रविवार, 21 जनवरी 2018

तकनीकी आलेख:अभियांत्रिकी शिक्षा और आजीविका

तकनीकी आलेख:
अभियांत्रिकी शिक्षा, व्यवसाय और परियोजनाएँ 
आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' 
*
अभियांत्रिकी और मानव समाज 
अभियांत्रिकी मानव जीवन और समाज का अपरिहार्य अंग है। अभियांत्रिकी के बिना एक दिन भी सभ्य मानव जीवन संभव नहीं हो सकता। मानव जीवन की ३ आधारभूत आवश्यकताओं रोटी कपड़ा और मकान में से कोई भी अभियांत्रिकी के बिना पूरी नहीं हो सकती। 
रोटी अर्थात अन्न जो कृषि कर उत्पन किया जाता है। कृषि के लिए अपरिहार्य मिट्टी के गुण धर्म जानने हेतु मृदा यांत्रिकी, वांछित उर्वरक उत्पादन हेतु रसायन अभियांत्रिकी, उपकरणों के लिए यांत्रिक अभियांत्रिकी, कृषक और पशुओं के स्वाथ्य संवर्धन हेतु जैव यांत्रिकी आवश्यक है। 
कपड़ा तैयार करने के लिए कृषि यांत्रिकी, रसायन यांत्रिकी, यांत्रिक अभियांत्रिकी, नागरिक अभियांत्रिकी, विद्युत् अभियांत्रिकी, इलेक्ट्रॉनिक अभियांत्रिकी के बिना काम नहीं चल सकता। 
मकान निर्माण और संधारण नागरिक अभियांत्रिकी, विद्युत् अभियांत्रिकी, यांत्रिक अभियांत्रिकी, इलेक्ट्रॉनिक अभियांत्रिकी के बिना संभव नहीं हो सकता।  
अभियांत्रिकी शिक्षा:
अभियांत्रिकी की अनेक शाखाएँ और पाठ्यक्रम होने के बावजूद दिन-ब-दिन नई-नई शाखाओं, पाठ्यक्रमों, महाविद्यालयों के प्रारम्भ होते जाने और युवाओं द्वारा प्रवेश हेतु प्रयास करने से अभियांत्रिकी विषयों और शिक्षा की उपादेयता असंदिग्ध है। 

कोई टिप्पणी नहीं: