बुधवार, 3 जनवरी 2018

doha

दोहा दुनिया
रवि शशि जैसा लग रहा, उषा गुलाबी पीत
धुआँ-धुआँ चहुँ ओर है, गीत गुँजाती शीत

कोई टिप्पणी नहीं: