गुरुवार, 10 अगस्त 2017

दोहा

पूर्ण इंदु लख गगन में, शिशु रवि सोचे मौन.
अब तक था मैं अकेला, सूजा आया कौन?

कोई टिप्पणी नहीं: