सोमवार, 23 जुलाई 2018

दोहा सलिला:

करी निछावर देश पर, हँसते-हँसते जान।
युगों-युगों आजाद का,  गूँज गौरव-गान।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: