शुक्रवार, 3 नवंबर 2017

kavita- diya

दिया :
सारी ज़िन्दगी
तिल-तिल कर जला.
फिर भर्र कभी
हाथों को नहीं मला.
होठों को नहीं सिला.
न किया शिकवा गिला.
आख़िरी साँस तक
अँधेरे को पिया
इसी लिये तो मरकर भी
अमर हुआ
मिट्टी का दिया.
***********************
salil.sanjiv@gmail.com, ७९९९५५९६१८
www.divyanarmada.in. #हिंदी_ब्लॉगर

कोई टिप्पणी नहीं: