शनिवार, 5 अगस्त 2017

rason ke sanchari bhav

रसों के संचारी भाव
०१. निर्वेद
०२. ग्लानि
०३. शंका
०४. असूया
०५. मद
०६. श्रम
०७. आलस्य
०८. दैन्य
०९. चिन्ता
१०. मोह
११. स्मृति
१२. धृति
१३. व्रीडा
१४. चपलता
१५. हर्ष
१६. आवेग
१७. जडता
१८. गर्व
१९. विषाद
२०. औत्सुक्य
२१. निन्द्र
२२. अपस्मार
२३. सोना
२४. जागना
२५. क्रोध
२६. अवहित्था [लज्जा के कारण आकार गोपन]
२७. उग्रता
२८. मति
२९. व्याधि
३०. उन्माद
३१. मरण
३२. त्रास
३३. वितर्क

कोई टिप्पणी नहीं: