शनिवार, 18 नवंबर 2017

doha deep

दोहा दीप:  
सुमन सदृश जो महकते, उन पर सलिल निसार
दोहा-दोहा दमकता, दीपित दिया उदार

कोई टिप्पणी नहीं: