शनिवार, 28 जुलाई 2018

दोहा सलिला: गुरु

गुरु पर दोहे:
*
जग-गुरु शिव शंकारि हैं, रखें अडिग विश्वास।
संग भवानी शक्ति पर, श्रद्धा बरती त्रास।।
*
गुरु गिरि सम गरिमा लिए, रखता सिर पर हाथ।
शिष्य वही कुछ सीखा,  जिसका नत हो माथ।।
*
गुरुघंटाल न हो कहीं, गुरु रखिए यह ध्यान।
तन-अर्पित मत कीजिए, मन से करिए मान।।
*
गुरु-वंदन कर ध्यान से, सुनिए उसके बोल।
ग्यान-पिटारी से मिलें, रत्न तभी अनमोल।।
*
गुरु से करिए प्रश्न हो, निज जिग्यासा शांत।
जो गुरु की ले परीक्षा, भटके होकर भ्रांत।।
*
मात्र एक दिन गुरु सुमिर, मिले न पूरा ग्यान।
गुरु सुमिरन कर सीख नित, दुहरा तज अभिमान।।
*
सूर्य-चंद्र की तरह ही, हों गुरु-शिष्य हमेश।
इसकी ग्यान-किरण करे, उसमें विकल प्रवेश।।
*
गुरु-प्रति नत शिर नमन कर, जो पाता आशीष।
उस पर ईश्वर सदय हों, बनता वही मनीष।।
*
अंध भक्ति से दूर रह, भक्ति-भाव हर काल।
रखिए गुरु के प्रति सदा, दोनों हों खुशहाल।।
*
गुरु-मत को स्वीकारिए, अगर रहे मतभेद।
नहीं पनपने दीजिए, किंचित भी मनभेद।।
*
नया करें तो मानिए,  गुरु का ही अाभार।
भवन तभी होता खड़ा, जब गुरु दें आधार।।
***
28.7.2018, 7999559618
salil.sanjiv@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं: