स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

शुक्रवार, 25 अगस्त 2017

doha

श्री गणेश २
*
गणपति 'निजता' भेंट ले, आए हैं इस साल.
अधिकारों की वृद्धि पा, हो कर्तव्य निहाल.
*
जनगण बढ़ते भाव से, नाथ हुआ बेहाल.
मिटे हलाला शेष हैं, अब भी कई सवाल.
*
जय गणेश! पशुपति! जगो, चीन रहा हुंकार.
नगपति लाल न हो प्रभु!, दो रिपुओं को मार.
*
गणाध्यक्ष आतंक का, अब तो कर दो अंत.
भारत देश अखंड हो, विनती सुन लो कंत.
*
जाग गजानन आ बसों, मन-मंदिर में नित्य.
ऋद्धि-सिद्धि हो संग में, दर्शन मिले अनित्य.
***
छंद - दोहा
salil.sanjiv@gmail.com
http://divyanarmada.blogspot.com
#हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: