मंगलवार, 14 नवंबर 2017

doha

दोहा दुनिया

चंपा तुझ में तीन गुण ,रूप ,रंग और बास 

अवगुण केवल एक है ,भ्रमर ना आवै पास 



चंपा बदनी राधिका भ्रमर कृष्ण का दास 

निज जननी अनुहार के भ्रमर न जाये पास


इन दोनों दोहों के दोहाकारों के नाम भूल गया हूँ. बताइये

कोई टिप्पणी नहीं: