गुरुवार, 10 अगस्त 2017

दोहा

रिश्ते रिसते घाव से, देते पल-पल दर्द.
मगर न हों तो ज़िन्दगी, लगती तनहा-ज़र्द.

कोई टिप्पणी नहीं: