रविवार, 19 नवंबर 2017

muktak

मुक्तक
सूरज आया, नभ पर छाया धरती पर सोना बिखराया जग जाग उठा कह शुभ प्रभात खग-दल ने गीत मधुर गाया
*

कोई टिप्पणी नहीं: