रविवार, 19 नवंबर 2017

doha

एक दोहा 
शब्द-सुमन शत गूंथिए, ले भावों की डोर 
गीत माल तब ही बने, जब जुड़ जाएँ छोर

कोई टिप्पणी नहीं: