गुरुवार, 16 नवंबर 2017

नीति का दोहा

मन की मन में ही रखो,
सबसे कहो न बात.
साथ न तम में छाँव दे,
अपने करते घात.

कोई टिप्पणी नहीं: