शनिवार, 28 जुलाई 2018

doha

एक दोहा
एक दोहा
गँवा नहीं सकते कभी, जब तक लें कुछ पा न।
अधर अधर से मिल रचे, जब खाया हो पान।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: