रविवार, 19 नवंबर 2017

ghanaksharee

घनाक्षरी
मेरा पूरा परिचय, केवल इतना बेटा, हिंदी माता का हूँ गाता, हिंदी गीत हमेशा। चारण हूँ अक्षर का, सेवक शब्द-शब्द का, दास विनम्र छंद का, पाली प्रीत हमेशा।। नेह नरमदा नहा, गही कविता की छैया, रस गंगा जल पीता, जीता रीत हमेशा। भाव प्रतीक बिंब हैं, साथी-सखा अनगिने, पाठक-श्रोता बाँधव, पाले नीत हमेशा।।
*

कोई टिप्पणी नहीं: