गुरुवार, 16 नवंबर 2017

दोहा

ले-देकर सुलझा रहे,
मंदिर-मस्जिद लोग.
प्रभु के पहले लग रहा,
भक्तो को ही भोग.

कोई टिप्पणी नहीं: