सोमवार, 8 जनवरी 2018

doha

दोहा दुनिया
लज्जा या निर्लज्जता, है मानव का बोध
समय तटस्थ सदा रहे, जैसे बाल अबोध

कोई टिप्पणी नहीं: