गुरुवार, 31 अगस्त 2017

doha

एक दोहा
*
भूल भुलाई, भूल न भूली, भूलभुलैयां भूली भूल.
भुला न भूले भूली भूलें, भूल न भूली भाती भूल.
*

कोई टिप्पणी नहीं: