मंगलवार, 23 जनवरी 2018

दोहा दुनिया

शिव निष्कल निर्मल सकल,
सजा कलानिधि माथ।
कलाकोकिला उमापति,
शिव पा कला सनाथ।।
*
शिव ‌पिंडी अणु-कणमयी
रूप न जहां विकार।
सिमटे तो हो शून्य ही,
फैल अनंत-अपार।।
*
सृष्टि स्थिती संहार शिव,
तिरोभाव शिव आप।
अनुग्रह पंचम कर्म से,
शिव रहते जग-व्याप।।

ब्रम्हा को छल-दण्ड दे,
कहा न पूजन-पात्र।
पछताए विधि, क्षमा पा,
यज्ञ-पूज्य हैं मात्र।।
*
ब्रम्ह-शीश गल-माल कर,
मिटा दिया हर बैर।
भैरव भी शिव-मूर्ति हैं,
मांग रहा जग खैर।।
*
असत-संग कर केतकी,
हर-पूजन से दूर।
शापित, सत्पथ वरण कर,
हरि पूजे, मद चूर।।
*
'अउम' ॐ शिव-बीज जप,
नश्वर होंगे मुक्त।
मंत्र-जाप बिन ॐ के,
हो न सके फल-युक्त।।
*
२३.१.२०१८, जबलपुर

कोई टिप्पणी नहीं: