शनिवार, 28 जुलाई 2018

doha

एक दोहा 
तब तक कुछ मिलता कहाँ, जब तक तुम कुछ खो न।
दूध पिलाती माँ नहीं, बच्चा जब तक रो न।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: