बुधवार, 25 जुलाई 2018

muktak

एक मुक्तक 
भाव- अभावों का है तालमेल दुनिया 
ममता मन में धार अकेले चल दे तू 
गैरों में भी तुझको मिल जाएँ अपने 
अपनापन सिंगार साजकर चल दे तू 
***

कोई टिप्पणी नहीं: