गुरुवार, 26 जुलाई 2018

dwipadi: pani

द्विपदी 
पानी  
*
न बारिश तुम इसे समझो, गिरा है आँख से पानी. 
जो आहों का असर होगा, कहाँ जाओगे ये सोचो.

कोई टिप्पणी नहीं: