मंगलवार, 29 अगस्त 2017

आज की बात

कल से नयी पारी आरम्भ हो गई-शासकीय कला निकेतन पोलीटेक निक में पदार्थ तकनीकी मटीरियल टैकनालाजी पढाना आरम्भ कर दिया.
.
बाबा राम रहीम को, 
गोली मारो यार.
सीख-सिखाये कुछ नया,
स्वप्न करें साकार.
.
सु मन रहे तो ही गहे,
श्री वास्तव मे आप.
सुमन सुरभि सम कीर्ति-यश,
जाए जग में व्याप.
.
सिंधु-सायना ने किया,
असामान्य संघर्ष.
महिला जीवट को मिला,
एक और उत्कर्ष.
.
सीमा से संदेश है,
रहिये सदा सतर्क.
शान्ति शक्ति से ही रहे,
करें न व्यर्थ कुतर्क.
.
नन्हा दीपक भी सके,
विपुल अन्धेरा लील.
न्यायिक देरी को कफ़न,
मिले ठोंक दें कील.
.
अवध शरण अवधेश को,
देकर है न प्रसन्न.
रामालय में राज्य हो,
रहे न कोई विपन्न.
.
सुषमा तभी स्वराज की,
जब प्रभु हो हर आम.
सेवक प्रथम नरेंद्र हो,
काम करे निष्काम.
.

कोई टिप्पणी नहीं: