शनिवार, 28 जुलाई 2018

doha

दोहा सलिला:
जब तक मन उन्मन न हो, तब तक तन्मय हो न।
शांति वरण करना अगर, कुछ अशांति भी बो न।।
*




कोई टिप्पणी नहीं: