बुधवार, 25 जुलाई 2018

दोहा संतूर

दोहाः
छूट गया क्यों हाथ से, श्वासों का संतूर
प्यासी आसें रह गयीं, मन्जिल भी है दूर..

कोई टिप्पणी नहीं: