शनिवार, 6 जनवरी 2018

दोहा दुनिया

शिव सत के पर्याय हैं,
शिव सुंदरता लीन।
कौन न सुंदर-शिव यहाँ,
शिव में सृष्टि विलीन।।
.
अशिव न शिव बिन रह सके,
शिव न अशिव पर्याय।
कंकर को शंकर करें,
शिव रच नव अध्याय।।
.
शिव की प्राप्ति न है सहज,
मिलते बिना प्रयास।
उमा अपर्णा हो वरें,
शिव जी को सायास।।
.
शंकर हर कंटक हरें,
अमर न कंटक बोल।
अमरकंटकी की लहर,
देती अमृत घोल।।
.
मन में कल मेकल रखे,
मेकलसुता सुशांति।
कलकलकल कर नर्मदा,
हर लेती हर भ्रांति।।
.
तन-मन आनंदित करे,
प्रवह नर्मदा नीर।
दुख न दर्द बाक़ी रहे,
करें पीर बेपीर।।
.
७.१.२०१८

कोई टिप्पणी नहीं: