स्तम्भ menu

Drop Down MenusCSS Drop Down MenuPure CSS Dropdown Menu

मंगलवार, 1 अगस्त 2017

muktak

मुक्तक
बन के अपना पराया तुमने किया
हमने चुप हो ज़हर का घूँट पिया
हों जो तूफ़ान हार जाओगे-
जलेंगे दिल में तेरे बन के दिया
*****
१-८-२०१६
salil.sanjiv@gmail.com
#divyanarmada.blogspot.com
#दिव्यनर्मदा
#हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: