शनिवार, 28 जुलाई 2018

doha

एक दोहा
खोज-खोजकर थक गया, किंतु मिला इस सा न।
और सभी कुछ मिला गया, मगर मिला उस सा न।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: