शनिवार, 4 नवंबर 2017

naye chhand 23

हिन्दी के  नए छंद २३ 
*
प्रस्तुत छंद के समान मात्रिक-वर्णिक पदभार गति-यति युक्त छंद यदि आपने पढ़े हों तो कृपया, उनका सन्दर्भ, विधान व उदाहरण salil.sanjiv@gmail.com पर भेजें। 
नव रचनाकार इन छंदों का अभ्यास करें। 
चलें, आ अकेले, लगाना न मेले, न होंगे झमेले, चलें आ चलें। 
बढ़ेंगे वही जो चलेंगे-गिरेंगे, उठेंगे-बढ़ेंगे, चलें आ चलें।।
मिलेंगे उन्हीं से, न जो गैर हैं, जो रहे साथ देते हमेशा खड़े ।
कहेंगे कहानी, न बातें बनानी, बचे छंद लाखों चलो भी लिखें।।
***
salil.sanjiv@gmail.com, ७९९९५५५९६१८
www.divyanarmada.in, #हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: