सोमवार, 4 दिसंबर 2017

bundeli laghu katha

बुन्देली लघुकथाएँ

प्रदीप शशांक 
१. लालच 
-------------
'काय ,सुनो तो जरा, हमका ऊ कलेंडर मा देखेके बतावा कुम्भ ,सोमवती अमावस्या ,कारतक पूरनिमा कौनो तारीख मा पड़ रई आय?'
गोपाल ने अपनी बीवी की ओर अचरज से देखत भये पूछी -- 'तुमको का करने है ई सब जानके ?' 
कछु नई हम सोचत हते कि कौनो ऐसे परब के नजदीक मा सासु मां को तीरथ के लाने भिजवाई दें , मांजी को तीरथ भी हो जायगो और भीड़-भाड़ की भगदड़ मा दब-दबाकर बुढ़िया मर जावे तो सरकार से हम औरन को मुआवजा में एक लाख रुपइया भी मिल जेहे और बुढ़िया से मुक्ति ।
गोपाल हतप्रभ हो अपनी बीवी की आँखन में लालच की चमक देखत रह गओ । 
*** 
2--- जागरूकता 
----------------
आदिवासी जिला के सरकारी अस्पताल में दो दना से औरतों को नसबन्दी शिविर चल रहो थो । ऊ शिविर में नसबन्दी करावे के काजे औरतन की बहुत भीड़ हती ।उ न में परिवार नियोजन के लाने बढ़ती जागरूकता से डागदर भी मन ही मन बहुत खुश हो रओ थो
उत्सुकतावश डाक्टर ने मजदूर औरत से नसबन्दी करावे को कारन पूछो तो बा बोली:अरे डागदर साब! कछु मत पूछो ,हम मजदूरी करवे जात है तो ठेकेदार परेशान करत है और फिर नों महीना तक ओको पाप हम औरन को भोगवे पड़त है । ई बीच मा मजदूरी भी नाही मिलत हती, सो हमें और हमरे बच्चों को भूखे मरवे की नोबत आ जात थी । ऐई से ई सब झंझट से मुक्ति पावे हम ओरें नसबन्दी करवा रए हैं । 
डॉक्टर उन की जागरूकता का रहस्य जानकर अवाक रह गए । 
***

३. ठगी 
---------- 
" काय कलुआ के बापू, इत्ती देर किते लगाये दई? वा नेता लोगन की रैली तो तिनै बजे बिला गई हती ना? सौ रुपैया तो मिलइ गए हुइहें? " 
रमुआ कुछ देर उदास बैठा रहा फिर उसने बीवी से कहा -- " का बताएं इहां से तो बे लोग लारी में भरकर लेई गए थे और कई भी हती थी कि रैली खतम होत ही सौ-सौ रुपइया सबई को दे देहें ,मगर उन औरों ने हम सबई को ठग लऔ । मंत्री जी की रैली खतम होवे के बाद सबई को धता बता दओ । हम ओरें शहर से गांव तक निगत-निगत आ रए हैं । बा लारी में भी हम औरों को नई बैठाओ । बहुतै थक गए हैं । आज की मजूरी भी गई और कछु हाथे न लगो ,अब तो तुम बस एकइ लोटा भर पानी पिलाए देओ,ओई से पेट भर लेत हैं।" 
रमुआ की बीवी ऐसे ठगों को बेसाख्ता गाली बकती हुई अंदर पानी लेने चली गई ।
*** 
४. आस का दीपक 
--------------------- 
" आए गए कलुआ के बापू! आज तो अपन का काम होइ गओ हुईए''  कहत भई बाहर निकरी  तो आदमी के मूँ पे छाई मुर्दनी देखतई  खुशी से खिला उसका चेहरा पीलो पड़ गओ । 
रघुवा ने उदास नजरों से अपनी बीवी को देखा और बोला- " इत्ते दिना से जबरनई तहसीलदार साहब के दफ्तर के चक्करवा लगाए रहे, आज तो ऊ ससुरवा ने हमका दुत्कार दियो और कहि कि तुमको मुआवजा की राशि मिल गई है ,ये देखो तुम्हारा अंगूठा लगा है इस कागज़ पर और लिखो है कि रघुवा ने २५०० रुपैया पा लए । " 
जिस दिन से बाबू ने आकर रघुवा से कागद में अंगूठा लगवाओ हतो और कही हती कि सरकार की तरफ से फसल को भये नुकसान को मुआवजा मिल हे , तभई से ओकी बीवी और बच्चे के मन में दिवाली मनावे हते एक आस का दीपक टिमटिमाने लगा था , लेकिन बाबुओं के खेल के कारण उन आंखों में जो आस का दीपक टिमटिमा रहा था वह जैसे दिए में तेल सूख जाने के कारण एकाएक ही बुझ गया । 

*** 
 

कोई टिप्पणी नहीं: