गुरुवार, 26 जुलाई 2018

muktak

मुक्तक
गए मिलने गले पड़ने नहीं,पर तुम न मानोगे. 
दबाने-काटने के जुर्म में, बंदूक तानोगे.
चलाओ स्वच्छ भारत का भले अभियान हल्ला कर-
सियासत कीचड़ी कर, हाथ से निज पंक सानोगे
*

कोई टिप्पणी नहीं: