रविवार, 7 जनवरी 2018

नवगीत संग्रह २०१६-१७

सूची: नवगीत संग्रह २०१७ 

१. लौट आया मधुमास शशि पाधा 
२. हैं जटायु से अपाहिज हम कृष्ण भारतीय 
३. मौन की झंकार संध्या सिंह 
४. धुएँ की टहनियाँ रामानुज त्रिपाठी 
५. परों को तोल शीला पांडे 
६. 
७. समय कठिन है राम चरण राग 
८. फिर उठेगा शोर एक दिन शुभम श्रीवास्तव ओम 
९. काँधों लदे तुमुल कोलाहल यतीन्द्रनाथ राही 
१०. आदमी उत्पाद की पैकिंग हुआ डॉ. मनोहर अभय 
११. भाव पंखी हंस ममता बाजपायी 
१२. किसी उत्सव या मेले में डॉ. वेदप्रकाश अमिताभ 
१३. बस्ती के भीतर अवध बिहारी श्रीवास्तव 
१४. कितनी आगे बढ़ी सदी डॉ. अनिल कुमार
१५.  
१६. धूप लेकर मुट्ठियों में मनोज जैन मधुर 
१७. अक्षर की आँखों से वेदप्रकाश शर्मा वेद 
१८. दिन क्यों बीत गए धनंजय सिंह 
१९. इस हवा को क्या हुआ रमेश गौतम 
२०. मिले सवाल नये डॉ. क्षमाशंकर पाण्डेय 
२१. गीत अपने ही सुनें वीरेन्द्र आस्तिक 
२२. सयानी आहटें हैं ब्रजनाथ श्रीवास्तव 
२३. शेष रहे आलाप गीता पंडित 
२४. तड़पन बी.एल.राही 
***
सूची: नवगीत संग्रह २०१६ 
१ कुछ बेलपत्र कुछ तुलसीदल जंगबहादुर श्रीवास्तव बंधु 
२ झील अनबुझी प्यास की रामसनेहीलाल शर्मा यायावर 
३ खेतों ने खत लिखा कल्पना रामानी 
४ दहलीज के भीतर बाहर गीता पंडित
५ अम्मा रहती गाँव में प्रदीप शुक्ल
६ अप्प दीपो भव कुमार रवीन्द्र
७ जिंदगी की तलाश में श्याम श्रीवास्तव
८ काल है संक्रांति का आचार्य संजीव वर्मा सलिल
९ यादों की नागफनी श्याम श्रीवास्तव (जबलपुर)
१० गीतांबरी मधुकर गौड़
११ बोलना सख्त मना है पंकज मिश्र अटल
१२ सच कहूँ तो निर्मल शुक्ल
१३ मुखर अब मौन है मधु प्रधान
१४ संवत बदले गणेश गंभीर
१५ मनचाहा आकाश सत्येन्द्र तिवारी
१६ रिश्ते बने रहें योगेन्द्र वर्मा व्योम
१७ जब से मन की नाव चली आकुल
१८ अँजुरी भर धूप सुरेश पांडा
१९ कितनी दूर और चलने पर सत्येन्द्र कुमार रघुवंशी
२० बूँद बूँद गंगाजल भावना तिवारी
२१ चुप्पियाँ फिर गुनगुनायीं यतीन्द्रनाथ राही
२२ फटे पाँवों में महावर संजय शुक्ल
२३ उत्तरा फाल्गुनी देवेन्द्र शर्मा इंद्र
२४ किस नगर तक आ गए हम डॉ. अजय पाठक
२५ लाल टहनी पर अड़हुल शांति सुमन

कोई टिप्पणी नहीं: