाप्रसाद खरे
शिक्षा: बी.ई. यांत्रिकी
संप्रति: सेवा निवृत्त मुख्य अभियंता, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग मध्य प्रदेश।


संपर्क: डी-१/३५ दानिश नगर, होशंगाबाद मार्ग, भोपाल म०प्र० ४६२०२६
चलभाष: ९८९३००७७४४ , ई मेल: arunarnaw@gmail.com
*
पता नहीं किस देव का, ऐसा है अभिशाप। खेल करोड़ों में रहे, नेता पैसा छाप
* असंतुष्ट हैं सब यहाँ, क्या किसान, क्या छात्र संवेदी सरकार है, करती वादे मात्र * पुत्र हुआ सरपंच का, फिर दसवीं में फेल
ख़ास योग्यता खेलता, राजनीति के खेल * टिकट उसे ही मिल गया, देखा-समझ रिज्यूम रेप, घूस का अनुभवी, खाते में दो खून * गया रामलीला किया, लछमन जी का रोल था अपात्र अब हो गया, वह नेता अनमोल | * जनमेजय के यज्ञ से, बचे रहे जो नाग अब कुर्सी पर बैठकर, उगल रहे हैं आग * बिगुल चुनावी क्या बजा, लगें नित्य आरोप मन व्याकुल है देखकर, मर्यादा का लोप * लाई है ऋतु चुनावी, आरोपों की बाढ़ झूठ बोलते ना दुखे, नेताओं की दाढ़ * नेता जी हैरान हैं, सख्त बड़ा आयोग। कम्बल, दारू सब रखे, कैसे हो उपयोग? * जनसेवा चर्चित हुई, मंत्री की श्रीमान। साले जी को मिल गईं, सारी रेत खदान
* पूस-अंत की सुबह के, अलबेले हैं ढंग। सूरज है निस्तेज सा, कुहरा हुआ दबंग।। * सूरज काँपर ठण्ड से, कुहरा ओढ़े भोर। हवा तीर जैसी रही, अंदर तक झकझोर।। * शरद हमेशा की तरह, लाया है सौगात। जलतरंग सी नासिका, किट-किट करते दाँत।। * आँखें मलता रवि उगा, ले अलसाई धूप। ठिठुर-ठिठुर छाया हुई, कुबड़ी और कुरूप।। * दूभर सूरज का दरस, पारा जीरो पास। हम अपने घर ही सिमट, भोग रहे बनवास।। * कहो कहाँ प्रियतम खड़े, कुहरा है घनघोर। आँखें मल-मल देखते, चले नहीं कछु जोर।। * जलती रही अलाव में, ठण्डी-ठण्डी आग। जाड़ा-जाड़ा मन जपे, तन ने लिया बिराग।। * प्रियतम दूर, न आ रहे, आती उनकी याद। धुआँ-धुआँ सब शब्द हैं, कैसे हो संवाद।। * पूस अंत की सुबह का, धूसर-धूसर रंग। पाखी बैठे घोंसले, कैसे हो सत्संग।। * सहमा सूरज झाँकता, नभ से कम्बल ओढ़। सर्द हवाओं से किया, उसने ज्यों गठजोड़
* आभासी रिश्ते हुए, अपनेपन से दूर। लाइक गिन दिन कट रहे, हैं इतने मजबूर।। * जलता रावण कह रहा, सुन लो मेरा हाल। क़द मेरा दो चार फ़ुट, बढ़ जाता हर साल
* राम नाम रखकर करें, रावण जैसे काम। चाहे रामरहीम हों, चाहे आसाराम
* जलता रावण पूछता, बतलाओ हे राम! क्या कलयुग में फूँकना, पुतले केवल काम।। * अटारियाँ ऊँची हुईं, फक्कड़ रहे कबीर। लेशमात्र बदली नहीं, होरी की तक़दीर।। * काला धन आया नहीं, इसका सबको खेद। माल्या लेकर उड़ गया, सारा माल सफ़ेद
* संत कलंकित कर रहे, हम सबका संसार। त्याग-तपस्ता भूलकर, करते यौनाचार।। * समरसता के पथ चले, ना विकास के पाँव। होरी की है झोपड़ी, अब तक बाहर-गाँव।। * विनती राजन आपसे, करो निरंकुश राज। बस हमको मिलती रहे, सूखी-रोटी प्याज।। * चौंसठ खानों में छुपा, राजनीति का सार। नेताओं ने सीख लीं, चालें कई हजार
* रँगने को लाया तुम्हें, भाँति-भाँति के रंग। बचा सको तो लो बचा, अपने अंग अनंग
* अंदर-बाहर रँग दिया, होली में इस बार। मन बस से बाहर हुआ, कौन करे उपचार
* मुट्ठी लगे गुलाल ने, जोड़े मन के तार। बाँध गया सत जन्म को, होली का त्योहार
* पाती लिखी बसंत ने, जब गुलशन के नाम। माली को करने लगे, भौंरे भी परनाम
* पहली-पहली फाग का, अनुपम है उल्लास। नैन हुए कचनार से, अधरों खिले पलास।।
* फूलों की वेणी पहिन, पायल बाँधे पाँव। पूछे पता बसंत का, फागुन आकर गाँव
* रितु बसंत प्रिय दूर तो, मन है बड़ा उदास। हरसिंगार खिल यों लगे, उड़ा रहा उपहास।। * फूलों के घर आ गई, खुशबू लेकर डाक। लगीं तितलियाँ झूमने, बदल-बदल कर फ्रॉक।। * बाँचें गीत गोविंद जू, ढोलक देती थाप। फागुन लेकर आ गया, घर उमंग चुपचाप। * पोर-पोर खुशबू लिए, भीनी-भीनी छाँव। सिर महुए के घट धरे, फागुन आया गाँव।। *
होरी-धनिया हैं दुखी, बिटिया हुई सयान। घात लगाकर हैं खड़े, लोमड़, गीदड़, श्वान।। * पटवारिन की छोकरी, मिर्ची तीखी-लाल। चर्चा उसकी हर तरफ, गाँव, गली, चौपाल
*
दिल में करुणा प्रेम है, अधरों पर मुस्कान
मेरी इस संसार में, बस इतनी पहिचान
*
शेर लिखे मैंने बहुत, हो मस्ती में चूर
तुम्हें देखकर जो लिखे, हुए वही मशहूर
*
वेद-पुराण पढ़े मगर, रहा अधूरा ज्ञान
तुमसे मिलकर ही मिली, दुनिया में पहिचान
*
भावहीन सब शब्द हैं, बुझे-बुझे से गीत
इसका कारण एक ही, तुमसे दूरी मीत
*
बिन बोले मनुहार का, ऐसे दिया जवाब
नजर चुराई लाज से, गालों खिले गुलाब
*
साँस-साँस केसर घुली, अंग-अंग मकरंद
अनपढ़ मन कहने लगा, गीत, गजल, नव छंद
*
अधिक और भी खिल गई, पूनम की वह रात
होंठ दबा जब बोल दी, उनने मन की बात
*
केन नदी के तट मिला, अनुपम उनका साथ
बिन बोले बस देखते, बीती सारी रात
*
कहो इसे दीवानगी, या सच्चा अनुराग
उनकी मृदु मुस्कान पर, हमने लिखी किताब
*
सुंदर सारा जग लगे, मन में जागे प्रीत
हारे दिल फिर भी लगे, मिली निराली जीत
*
उपवन, मौसम, चाँदनी, तुमसे मेरे छंद
तुमसे अधरों पर हँसी, तुमसे सब आनंद
*
सात समंदर पार वे, करो सखी उपचार
होरी-फागें बाँचता, फागुन आया द्वार
*
साँस-साँस केसर घुली, अंग-अंग मकरंद
अनपढ़ मन की बात भी, लगती है गुलकंद
*
जवाकुसुम सा रूप है, वाणी घुली मिठास।
तन चंदन-तरु सुवासित, मन में हुआ उजास
*
बारिश की पहली झड़ी, हुआ विरोधाभास
धरती का ज्वर कम करे, देह तपे आभास
*
पानी लेकर आ गए, कारे-कारे मेघ
खेतों में हलधर लिखें, ले हल नव आलेख
*
सबको बारिश कर गई, इतना मालामाल
सूखी नदिया बाह चली, हुए लबालब ताल
*
जेठ माह में देखिये, कैसा है अंधेर
लगे सुबह से घूरने, सूरज आँख तरेर
*
भ्रमर, सुरभि, कोयल, कुसुम, हैं ये सभी गवाह
तुम मस्ती में जब चलीं, मौसम भटका राह
*
सूरज पानी ले उड़ा, किया नहीं संकोच
पानी हमसे माँगती, गौरैया की चोंच
*

***********

कोई टिप्पणी नहीं: