शुक्रवार, 27 जुलाई 2018

ek doha

एक दोहा:
रह प्रशांत रच छंद तो, शुभ प्रभात हो आप
गौरैया कलरव करे, नाद सके जग व्याप 
***

कोई टिप्पणी नहीं: