बुधवार, 25 जुलाई 2018

मुक्तक

मुक्तक 
रंग इश्क के अनगिनत, जैसा चाहे देख
लेखपाल न रख सके लेकिन उनका लेख
जी एस टी भी लग नहीं सकता, पटको शीश -
खींच न लछमन भी सकें, इस पर कोई रेख
*

कोई टिप्पणी नहीं: