बुधवार, 17 जनवरी 2018

नवगीत

एक रचना:
गए साल की सासू सें
कमरा छिन गओ रे!
नए साल की दुलहन खों
कमरा मिल गओ रे!
*
गए बरस में देवर-ननदी,
तीन सौ पैंसठ रए अकरते।
परिवर्तन की भौजाई सें
बिनउ बात भी रए झगरते।
धरती अम्मा नें टोंका तो
बिन शरमाए बोले: 'हओ रे!
*
कोसिस चूला फूँक जला रए, 
हर नेकी खों तुरत भुला रए।
खैनी-गुटका साँप बिसैलो
लगा गले सें हात झुला रए।
सब मिट गओ तो कलपें
दैया! जे का हो रओ रे!
*
टके सेर है मोल फसल को
ब्याज नें पूजे, भूल असल को।
नेता-अफसर-सेठ डकारें
बीज नें बाकी रओ नसल को।
अब लों कबऊ नें जैसो भओ थो
अब उसईं भओ रे!
*
सूरज डुकरो झाँक ने पाए
बंद खिड़किया सँग किवाड़े।
चैन ने पा रओ तन्नक कोनौ
रो रए पिछड़े संग अगाड़े।
बादे झुठलाउत जुमला कै
हरिस्चंद् खुद को कै रओ रे!
*
जंगल काट, पहाड़ खोद,
तालाब पूर खें सड़क बना रए।
कर बिनास बोलें बिकास बे
कुरसी अपनी आप भुना रए।
जन की छाती, होरा भूंजे तंत्र
कैत जनतंत्र नओ रे!
*
गए साल की सासू सें
कमरा छिन गओ रे!
नए साल की दुलहन खों
कमरा मिल गओ रे!
****

कोई टिप्पणी नहीं: