शनिवार, 13 जनवरी 2018

दोहा दुनिया

शिव न कर्म करते कभी,
होकर मोहाधीन।
शिव न कर्म तजते कभी,
हो भय-द्रोहाधीन।।
*
शिव जी परम प्रशांत हैं,
शिव ही परम अशांत।
काम क्रोध मद जयी हैं,
होते कभी न भ्रांत।।
*
शिव को बाहर खोज मत,
अंतर्मन में झांक।
शिव तत्त्वों का आइना,
लेकर खुद को आंक।।
*
शिव सत-सुंदर समुच्चय,
शिव ही हैं जग-प्राण।
सत्-चित्-आनंद हैं शिवा,
शिव बिन सब निष्प्राण।।
*
जो सब का शुभ सोचकर,
करता सारे काम।
सच्चा शिव-पूजक वही,
रहता सदा अनाम।।
***
१३.१.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: