रविवार, 13 अगस्त 2017

muktak

मुक्तक सलिला:
निरुपमा की उपमा कैसे शब्द कहेंगे?
अपनी अक्षमता पर लज कर मौन रहेंगे।
कसे कसौटी पर कवि बार-बार शब्दों को-
पूर्ण न तब भी, आंशिक ही कह 'वाह' गहेंगे।
*
असमय ही बिन खिले फूल कुछ मुरझाये,
मौसम कैसे हँसे, कहें कैसे गाये?
दोषी जो उनको भी ऐसी पीड़ा हो-
ईश्वर मंत्री, सचिव, प्रशासन दुःख पाए
*
आह निकलती मुख से, आँसू नैनों में.
जाएँ नर्क में जो झूठे हैं बैनों में।
जन जागे, नेताओं-अधिकारी को कुचले-
शर्म न किंचित भी है जिनके सैनों में। .......
*
salil.sanjiv@gmail.com, ९४२५१८३२४४
http://divyanarmada.blogspot.com 
#हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: