रविवार, 7 जनवरी 2018

doha gatha sanatan 1

पाठ १ : दोहा गाथा सनातन


दोहा गाथा सनातन, शारद कृपा पुनीत.
साँची साक्षी समय की, जनगण-मन की मीत.

हिन्दी ही नहीं सकल विश्व के इतिहास में केवल दोहा सबसे पुराना छंद है जिसने एक नहीं अनेक बार युद्धों को रोका है, नारी के मान-मर्यादा की रक्षा की है, भटके हुओं को रास्ता दिखाया है, देश की रक्षा की है, हिम्मत हार चुके राजा को लड़ने और जीतने का हौसला दिया है, बीमारियों से बचने की राह सुझाई है और जिंदगी को सही तरीके से जीने का तरीका ही नहीं बताया भगवान के दर्शन कराने में भी सहायक हुआ है. आप इसे दोहे की अतिरेकी प्रशंसा मत मानिये. हम इस दोहा गोष्ठी में न केवल कालजयी दोहाकारों और उनके दोहों से मिलेंगे अपितु दोहे की युग परिवर्तनकारी भूमिका के साक्षी बनकर दोहा लिखना भी सीखेंगे. 

अमरकंटकी नर्मदा, दोहा अविरल धार.
गत-आगत से आज का, सतत ज्ञान व्यापार. 

आप यह जानकर चकित होंगे कि जाने-अनजाने आप दैनिक जीवन में कई बार दोहे कहते-सुनते हैं. आप में से हर एक को कई दोहे याद हैं. हम दोहे के रचना-विधान पर बात करने के पहले दोहा-लेखन की कच्ची सामग्री अर्थात हिन्दी के स्वर-व्यंजन, मात्रा के प्रकार तथा मात्रा गिनने का तरीका, गण आदि की जानकारी को ताजा करेंगे. बीच-बीच में प्रसंगानुसार कुछ नए-पुराने दोहे पढ़कर आप ख़ुद दोहों से तादात्म्य अनुभव करेंगे. 

कल का कल से आज ही, कलरव सा संवाद.
कल की कल हिन्दी करे, कलकल दोहा नाद. 

(कल = बीता समय, आगामी समय, शान्ति, यंत्र)

भाषा :
अनुभूतियों से उत्पन्न भावों को अभिव्यक्त करने के लिए भंगिमाओं या ध्वनियों की आवश्यकता होती है. भंगिमाओं से नृत्य, नाट्य, चित्र आदि कलाओं का विकास हुआ. ध्वनि से भाषा, वादन एवं गायन कलाओं का जन्म हुआ.

चित्र गुप्त ज्यों चित्त का, बसा आप में आप.
दोहा सलिला निरंतर करे अनाहद जाप. 

भाषा वह साधन है जिससे हम अपने भाव एवं विचार अन्य लोगों तक पहुँचा पाते हैं अथवा अन्यों के भाव और विचार गृहण कर पाते हैं. यह आदान-प्रदान वाणी के माध्यम से (मौखिक) या लेखनी के द्वारा (लिखित) होता है. 

निर्विकार अक्षर रहे मौन, शांत निः शब्द 
भाषा वाहक भाव की, माध्यम हैं लिपि-शब्द.

व्याकरण ( ग्रामर ) - 

व्याकरण ( वि + आ + करण ) का अर्थ भली-भांति समझना है. व्याकरण भाषा के शुद्ध एवं परिष्कृत रूप सम्बन्धी नियमोपनियमों का संग्रह है. भाषा के समुचित ज्ञान हेतु वर्ण विचार (ओर्थोग्राफी) अर्थात वर्णों (अक्षरों) के आकार, उच्चारण, भेद, संधि आदि , शब्द विचार (एटीमोलोजी) याने शब्दों के भेद, उनकी व्युत्पत्ति एवं रूप परिवर्तन आदि तथा वाक्य विचार (सिंटेक्स) अर्थात वाक्यों के भेद, रचना और वाक्य विश्लेष्ण को जानना आवश्यक है. 

वर्ण शब्द संग वाक्य का, कविगण करें विचार.
तभी पा सकें वे 'सलिल', भाषा पर अधिकार. 

वर्ण / अक्षर : 

वर्ण के दो प्रकार स्वर (वोवेल्स) तथा व्यंजन (कोंसोनेंट्स) हैं. 

अजर अमर अक्षर अजित, ध्वनि कहलाती वर्ण.
स्वर-व्यंजन दो रूप बिन, हो अभिव्यक्ति विवर्ण.

स्वर ( वोवेल्स ) :

स्वर वह मूल ध्वनि है जिसे विभाजित नहीं किया जा सकता. वह अक्षर है. स्वर के उच्चारण में अन्य वर्णों की सहायता की आवश्यकता नहीं होती. यथा - अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ऋ ए, ऐ, ओ, औ, अं, अ:. स्वर के दो प्रकार १. हृस्व ( अ, इ, उ, ऋ ) तथा दीर्घ ( आ, ई, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ, अं, अ: ) हैं. 

अ, इ, उ, ऋ हृस्व स्वर, शेष दीर्घ पहचान
मिलें हृस्व से हृस्व स्वर, उन्हें दीर्घ ले मान.

व्यंजन (कांसोनेंट्स) : 

व्यंजन वे वर्ण हैं जो स्वर की सहायता के बिना नहीं बोले जा सकते. व्यंजनों के चार प्रकार १. स्पर्श (क वर्ग - क, ख, ग, घ, ङ्), (च वर्ग - च, छ, ज, झ, ञ्.), (ट वर्ग - ट, ठ, ड, ढ, ण्), (त वर्ग त, थ, द, ढ, न), (प वर्ग - प,फ, ब, भ, म) २. अन्तस्थ (य वर्ग - य, र, ल, व्, श), ३. (उष्म - श, ष, स ह) तथा ४. (संयुक्त - क्ष, त्र, ज्ञ) हैं. अनुस्वार (अं) तथा विसर्ग (अ:) भी व्यंजन हैं. 

भाषा में रस घोलते, व्यंजन भरते भाव.
कर अपूर्ण को पूर्ण वे मेटें सकल अभाव.

शब्द :

अक्षर मिलकर शब्द बन, हमें बताते अर्थ.
मिलकर रहें न जो 'सलिल', उनका जीवन व्यर्थ.

अक्षरों का ऐसा समूह जिससे किसी अर्थ की प्रतीति हो शब्द कहलाता है. यह भाषा का मूल तत्व है. शब्द के १. अर्थ की दृष्टि से : सार्थक (जिनसे अर्थ ज्ञात हो यथा - कलम, कविता आदि) एवं निरर्थक (जिनसे किसी अर्थ की प्रतीति न हो यथा - अगड़म बगड़म आदि), २. व्युत्पत्ति (बनावट) की दृष्टि से : रूढ़ (स्वतंत्र शब्द - यथा भारत, युवा, आया आदि), यौगिक (दो या अधिक शब्दों से मिलकर बने शब्द जो पृथक किए जा सकें यथा - गणवेश, छात्रावास, घोडागाडी आदि) एवं योगरूढ़ (जो दो शब्दों के मेल से बनते हैं पर किसी अन्य अर्थ का बोध कराते हैं यथा - दश + आनन = दशानन = रावण, चार + पाई = चारपाई = खाट आदि), ३. स्रोत या व्युत्पत्ति के आधार पर तत्सम (मूलतः संस्कृत शब्द जो हिन्दी में यथावत प्रयोग होते हैं यथा - अम्बुज, उत्कर्ष आदि), तद्भव (संस्कृत से उद्भूत शब्द जिनका परिवर्तित रूप हिन्दी में प्रयोग किया जाता है यथा - निद्रा से नींद, छिद्र से छेद, अर्ध से आधा, अग्नि से आग आदि) अनुकरण वाचक (विविध ध्वनियों के आधार पर कल्पित शब्द यथा - घोडे की आवाज से हिनहिनाना, बिल्ली के बोलने से म्याऊँ आदि), देशज (आदिवासियों अथवा प्रांतीय भाषाओँ से लिए गए शब्द जिनकी उत्पत्ति का स्रोत अज्ञात है यथा - खिड़की, कुल्हड़ आदि), विदेशी शब्द ( संस्कृत के अलावा अन्य भाषाओँ से लिए गए शब्द जो हिन्दी में जैसे के तैसे प्रयोग होते हैं यथा - अरबी से - कानून, फकीर, औरत आदि, अंग्रेजी से - स्टेशन, स्कूल, ऑफिस आदि), ४. प्रयोग के आधार पर विकारी (वे शब्द जिनमें संज्ञा, सर्वनाम, क्रिया या विशेषण के रूप में प्रयोग किए जाने पर लिंग, वचन एवं कारक के आधार पर परिवर्तन होता है यथा - लड़का लड़के लड़कों लड़कपन, अच्छा अच्छे अच्छी अच्छाइयां आदि), अविकारी (वे शब्द जिनके रूप में कोई परिवर्तन नहीं होता. इन्हें अव्यय कहते हैं. इनके प्रकार क्रिया विशेषण, सम्बन्ध सूचक, समुच्चय बोधक तथा विस्मयादि बोधक हैं. यथा - यहाँ, कहाँ, जब, तब, अवश्य, कम, बहुत, सामने, किंतु, आहा, अरे आदि) भेद किए गए हैं. इनके बारे में विस्तार से जानने के लिए व्याकरण की किताब देखें. हमारा उद्देश्य केवल उतनी जानकारी को ताजा करना है जो दोहा लेखन के लिए जरूरी है. 

नदियों से जल ग्रहणकर, सागर करे किलोल.
विविध स्रोत से शब्द ले, भाषा हो अनमोल. 

इस पाठ को समाप्त करने के पूर्व श्रीमद्भागवत की एक द्विपदी पढिये जिसे वर्तमान दोहा का पूर्वज कहा जा सकता है -

नाहं वसामि बैकुंठे, योगिनां हृदये न च .
मद्भक्ता यत्र गायन्ति, तत्र तिष्ठामि नारद.

अर्थात-
बसूँ न मैं बैकुंठ में, योगी उर न निवास.
नारद गायें भक्त जंह, वहीं करुँ मैं वास. 

इस पाठ के समापन के पूर्व कुछ पारंपरिक दोहे पढिये जो लोकोक्ति की तरह जन मन में इस तरह बस गए की उनके रचनाकार ही विस्मृत हो गए. पाठकों को जानकारी हो तो बताएं. आप अपने अंचल में प्रचलित दोहे उनके रचनाकारों की जानकारी सहित भेजें. 

सरसुती के भंडार की, बड़ी अपूरब बात.
ज्यों खर्चे त्यों-त्यों बढे, बिन खर्चे घट जात. 

जो तो को काँटा बुवै, ताहि बॉय तू फूल. 
बाको शूल तो फूल है, तेरो है तिरसूल. 

होनी तो होकर रहे, अनहोनी ना होय.
जाको राखे साइयां, मर सके नहिं कोय. 

समय बिताने के लिए, करना है कुछ काम.
शुरू करो अन्त्याक्षरी, लेकर हरी का नाम. 

जैसी जब भवितव्यता, तैसी बने सहाय.
आप न जाए ताहि पे, ताहि तहां ले जाय. 
गुरुवार, १७ दिसंबर २००८ 
-------------------------------------------
ALOK SINGH "SAHIL"  -maja aa gaya ji,gajal ke bad,dohe!laajwab... 17.१२. 2008 10:31 AM
संगीता पुरी -बहुत सुंदर सुंदर दोहे पढाए....आभार।  December 17, 2008 11:30 AM
रविकांत पाण्डेय -
अच्छी कोशिश है। पारंपरिक दोहे जो दिये गए हैं उन्हे हमने प्रकारांतर से ऐसे सुना है-

जो तो को काँटा बुवै, ताहि बॉय तू फूल.
बाको शूल तो फूल है, तेरो है तिरसूल. 

"जो तोको काँटा बुवै, ताहि बोय तू फूल।
तोको फूल को फूल है, वाको है तिरसूल॥"

होनी तो होकर रहे, अनहोनी ना होय.
जाको राखे साइयां, मर सके नहिं कोय. 

"तुलसी भरोसे रामके, निरभय होके सोय।
अनहोनी होनी नहीं, होनी हो सो होय॥"


"जाको राखे साइयां, मार सके ना कोय।
बाल न बाँका कर सके, जो जग बैरी होय॥"

जैसी जब भवितव्यता, तैसी बने सहाय.
आप न जाए ताहि पे, ताहि तहां ले जाय. 

"तुलसी जस भवितव्यता, तैसी मिले सहाय।
आप न जाए ताहि पे, ताहि तहाँ ले जाय॥"  December 17, 2008 1:57 PM
devendra-वाह! बहुत कुछ सीखने को मिलेगा---अभी तो यह जाना कि जिसे मैं--अंताक्षरी--कहता था--वह अन्त्याक्षरी- है।
--देवेन्द्र पाण्डेय। December 17, 2008 6:49 PM
तपन शर्मा का कहना है कि -
कुछ ऐसी बातें सीखने को मिली जिसे हमने बचपन में पढ़ा था और अब मैं भूल चुका था... याद दिलाने के लिये शुक्रिया।
"समय बिताने के लिए, करना है कुछ काम.
शुरू करो अन्त्याक्षरी, लेकर हरी का नाम. "

ये दोहा है.. जो हम आये दिन बोलते रहते हैं..!!! कमाल है...मुझे नहीं पत था.. :-) December 17, 2008 7:02 PM
दिवाकर मिश्र  - बहुत अच्छा प्रयास प्रारम्भ किया है । पारम्परिक छन्द में लिखना हो तो दोहे से ही प्रारम्भ करना सबसे सरल है क्योंकि दूसरे छन्द (चौपाई को छोड़कर) प्रायः कठिन हैं । दूसरे यह बात कि दोहे की लय इतनी परिचित है कि मात्रा गिने बिना भी प्रायः दोहा सही बन जाता है ।  कुछ दोहों के स्रोत तो मिल ही गए हैं । पहले दोहे का हिन्दी में स्रोत तो पता नहीं पर संस्कृत में तो यह इस प्रकार है- (सम्भवतः नीतिशतक)-
अपूर्वः कोऽपि कोशोऽयं विद्यते तव भारति ।
व्ययतो वृद्धिमायाति क्षयमायाति संचयात् ॥  December 18, 2008 12:25 AM
विश्व दीपक ’तन्हा’ - दोहे तो हमारी दैनिक जिंदगी का हिस्सा हैं, भले हीं हम इससे अनभिज्ञ हों। ’सलिल जी’! इस आलेख की आने वाली कड़ियों का इंतज़ार रहेगा। वैसे मुझे इस आलेख का सबसे बड़ा फायदा यह हुआ कि मैं ह्र्स्व, दीर्घ, अन्तस्थ, ऊष्म से पुन: रूबरू हो पाया।इस आलेख के लिए आपका तहे-दिल से शुक्रिया।  December 18, 2008 9:39 PM
vivek ranjan shrivastava -वर्तमान सामाजिक परिदृश्य में ज्यादातर बच्चे अंग्रेजी माध्यम से शिक्षा पा रहे है , वे किसी तरह कक्षा १० वीं तक हिन्दी को ढ़ोते हैं , ऐसे में हिन्दी व्याकरण को समझ कर दोहे जैसे छंद पर काम करना भावी पीढ़ी के लिये कठिन है , बधाई ! कि अंतरजाल पर यह सुप्रयास संजीव जी व हिन्द युग्म द्वारा किया जा रहा है . December 19, 2008 8:15 AM
pooja anil  - प्रणाम आचार्य जी, आज ही पूरा पाठ पढ़ पाई, बेहद ज्ञान वर्धक और रुचिकर अध्याय है, हिन्दी व्याकरण का ज्ञान भारत से बाहर रहकर भूल ही गयी थी, पुनः याद दिलाने के लिए बहुत बहुत आभार. कक्षा में नियमित रहने की कोशिश करुँगी .
पूजा अनिल December 22, 2008 3:27 PM
Chauhan -its a btr try but 1st to tell me that where from u collect that i really impressed.thanks to given a best thing of hindi.  anirudha  December 23, 2008 10:27 PM 

दोहा गाथा सनातन (दोहा-गोष्ठी : १)


संस्कृत पाली प्राकृत, डिंगल औ' अपभ्रंश.
दोहा सबका लाडला, सबसे पाया अंश.

दोहा दे आलोक तो, उगे सुनहरी भोर.
मौन करे रसपान जो, उसे न रुचता शोर.

सुनिए दोहा-पुरी में, संगीता की तान. 
रस-निधि पा रस-लीन हों, जीवन हो रसखान. 

समय क्षेत्र भाषा करें, परिवर्तन रविकान्त.
सत्य न लेकिन बदलता, कहता दोहा शांत.

सीख-सिखाना जिन्दगी, इसे बंदगी मान.
भू प्रगटे देवेन्द्र जी, करने दोहा-गान.

शीतल करता हर तपन, दोहा धरकर धीर. 
भूला-बिसरा याद कर, मिटे ह्रदय की पीर.

दिव्य दिवाकर सा अमर, दोहा अनुपम छंद. 
गति-यति-लय का संतुलन, देता है आनंद. 

पढ़े-लिखे को भूलकर, होते तनहा अज्ञ.
दे उजियारा विश्व को, नित दीपक बन विज्ञ. 

अंग्रेजी के मोह में, हैं हिन्दी से दूर.
जो वे आँखें मूंदकर, बने हुए हैं सूर. 

जगभाषा हिन्दी पढ़ें, सारे पश्चिम देश.
हिंदी तजकर हिंद में, हैं बेशर्म अशेष.

सरल बहुत है कठिन भी, दोहा कहना मीत.
मन जीतें मन हारकर, जैसे संत पुनीत.

स्रोत दिवाकर का नहीं, जैसे कोई ज्ञात.
दोहे का उद्गम 'सलिल', वैसे ही अज्ञात.

दोहा-प्रेमियों की रूचि और प्रतिक्रिया हेतु आभार। दोहा रचना सम्बन्धी प्रश्नों के अभाव में हम दोहा के एतिहासिक योगदान की चर्चा करेंगे। इन्द्रप्रस्थ नरेश पृथ्वीराज चौहान अभूतपूर्व पराक्रम, श्रेष्ठ सैन्यबल, उत्तम आयुध तथा कुशल रणनीति के बाद भी मो॰ गोरी के हाथों पराजित हुए। उनकी आँखें फोड़कर उन्हें कारागार में डाल दिया गया। उनके बालसखा निपुण दोहाकार चंदबरदाई (संवत् १२०५-१२४८) ने अपने मित्र को जिल्लत की जिंदगी से आजाद कराने के लिए दोहा का सहारा लिया। उसने गोरी से सम्राट की शब्द-भेदी बाणकला की प्रशंसा कर परीक्षा किए जाने को उकसाया। परीक्षण के समय बंदी सम्राट के कानों में समीप खड़े कवि मित्र द्वारा कहा गया दोहा पढ़ा, दोहे ने गजनी के सुल्तान के आसन की ऊंचाई तथा दूरी पल भर में बतादी. असहाय दिल्लीपति ने दोहा हृदयंगम किया और लक्ष्य साध कर तीर छोड़ दिया जो सुल्तान का कंठ चीर गया। सत्तासीन सम्राट हार गया पर दोहा ने अंधे बंदी को अपनी हार को जीत में बदलने का अवसर दिया, वह कालजयी दोहा है-

चार बांस चौबीस गज, अंगुल अष्ट प्रमाण.
ता ऊपर सुल्तान है, मत चुक्कै चव्हाण.

इतिहास गढ़ने, मोड़ने, बदलने तथा रचने में सिद्ध दोहा की जन्म कुंडली महाकवि कालिदास (ई. पू. ३००) के विकेमोर्वशीयम के चतुर्थांक में है. 

मइँ जाणिआँ मिअलोअणी, निसअणु कोइ हरेइ.
जावणु णवतलिसामल, धारारुह वरिसेई..

शृंगार रसावतार महाकवि जयदेव की निम्न द्विपदी की तरह की रचनाओं ने भी संभवतः वर्तमान दोहा के जन्म की पृष्ठभूमि तैयार करने में योगदान किया हो. 

किं करिष्यति किं वदष्यति, सा चिरं विरहेऽण.
किं जनेन धनेन किं मम, जीवितेन गृहेऽण. 

हिन्दी साहित्य के आदिकाल (७००ई. - १४००ई..) में नाथ सम्प्रदाय के ८४ सिद्ध संतों ने विपुल साहित्य का सृजन किया. सिद्धाचार्य सरोजवज्र (स्वयंभू / सरहपा / सरह वि. सं. ६९०) रचित दोहाकोश एवं अन्य ३९ ग्रंथों ने दोहा को प्रतिष्ठित किया।

जहि मन पवन न संचरई, रवि-ससि नांहि पवेस.
तहि वट चित्त विसाम करू, सरहे कहिअ उवेस.

दोहा की यात्रा भाषा के बदलते रूप की यात्रा है. देवसेन के इस दोहे में सतासत की विवेचना है-

जो जिण सासण भा भाषीयउ, सो मई कहियउ सारु.
जो पालइ सइ भाउ करि, सो सरि पावइ पारू. 

चलते-चलते ८ वीं सदी के उत्तरार्ध का वह दोहा देखें जिसमें राजस्थानी वीरांगना युद्ध पर गए अपने प्रीतम को दोहा-दूत से संदेश भेजती है कि वह वायदे के अनुसार श्रावण की पहली तीज पर न आया तो प्रिया को जीवित नहीं पायेगा. 

पिउ चित्तोड़ न आविउ, सावण पैली तीज.
जोबै बाट बिरहणी, खिण-खिण अणवे खीज.

संदेसो पिण साहिबा, पाछो फिरिय न देह.
पंछी थाल्या पींजरे, छूटण रो संदेह. 

चलिए, आज की दोहा वार्ता को यहीं विश्राम दिया जाय इस निवेदन के साथ कि आपके अंचल एवं आंचलिक भाषा में जो रोचक प्रसंग दोहे में हों उन्हें खोज कर रखिये, कभी उन की भी चर्चा होगी। अभ्यास के लिए दोहों को गुनगुनाइए। राम चरित मानस अधिकतर घरों में होगा, शालेय छात्रों की पाठ्य पुस्तकों में भी दोहे हैं। दोहों की पैरोडी बनाकर भी अभ्यास कर सकते हैं। कुछ चलचित्रों (फिल्मों) में भी दोहे गाये गए हैं। बार-बार गुनगुनाने से दोहा की लय, गति एवं यति को साध सकेंगे जिनके बारे में आगे पढेंगे।   शनिवार २० दिसंबर २००८ 
___________________________
manu  -आचार्य ...आश्चर्या.....???????????????? मैं नहीं बस.....!!!!!!!
" जग सारा अपना लिया , आचार्य ने आज,
क्यूं मोहे बिसरा दिया, हूँ तोसे नाराज ""
बच्चा कक्षा से डरता है तो आप उसे भुला देंगे आचार्य....?? December 20, 2008 10:54 PM
तपन शर्मा  - पिछली बार की हर टिप्पणी पर एक एके दोहा.. कमाल है गुरु जी...  हम भी कोशिश करेंगे अगली बार दोहों में ही टिप्पणी करने की... वैसे जो दोहे आपने बताये उनसे जानकारी बहुत बढी..  December 20, 2008 10:59 PM
तपन शर्मा - हा हा...
संजीव जी के दोहों में मनु रह गये बस
आचार्य जवाब देने पर हो जायेंगे विवश... December 20, 2008 11:05 PM
संजीव सलिल  -आचार्य संजीव 'सलिल', सम्पादक दिव्या नर्मदा, संजीवसलिल.ब्लागस्पाट.कॉम / सलिल.संजीव@जीमेल.कॉम 
मनु को कौन भुला सका, रहा हमेशा याद.
लेकिन पत्ता तुरुप का, लेते सबके बाद. 

रूठे तो अच्छा किया, दिखा दिया यह आज. 
जो अपना होता वही, अपनों से नाराज.   December 21, 2008 12:22 AM
संजीव सलिल का कहना है कि -
रोना होता है भला. आँखें होतीं साफ़.
ठीक तरह से कर सकें, दोहे से इन्साफ.

मैं क्या जानूं सिखाना, स्वयं सीखता रोज.
मनु जैसे गुरु की करुँ, हिन्दयुग्म पर खोज.

बच्चा होता बाप का, बाप यही है सत्य.
क्षणभंगुर है 'सलिल' पर, 'मनु' अविनाशी नित्य.  December 21, 2008 1:53 AM
manu का कहना है कि - पहले रुलाते हैं फ़िर सबसे बड़ा चाकलेट थमा देते हैं.... प्रणाम. December 21, 2008 7:02 AM
devendra का कहना है कि -
अंग्रेजी के मोह में‌, हैं हिन्दी से दूर
जो वे आँखें मूंदकर, बने हुए हैं सूर

बने हुए हैं सूर, चाँद का सपन दिखाते
निज हाथों से आप, देश का दीप बुझाते

--अच्छे दोहों का हुआ आज और भी ग्यान
और एक में है लिखा मेरा भी तो नाम। -देवेन्द्र पाण्डेय।  December 21, 2008 10:39 AM
शोभा का कहना है कि -
दोहे की महिमा पढ़ी, हुआ हृदय को हर्ष।
हमें भूल जो सब गए, होगा ना उत्कर्ष।। December 21, 2008 1:03 PM
संजीव सलिल का कहना है कि -
शोभा से आरम्भ है, शोभा पर ही अंत.
गीतिकाव्य का रसकलश, दोहा रसिक- न संत.

गति यति रस लय भावमय, बेधकता रस-खान.
शोभा बिम्ब-प्रतीक की, 'सलिल' फूंकती जान  December 21, 2008 2:07 PM
शोभा का कहना है कि -
दिल गद् गद् है खुशी से, आंखें भी मुसकाएँ।
दोहा चर्चा युग्म पर, सलिल सदृश्य गति पाए।  December 21, 2008 5:35 PM
"SURE" का कहना है कि -
लिख कर दोहे आपने किया है हिंद का मान 
हर एक दोहे में छिपा है गहरा गहरा ज्ञान   December 21, 2008 11:14 PM
सीमा सचदेव का कहना है कि -
हुआ कया जो पिछड गई ,समय की सीमा आज
पिछडे हुए ही भूल गए ,बताया गुरु ने राज

बहा जा रहा सलिल यूं ,जयों दोहा की धार
भुला के हमको तोड दी हर सीमा की दीवार

बिन सीमा हो जाएगी ,धारा बेपरवाह
सीमाओं मे बहोगे तो , मिल जाएगी थाह   December 22, 2008 2:22 PM
निखिल आनन्द गिरि का कहना है कि -
देर हुई दरबार में, माफ करें महाराज....
दोहा-महफिल में हमें,शामिल कीजै आज...   December 22, 2008 8:01 PM
kavita का कहना है कि -
मन मेरा हर्षित हुआ...पढ़ कर दोहा आज...
वंदन मेरा स्वीकार करे..धन्य आप महाराज!!!!   May 31, 2009 5:19 PM

कोई टिप्पणी नहीं: