सोमवार, 28 अगस्त 2017

छंद सीखें- गीतिका

छंद शाला
.
नाम क्या इस छंद का बतलाइए?
समझकर फ़िर अन्य को समझाइए.
रच सकें तो सौ गुना आनंद हो-
सिखा कर शारद कृपा भी पाइए.
.
गीतिका रचना सरल है, कवि न यह व्यायाम है.
भाव रस लय बिम्ब गति यति, युक्त नव आयाम है.
छवि अलंकारित सुभाषा, ध्वनि निनादित नर्मदा.
काम माया मोह तज कर,  कर्म केवल धर्मदा.
.

कोई टिप्पणी नहीं: